Home > ख़बरें > सेना के ऑपरेशन के बाद नक्सल इलाके से जो मिला, उसे देख खुफिया एजेंसियों समेत सेना भी सन्न

सेना के ऑपरेशन के बाद नक्सल इलाके से जो मिला, उसे देख खुफिया एजेंसियों समेत सेना भी सन्न

naxal-mortar

नई दिल्ली : 60 सालों तक कांग्रेस शासन में देश के हालात कितने गंभीर हो चुके हैं, इसका अंदाजा इस खबर को पढ़कर आपको हो जाएगा. देश के अंदर से ही देश के टुकड़े-टुकड़े करने की बड़ी साजिश का पर्दाफ़ाश हुआ है और साथ ही ऑपरेशन करके देशद्रोहियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया गया है. मोदी सरकार यदि नहीं आती तो देश में क्या-क्या होता, ये देख आपके होश उड़ जाएंगे.


500 जवानों ने ध्वस्त किया नक्सली ट्रेनिंग सेंटर

सीआरपीएफ जवानों पर हमले के बाद से मोदी सरकार ने नक्सलियों के खिलाफ सख्त रुख इख्तियार किया हुआ है. नक्सलियों को जड़ से उखाड़ने के फरमान जारी किये हुए हैं. हालांकि वामपंथी और कोंग्रेसी तो नक्सलियों को भी भटके हुए लोग बता देती है. मगर इस बार सुरक्षाबलों को नक्सलियों के पास से जो बरामद हुआ है, उसे देख सभी हैरान हैं.

बीएसएफ, एसटीएफ और छत्तीसगढ़ पुलिस बल की संयुक्त टीम के लगभग 500 जवानों ने इंटर डिस्ट्रिक जॉइंट ऑपरेशन ‘शौर्य 142’ के तहत छत्तीसगढ़ के कांकेर-नारायणपुर जिले की सीमा पर घने जंगल व पहाड़ी के बीच चल रहे नक्सली ट्रेनिंग सेंटर को ध्वस्त करने में सफलता पाई है.

नक्सलियों के पास मोर्टार व नाइट विजन

इस नक्सली ट्रेनिंग ट्रेनिंग सेंटर से हथियारों के जखीरा के साथ लाखों रुपए का सामान बरामद तो हुआ ही है, मगर साथ में मोर्टार व नाइट विजन भी बरामद हुए हैं, जिसका इस्तमाल अभी तक केवल सेना ही करती थी. जिले में पहली बार मोर्टार जैसे खतरनाक हथियार बरामद हुए हैं.

बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि मासूम बताये जाने वाले इन लोगों के पास आखिर मोर्टार कहाँ से आ गए? और आखिर इन मोर्टार के जरिये ये करना क्या चाहते थे? अपनी खुद की सेना बना रहे थे क्या? और नाइट विजन इनके पास कैसे आ गए? जाहिर सी बात है कि ये कोई मासूम लोग नहीं बल्कि इसके पीछे देश के बड़े गद्दारों और विदेशी ताकतों का हाथ भी शामिल है.

नक्सली हैं या किसी देश की सेना?

बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा ने शुक्रवार को एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया कि जानकारी मिली थी कि ट्रेनिंग सेंटर में रावघाट व परतापुर एरिया कमेटी के नक्सली सक्रिय हैं. 23 अक्टूबर को कांकेर व नारायणपुर जिले का पुलिस बल, बीएसएफ व एसटीएफ की टीम संयुक्त टीम रवाना हुई, जिसमे 8 थानों के थाना प्रभारी भी शामिल थे. 45 किलोमीटर का सफर कर ये टीम नक्सली ट्रेनिंग सेंटर तक पहुंची.


नक्सलियों की ओर से भारी गोलीबारी की गयी. करीब 15 मिनट की भुठभेड़ के बाद ही नक्सली भाग खड़े हुए. कुछ नक्सलियों के घायल होने की जानकारी भी है. जिले में पहली बार 51 इंच मोर्टार व नाइट विजन बरामद हुए है. साथ ही राकेट लांचर, हैंड ग्रेनेड, भरमार बंदूकें, मस्केट रायफल, 12 बोर बंदूक, एयरगन, एयर पिस्टल, डेटोनेटर, जिलेटिन, कई किलो बारूद, नाइट विजन, रिमोट कंट्रोल, रिमोट सायरन, स्टैब्लाइजर, सेट चार्जर, कार्डेवस वायर, इलेक्ट्रिक वायर, क्लेक इंक कार्टिज, बुवी डेप्स सेल बरामद हुए हैं.

पिछली सरकारों ने नक्सलियों को पाला

ऐसा लग रहा है कि मानों किसी देश की सेना के ठिकाने पर जा पहुंचे हों. इतने घातक हथियार और वो भी देश के अंदर जंगलों के बीच? 60 सालों से इन नक्सलियों को आखिर पाला क्यों जा रहा था? नक्सलियों के ठिकाने से भारी मात्रा में दैनिक उपयोग का सामान, पानी के ड्रम, टंकी, बर्तन व खाद्य सामग्री आदि भी बरामद हुए है. बताया जा रहा है कि नक्सली सामान को तुरंत मौके पर ही नष्ट कर दिया गया.

बस्तर आईजी ने बताया कि मोर्टार व नाइट विजन तो सुरक्षा बलों के पास ही होता है. हो सकता है कि नक्सलियों ने सुरक्षाबलों से इन्हे लूट लिया हो, हालांकि इसे कहां से लूटा गया है, यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है. 51 इंच मोर्टार व नाइट विजन कांकेर जिले में पहली बार बरामद हुआ है.

कोंग्रेसियों का बस चले तो देश के टुकड़े करवा दें

ध्वस्त किए नक्सली ट्रेनिंग सेंटर से बड़ी मात्रा में नक्सली साहित्य बरामद किया गया है. इनमें अधिकांश साहित्य तेलगू भाषा के हैं. साथ ही लाल सलाम झंडा, मेडिकल सामान, कांकेर का मानचित्र, नक्सली झंडा आदि भी बरामद हुआ है.

इससे स्पष्ट होता है कि नक्सलियों की ताकत कितनी बढ़ चुकी है. इन्हे दशकों तक राजनीतिक इस्तमाल के लिए पाला-पोसा गया है. बेशर्मी का आलम तो देखिये, कि सत्ता से जाने के बावजूद कोंग्रेसी कश्मीर की आजादी का समर्थन कर रहे हैं, वो भी कोई आम नेता नहीं बल्कि पूर्व वित्तमंत्री चिदंबरम जैसा नेता.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 886 048 9736 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments