Home > ख़बरें > मोदी सरकार के तीन साल: जानिए #DDBharti के ताजा सर्वे में अभी चुनाव हो तो किसकी बन सकती है सरकार ?

मोदी सरकार के तीन साल: जानिए #DDBharti के ताजा सर्वे में अभी चुनाव हो तो किसकी बन सकती है सरकार ?

election-survey

नई दिल्ली : 26 मई को मोदी सरकार के तीन साल पूरे हो रहे हैं. पिछले तीन सालों में कैसा रहा मोदी सरकार का काम? देश के लोगों का क्या सोचना है इस बारे में? क्या आज चुनाव हो जाएँ तो लोग मोदी को वोट देंगे? इन्ही बातों का पता लगाने के लिए और देश में मूड को समझने के लिए हमने अलग-अलग इलाकों में हजारों लोगों से बातचीत करके और सोशल मीडिया में लोगों की प्रतिक्रया जानने की कोशिश की.

पूर्वी भारत का क्या है मानना ?

बिहार, बंगाल, ओडिशा, झारखंड, पूर्वोत्तर के राज्यों में लोगों से बात करने पर यहाँ के लोग मोदी सरकार के अब तक के कामकाज से खुश नजर आये. सर्वे के मुताबिक यदि अभी चुनाव हो जाएँ तो पूर्वी भारत के 142 सीटों में एनडीए को 74, यूपीए को 22 और अन्य दलों को 46 सीटें मिलने की संभावना है. यानी 2014 के लोकसभा चुनाव की तुलना में पूर्वी भारत में एनडीए को करीब 19 सीटें अधिक मिल सकती हैं.

यदि अभी चुनाव हो जाएँ तो 44 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वो एनडीए को अपना वोट देंगे. वहीँ 21 प्रतिशत लोगों ने यूपीए को और 35 प्रतिशत लोगों ने अन्य दलों को वोट देने की बात की. ख़ास बात ये रही कि 2014 की तुलना में पूर्वी भारत में एनडीए का वोट शेयर करीब 16 प्रतिशत बढ़ रहा है.

उत्तर भारत में क्या है हाल ?

वहीँ यूपी, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली में किये गए सर्वे के मुताबिक मोदी सरकार को थोड़ा नुकसान होता दिख रहा है. सर्वे के मुताबिक उत्तर भारत की कुल 151 सीटों में एनडीए को 120, यूपीए को 11 और अन्य दलों को 20 सीटें मिलने की संभावना है. यानी 2014 की तुलना में एनडीए को 11 सीटों का नुक्सान होता दिख रहा है.

सर्वे के मुताबिक 54 प्रतिशत लोगों ने एनडीए को, 14 प्रतिशत लोगों ने यूपीए को और 32 प्रतिशत लोगों ने अन्य दलों को वोट देने की बात कही. यानी देखा जाए तो एनडीए का वोट शेयर करीब 10 प्रतिशत बढ़ता हुआ दिख रहा है लेकिन लेकिन करीब 11 सीटें कम हो सकती हैं.

पश्चिम-मध्य भारत में किसका चल रहा है जादू ?

महाराष्ट्र, गुजरात, एमपी, छत्तीसगढ़ में किये गए सर्वे के मुताबिक एनडीए को 108, यूपीए को 9 व् अन्य को एक सीट मिल सकती है. सर्वे के दौरान 58 प्रतिशत लोगों ने एनडीए को, 34 प्रतिशत लोगों ने यूपीए को और 8 प्रतिशत लोगों ने अन्य दलों को वोट देने की बात कही.

दक्षिण भारत का क्या मानना है ?

तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र, तेलंगाना, केरल में सर्वे के मुताबिक एनडीए को दो सीट का नुकसान होते दिख रहा है. कुल 132 सीटों में एनडीए को 38 सीट, यूपीए को 50 सीटें, अन्य को 44 सीटें मिलने की संभावना दिख रही है. 2014 की तुलना में फिलहाल यूपीए की सीटों में भारी बढ़ोत्तरी दिखाई दे रही है. यूपीए को 27 सीटें ज्यादा मिलती दिख रही हैं.

सर्वे के मुताबिक तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र, तेलंगाना, केरल में एनडीए के वोट शेयर में बढ़ोत्तरी दिख रही है मगर सीटें यूपीए को ज्यादा मिलती दिख रही हैं. एनडीए को 34 प्रतिशत, यूपीए को 33 प्रतिशत और अन्य दलों को भी 33 प्रतिशत वोट शेयर मिलने की उम्मीद दिख रही है.

किसका जलवा है पूरे देश में ?

यानी सर्वे के अनुसार पीएम मोदी का जलवा अभी तक बरकरार है और यदि अभी चुनाव हो जाएँ तो कुल 543 सीटों में से 340 सीटों पर एनडीए का परचम लहराता दिख रहा है. 2014 लोकसभा चुनाव में एनडीए ने 336 सीटें हासिल की थी. वहीँ यूपीए को 92 और अन्य दलों को 111 सीटें मिलने की संभावना है. 2014 में यूपीए के खाते में केवल 60 सीटें ही आयी थी.

सर्वे के मुताबिक़ अभी चुनाव होने की सूरत में बीजेपी अभी भी पूर्ण बहुमत की सरकार बना सकती है और मोदी एक बार फिर से प्रधानमंत्री बन सकते हैं. हालांकि सर्वे के मुताबिक़ 2014 की तुलना में यूपीए भी बेहतर प्रदशन कर रही है और उसकी 32 सीटें बढ़ने की उम्मीद है. अन्य दलों को काफी सीटों का नुक्सान होता दिख रहा है.

साथ ही पीएम मोदी की लोकप्रियता भी अब काफी बढ़ चुकी है, ना केवल उत्तर भारत में बल्कि पूर्वी और दखिन भारत में भी लोगों को पीएम मोदी का काम पिछली सरकारों की तुलना में काफी पसंद आ रहा है. ज्यादातर लोगों ने प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी पहली पसंद नरेंद्र मोदी को ही बताया.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments