Home > ख़बरें > हैलो मोदी जी, योगी आदित्‍यनाथ को फाइनल कर दीजिए, जानिये किसके एक कॉल ने रच दिया इतिहास

हैलो मोदी जी, योगी आदित्‍यनाथ को फाइनल कर दीजिए, जानिये किसके एक कॉल ने रच दिया इतिहास

modi-bhagwat-phone-call

नई दिल्ली : बीजेपी के कद्दावर नेता योगी आदित्यनाथ यूपी के सीएम बन चुके हैं. उनके साथ-साथ यूपी में पहली बार दो उप-मुख्‍यमंत्री भी बनाये गए हैं. यूपी चुनाव में जीत मिलने के फ़ौरन बाद खबर आनी शुरू हो गयी थी कि केशव प्रसाद मौर्या सीएम पद की दौड़ में आगे चल रहे हैं. इसके बाद मनोज सिन्हा का नाम भी सामने आया. लेकिन बिलकुल आखिरी वक़्त में ऐसा क्या हुआ कि सारा खेल ही पलट गया और योगी आदित्यनाथ को यूपी का सीएम घोषित कर दिया गया?


एक फ़ोन कॉल ने पलटा सारा गणित !

पार्टी के सूत्रों के मुताबिक़ शनिवार को पीएम मोदी के पास एक फ़ोन आया, जिसके फ़ौरन बाद उन्होंने योगी आदित्यनाथ का नाम सीएम पद के लिए फ़ाइनल कर दिया. ऐसे में ये सवाल उठना लाजमी है कि आखिर कौन है इतना पावरफुल व्यक्ति जिसके एक कॉल ने सियासत का सारा गणित उलट दिया? जानकारी के मुताबिक़ ये फ़ोन कॉल किसी और ने नहीं बल्कि खुद आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने किया था.

मोहन भगवत ने ही पीएम मोदी को फ़ोन करके योगी को यूपी का सीएम बनाने के लिए कहा. सूत्रों के मुताबिक़ इस कॉल के बाद पीएम मोदी ने योगी को दिल्ली आने के लिए बुलावा भेजा और फ़ौरन चार्टर प्लेन से योगी दिल्ली पहुचे.

प्राप्त हुई जानकारी के मुताबिक़ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को सुबह करीब साढ़े छह बजे पीएम मोदी को फोन किया था. इससे पहले शुक्रवार को भी बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह और संघ के नेता डॉ कृष्‍णा गोपाल के बीच बैठक हुई थी.


सूत्रों के मुताबिक़ आरएसएस के नेता मनोज सिन्‍हा के नाम पर खुश नहीं थे, वो चाहते थे कि योगी आदित्यनाथ को ही यूपी का सीएम बनाया जाए. सूत्रों के मुताबिक़ अमित शाह के मन में योगी को लेकर कुछ आशंकाएं थी, इसी के चलते वो इस बात को टाल रहे थे. जिसके बाद शनिवार को खुद आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पीएम मोदी को फ़ोन मिला दिया.

फिक्स्ड था सारा खेल ?

मोहन भागवत के यूपी के सीएम के लिए योगी आदित्‍यनाथ का नाम आगे करने पर पीएम मोदी ने भी हामी भर दी. जिसके बाद पीएम मोदी ने इस बारे अमित शाह से बात की और उनसे योगी को सीएम बनाने के लिए कहा. इसी के बाद योगी को दिल्ली आने का बुलावा भेजा गया. दिल्ली से योगी विधायक दल की बैठक में शामिल होने सीधे लखनऊ पहुचे. उस वक़्त उनके चेहरे पर बिखरी मुस्कान को देखकर मीडिया ने अंदाजा लगा लिया था कि वो ही बनेंगे यूपी के मुख्यमंत्री.

पार्टी के सूत्रों के मुताबिक़ सीएम पद के लिए योगी के नाम पर मुहर विधायक दल की बैठक होने से कई घंटे पहले ही लग चुकी थी लेकिन इस बात को पूरी तरह से गोपनीय रखा गया. यहाँ तक कि पर्यवेक्षकों को भी इस बात की कानों-कान खबर नहीं हुई. वो अपने काम में लगे रहे लेकिन उन्हें क्या पता था कि इस खेल की सभी चालों का निर्धारण तो पहले ही हो चुका था.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments