Home > ख़बरें > कांग्रेस के आखिरी गढ़ मणिपुर तक जा पहुंची मोदी लहर… 15 साल का किला हो जाएगा ध्वस्त !

कांग्रेस के आखिरी गढ़ मणिपुर तक जा पहुंची मोदी लहर… 15 साल का किला हो जाएगा ध्वस्त !

modi-wave-manipur

नई दिल्ली : देश की राजनीति में लगातार बदलाव हो रहे हैं. लोकसभा चुनाव में भारी मतों से जीतने के बाद बीजेपी अब कई राज्यों में भी अपना जलवा दिखा चुकी है. बीजेपी को लगातार मिल रही एक के बाद एक जीत से विरोधी खेमों में हलचल बढ़ गयी हैं. सबसे ज्यादा परेशानी में है देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस.

दरअसल पीएम मोदी ने देशभर में कांग्रेस मुक्त भारत की मुहिम चलाई हुई है. ओड्शा और महाराष्ट्र के स्थानीय निकाय चुनावों में बीजेपी के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उत्तर प्रदेश में बीजेपी की जीत तय मानी जा रही है. जानकारों के मुताबिक़ पूरे देश में जबरदस्त मोदी लहर चल रही है. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी गठबंधऩ ने 300 का आंकड़ा पर किया था और अब वैसा ही कमाल यूपी में भी दिखाई देने वाला है.

यूपी में बीजेपी ने 300 सीट जीतने का दावा भी कर दिया है. सबसे ज्यादा अहम् बात ये भी रही कि हाल ही में 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर कराये गए सर्वे में निकल कर आया की यदि अभी चुनाव हो जाए तो देश में एक बार फिर बहुमत से मोदी सरकार बन जायेगी. इसे भी मोदी लहर का परिणाम ही माना जा रहा है.

उत्तर प्रदेश में बीजेपी कि जीत यदि हो जाती है तो बीजेपी की स्थिति देश में इतनी मजबूत हो जायेगी कि अगले कई दशकों तक देश की राजनीति से उसे कोई हिला नहीं पायेगा. यूपी देश का सबसे बड़ा चुनावी राज्य है. यहां पर लोकसभा की 80 सीटें हैं. ऐसे में यूपी फतह होने से ना केवल बीजेपी का मनोबल कई गुना बढ़ जाएगा बल्कि यूपी में दशकों से बनती आ रही क्षेत्रीय दलों की सरकार का सिलसिला भी ख़त्म हो जाएगा.

मोदी लहर की तेजी इतनी जबरदस्त है कि मणिपुर में भी बीजेपी के जीतने कि बातें कही जाने लगी हैं. जानकारों के मुताबिक़ इस बार मणिपुर में भी बीजेपी सरकार बनाने जा रही है. इस खबर ने कांग्रेस को मुश्किल में डाल दिया है क्योंकि मणिपुर में 15 साल से कांग्रेस का शासन रहा है. मणिपुर में बीजेपी कि जीत कांग्रेस के पाँव पूरी तरह से उखाड़ देगी और बीजेपी कांग्रेस मुक्त भारत के अपने सपने के एक कदम और करीब पहुच जायेगी.

वहीँ जानकारों का ये भी कहना है कि यदि कांग्रेस यूपी और मणिपुर में खराब प्रदर्शन करती है तो इसका परिणाम 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उसके लिए मुश्किलें खड़ी कर देंगे. बिहार में गठबंधन के अच्छे प्रदर्शन से कांग्रेस को कुछ राहत तो पहुची थी लेकिन यूपी में यदि उनका गठबंधन पिट जाता है तो देश में गठबंध की राजनीति में भी बदलाव आएंगे और गठबंधन बना कर चुनाव जीतने की परम्परा का भी अंत हो जाएगा.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments