Home > ख़बरें > अभी अभी : पीएम मोदी ने दिया बड़ा आदेश, भारतीय वायुसेना ने क़तर में रच दिया इतिहास

अभी अभी : पीएम मोदी ने दिया बड़ा आदेश, भारतीय वायुसेना ने क़तर में रच दिया इतिहास

नई दिल्ली : आपने अक्षय कुमार की एयरलिफ्ट मूवी देखी होगी, जिसमे कैसे भारतीय वायुसेना और सरकार अपने लोगों को मुसीबत में फंसे दूसरे देश से निकाल लेते हैं. ऐसा पहले भी हो चुका था इससे पहले भी यमन से मुसीबत में फंसे सिर्फ भारतीय को ही नहीं भारत ने विदेश के लोगों को भी बचाया था. जिसके बाद पूरी दुनिया में भारत की तारीफ हुई थी. अब एक बार फिर मोदी सरकार इससे भी बड़ा इतिहास रचने वाला कार्य करने जा रही है जिससे पूरा विश्व एक बार फिर भारत के आगे नतमस्तक होगा.


कतर  देश का सभी देशों ने किया अलग थलग, मुश्किल में फंसे लाखों भारतीय

गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में 7 खाड़ी देशों ने कतर देश के साथ सभी रिश्ते तोड़ने की घोषणा की थी और पूरी तरह अलग थलग कर दिया है.साथ ही सभी देशों ने उसके साथ सभी व्यापारिक रिश्तों का भी बहिष्कार कर दिया है. इस स्थिति में वहां फंसे लाखों भारतीय कि ज़िन्दगी मुश्किल में पड़ गयी है और उन्होंने भारत से मोदी सरकार से मदद मांगी है.

कतर में फंसे हैं 7 लाख भारतीय, सबसे बड़े ‘एयरलिफ्ट’ की तैयारी में मोदी सरकार

क़तर में फंसे सात लाख भारतीयों को बचाने का ज़िम्मा अब मोदी सरकार ने उठाया है, इसलिए फंसे 7 लाख भारतीयों के लिए मोदी सरकार स्पेशल फ्लाइट्स चलाएगी. इस सबसे बड़े एयरलीफ्ट पर खुद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने नजर बनाई हुई है. उड्डयन मंत्रालय का कहना है कि 25 जून से 8 जुलाई के बीच एयर इंडिया एक्सप्रेस की स्पेशल फ्लाइट्स को रवाना किया जाएगा. यही नहीं गुरुवार और शुक्रवार को मुंबई से दोहा के बीच जेट एयरवेज की 168 सीटर बोईंग-737 को रवाना किया जाएगा.


भारतीयों को सुरक्षित वापस लाएगी मोदी सरकार

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस बारे में सिविल एवीएशन मंत्री गजपति राजू से सोमवार को बातचीत की, जहां उन्हें एयरलिफ्ट की जानकारी दी गई. उड्डयन मंत्रालय ने विदेश मंत्रालय को भरोसा दिया है कि वो भारतीयों को कतर से सुरक्षित लाने में कोई कमी नहीं छोड़ेगा. मकसद केवल उन भारतीयों को स्वदेश लाना था, जो आना तो चाहते हैं लेकिन जिन्हें बुकिंग नहीं मिल पा रही और उनसे ज़बरन ज़रूरत से ज़्यादा पैसे वसूलें जा रहे हैं.

यहाँ आपको बता दें सऊदी अरब, यूएई, बहरीन समेत सात मुल्कों ने कतर पर आतंकियों की फंडिंग करने का आरोप लगाते हुए उससे रिश्ते तोड़ लिए हैं. इसकी वजह से कतर में रोज़ाना जीवन के लिए जरूरी संसाधनों की बेहद कमी पैदा होने का खतरा पैदा हो गया है. कतर पर आरोप है कि वो इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) और अल-कायदा जैसे संगठनों का समर्थन करता है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments