Home > ख़बरें > मोदी ने दिखाई नक्सलियों को 56 इंच की ताकत, सुकमा में बहेंगी खून की नदियाँ !

मोदी ने दिखाई नक्सलियों को 56 इंच की ताकत, सुकमा में बहेंगी खून की नदियाँ !

modi-crpf-naxals

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ के जवानो पर हमले के बाद पीएम मोदी लगातार सख्त होते जा रहे हैं. हालांकि गृहमंत्रालय ने 8 मई को नक्सल प्रभावित सभी 10 राज्यों की बैठक के बाद बड़े पैमाने पर नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाये जाने की बात कही है लेकिन अब खबर आ रही है कि पीएम मोदी ने उससे पहले ही एक और बड़ा फैसला ले लिया है.

घर से उठाकर ठोकने के आदेश !

खबरों के मुताबिक पीएम मोदी ने गृह मंत्रालय को आदेश दिया है कि किसी भी कीमत में अब नक्सली बचने नहीं चाहिएं. पीएम मोदी ने आदेश दिए हैं कि तत्काल प्रभाव से सीआरपीएफ अपनी सारी ताकत झोंक दे और नक्सलियों को ढेर करे. पीएम मोदी ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा है कि चाहे जहां कहीं भी छुप कर बैठे हों, घसीट कर बाहर निकालो और सीधे ठोक दो.

जी हाँ, सूत्रों के मुताबिक़ पीएम मोदी ने 75 दिनों के लिए सीआरपीएफ को खुली छूट दे दीं, जैसे चाहे वैसे एक्शन वो ले सकते हैं. जितनी फाॅर्स चाहिए, उतनी वो मांग सकते हैं. जैसे हथियार चाहिए, वैसे हथियार उन्हें मुहैय्या कराये जाएंगे. हेलिकॉप्टर्स, नाइट विजन कैमरे, आटोमेटिक मशीनगन, हैंड ग्रेनेड्स व् अन्य सभी तरह के रक्षा उपकरण व् हथियारों को इस्तमाल करना पड़े तो भी करें लेकिन नक्सलियों को ढेर करें.

पीएम मोदी ने बदला अपना रुख !

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि वो नक्सलियों को मना लेंगे और उन्हें मुख्य धारा से जोड़कर साथ लेकर चलेंगे. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी नक्सलियों को भटके हुए नागरिक बताया था लेकिन नक्सलियों को पीएम मोदी की प्यार और विकास की भाषा समझ नहीं आयी. इसलिए अब पीएम मोदी ने ठान लिया है कि नक्सलियों को बंदूकों की भाषा से ही समझाया जाएगा कि निर्दोषों को मारने का परिणाम क्या होता है.

पीएम मोदी ने नक्सलियों के साथ काफी सब्र के साथ काम लिया लेकिन उन्होंने इसका नाजायज फायदा उठाया. पीएम मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से नक्सली सुकमा में तीन हमले कर चुके हैं. सबसे पहला हमला एक दिसंबर, 2014 को किया था, जिसमें सीआरपीएफ के 13 जवान शहीद हो गए थे. दुसरा हमला इसी साल 12 मार्च को घात लगाकर किया, जिसमे भी सीआरपीएफ के 24 जवान शहीद हो गए थे और अब 24 अप्रैल को सीआरपीएफ की पैट्रोलिंग टीम पर नक्सलियों ने हमला कर 26 जवान मार दिए.

जिसके बाद अब पानी सिर के ऊपर से गुजर गया है, कहा जा रहा है कि पीएम मोदी ये मान गए हैं कि ये लोग कभी सुधर ही नहीं सकते और इन्हे अब गोली चाहिए. इसी के साथ जानकारों का कहना है कि नक्सलियों पर की जा रही बड़ी कार्रवाई और उनके मारे जाने की खबर जैसे ही आणि शुरू होगी वैसे ही कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाएं भी फ़ौरन कम होंगी वरना जैसा मूड पीएम मोदी का अभी है, ऐसे में पत्थरबाज और अलगाववादियों के खिलाफ भी एक्शन लेने से वो नहीं चूकेंगे.

बहरहाल अब सीआरपीएफ को नक्सलियों के एनकाउंटर के कड़े निर्देश मिलने पर नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई और भी ज्यादा तेज हो गयी है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments