Home > ख़बरें > कश्मीर में टूट गया पीएम मोदी के धैर्य का बांध, एक साथ कई जबरदस्त फैसलों से पलट दी बाजी

कश्मीर में टूट गया पीएम मोदी के धैर्य का बांध, एक साथ कई जबरदस्त फैसलों से पलट दी बाजी

kashmir-modi

श्रीनगर : कश्मीर में लगातार जारी हिंसा पर पीएम मोदी अब बेहद सख्त रुख अपना चुके हैं. प्यार से मनाने के सभी तरीके फ़ैल हो चुके हैं और अब सरकार ने डंडे की भाषा से अलगाववादियों को सबक सिखाने का फैसला कर लिया है. मेजर गोगोई के पत्थरबाज को जीप में बांधने के बाद उन्हें सम्मानित करने के साथ-साथ अलगाववादियों की हवाल फंडिंग की जांच एनआईए से तो करवाई जा ही रही है लेकिन अब मोदी सरकार ने कई और कड़े फैसलों की झड़ी लगा दी है.


1) कश्मीर में सेना को खुली छूट
हाल ही में रक्षा मंत्री ने सैन्य अधिकारीयों से मिले और पूरे हालात की जानकारी ली. जिसके बाद उन्होंने कहा कि सेना को किसी भी तरह की कोई रोक-टोक नहीं है, कश्मीर में सेना को पूरी आज़ादी दी गयी है. सेना अपने तरीके से जहाँ चाहे जिस वक़्त चाहे सैन्य कार्यवाही कर सकती है. पहले सेना की कार्यवाही को लेकर कोई एलान नहीं होता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है. पहले सेना को कार्यवाही से पहले सरकार की इजाज़त लेनी पड़ती थी अब खुली छूट है .

2) पत्थरबाजों से निपटने के लिए सेना को पूरी आज़ादी
पाकिस्तान से पत्थरबाजों को मिल रहे पैसों पर तमाम एजेंसियां एक्शन ले रही हैं. कश्मीर में आतंकवादियों को घेरने के लिए सेना ने 15 साल से बंद हो चुके “ऑपरेशन कासो” को फिर से शुरू किया है.जिसमें हज़ारो सुरक्षाबल एकसाथ तलाशी अभियान चलाकर आतंकवादियों के ठिकानो को नष्ट किया जा रहा हैं. पथरबाज़ो के साथ आतंकवादियों की तरह ही बर्ताव किया जाये ये सेना प्रमुख ने एलान कर दिया है.

3)अलगाववादियों की अब खैर नहीं
पिछली सरकारें अलगाववादियों के साथ शांति वार्ता करने के प्रयास करती रही जबकि मौजूदा सरकार में एनआईए एजेंसी को पूरी ताक़त के साथ अलगाववादियों की हवाला फंडिंग की जाँच में लगा दिया गया है. पिछले तीन दिन से एनआईए अलगाववादियों के खातों की जाँच में लगा हुआ है, साथ ही पाकिस्तान और आतंकवादी संगठनो से फंडिंग मामलो में अनेक नेताओं से पूछताछ हो रही है.


4)देशविरोधी और कट्टरपंथियों से कोई शांति वार्ता नहीं की जाएगी
मौजूदा सरकार ने यह साफ़ कर दिया है कि धमाकों के बीच में कोई सुलह नहीं होगी, जिस भाषा में समझेंगे सेना उसी भाषा में उनको अपने तरीके से जवाब देगी. इससे पहले अलगाववादियों के पाकिस्तान के उच्चायुक्त के डिनर पर जाने पर, पीएम मोदी ने कड़ा विरोध जारी करते हुए पाकिस्तान को कश्मीर मसलों से दूर रहने की चेतावनी दी थी.

5)अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को आतंकवादी समर्थन देश घोषित किया
हाल ही में डोनाल्ड ट्रम्प ने भी सऊदी अरब में भारत को आतंकवाद से पीड़ित और नवाज़ शरीफ की मौजूदगी में पाकिस्तान जैसे आतंकवाद को समर्थन करने वाले देशों को चुनौती दे डाली. इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी संयुक्त राष्ट्र के मंच पर पाकिस्तान को आतंकवाद सप्लाई करने वाला देश कहकर सम्बोधित किया था.

हाल ही में जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती दिल्ली में पीएम मोदी से मिली और अटल निति के अनुसार बातचीत करके कश्मीर मसले का हल निकालने की बात कही थी.जबकि पीएम मोदी ने साफ़ कह दिया था कि घाटी में जिस तरह के माहौल हैं उसमें कोई बातचीत या सुलह नहीं करी जाएगी अब सिर्फ और सिर्फ सख्ती से पेश आया जायेगा. अटल बिहारी वाजपेयी ने कश्मीर मसले को हल करने के लिए जम्हूरियत, कश्मीरियत और इंसानियत का नारा दिया था.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments