Home > ख़बरें > हिन्दुओं के खिलाफ भड़काने वाले ईसाई धर्मगुरु को पीएम मोदी ने जड़ा तमाचा, कांग्रेस में मची खलबली

हिन्दुओं के खिलाफ भड़काने वाले ईसाई धर्मगुरु को पीएम मोदी ने जड़ा तमाचा, कांग्रेस में मची खलबली

modi-reply

नई दिल्ली : देश में कुछ लोग ऐसे मौजूद हैं जो एक जोंक की तरह हैं, और वक़्त दर वक़्त देश का खून चूसने का काम करते हैं. हर वक़्त जातिवाद का ज़हर उगलकर देश की एकता को खंडित करने का बयान देते रहते हैं. गुजरात चुनाव जैसे-जैसे नज़दीक आ रहा है कई पादरियों और मौलवियों का देशद्रोह वाला चेहरा दिखने लगा है. अभी ऐसे ही एक बिशप थॉमस मैकवान ने चुनाव में चिट्ठी लिख कर ईसाईयों को भड़काने का का काम किया था जिसके बाद अब खुद पीएम मोदी ने मुहतोड़ जवाब दिया है.


पीएम मोदी ने आर्कबिशप थॉमस मैकवान को दिया मुहतोड़ जवाब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक सभा के दौरान गांधीनगर में राष्ट्रवादियों के खिलाफ चिट्ठी लिखने वाले आर्क बिशप को मुहतोड़ जवाब दिया और सारी जनता के सामने उसे बेनकाब किया. अहमदाबाद में प्रधानमंत्री ने कहा, “हमने कोई धर्म, कोई जाती नहीं देखी सिर्फ देशभक्ति और मानवता देखी. हम सबका साथ सबका विकास की राह पर चल रहे हैं.’ लेकिन फिर भी कुछ लोग राष्ट्रवाद के खिलाफ फतवा निकालते हैं.

दिखाई राष्ट्रवादियों की ताक़त, फादर टॉम को बचाकर लाए थे- पीएम

पीएम मोदी ने कहा कि मैं यह देख कर हतप्रभ हूं कि एक धार्मिक व्यक्ति ने यह कहते हुए फतवा जारी किया था कि राष्ट्रवादी ताकतों को खत्म करें” “जो लोग राष्ट्रवादियों के खिलाफ फतवा जारी कर रहे हैं उन्हें याद रखना चाहिए कि हम कितनी मेहनत से फादर टॉम को विदेश से लेकर आए थे. झब तमिलनाडु में उनके परिवार को बताया गया तो उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि उनता बेटा ढाई साल बाद वापस आ रहा है.” पीएम मोदी ने कहा, ”फादर प्रेम को भी बचाकर लाए थे, जिनका अफगानिस्तान में अपहरण कर लिया गया था. ये हमारा राष्ट्रवाद है कि हम फादर टॉम और फादर प्रेम को वापस लेकर आए.”

केरल की नर्सों को ISIS के कब्जे से छुड़ाया

पीएम मोदी ने कहा, ”हम केरल की नर्सों को छुड़ा कर लाए, इनमें ईसाई भी थीं. दुनिया भर में जिसकी मदद लेनी थी ली लेकिन ईसाई समाज की बेटियों को वापस लाए, ये हमारी देशभक्ति ही थी. बता दें वर्ष 2014 में करीब एक माह तक ISIS उग्रवादियों के कब्जे में रहीं 46 नर्सों को मोदी सरकार के सफल हस्तक्षेप के बाद वहां से लाया गया था. जब भी किसी की मदद करनी होती है तो मोदी सरकार पहले उसकी जात नहीं पूछती. लेकिन ये उन्ही कट्टरपंथियों में से हैं जिन्हे बस देश को तोड़ने और बांटने का काम आता है. ऐसे लोग देश की शांति व्यवस्था बिगाड़ने के प्रयास करते रहते हैं.


आर्क बिशप थॉमस मैकवान ने चिट्ठी में उगला था ज़हर

आपको बता दें ईसाई समुदाय को लिखी चिट्ठी में आर्क बिशप ने लिखा था ”गुजरात चुनाव के परिणाम महत्वपूर्ण हैं और हमारे देश ,जाति के भविष्य की प्रगति को प्रभावित करेंगे. हमारे देश का धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक ढांचा दांव पर हैं. मानव अधिकारों का उल्लंघन हो रहा है और संवैधानिक अधिकार कुचले जा रहे हैं. अल्पसंख्यकों, अन्य पिछड़े जाति(ओएबीसी), अनुसूचित जाति (एससी), गरीबों आदि के बीच असुरक्षा की भावना बढ़ रही है और राष्ट्रवादी ताकतें देश को अपने नियंत्रण में लेने के कगार पर हैं. हमें इन राष्ट्रवादी ताक़तों को हराना होगा”

यमन से करीब 40 देशों के लोगों को बचाया

आगे पीएम मोदी ने कहा कि भारतीयों के साथ-साथ हमने यमन से करीब 40 देशों के लोगों को बचाया क्योंकि ये लोग वहां चल रही लड़ाई की वजह से फंस गए थे. हमने न उनकी भाषा देखी न उनका धर्म देखा. यह हमारा राष्ट्रवाद और मानवीय मूल्य थे जिन्होंने हमें दिशा दिखाई. उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रवाद का मुद्दा इसलिए उठा रहे हैं क्योंकि कुछ लोगों ने इसे चुनौती दी है.

नींद से जाएगा चुनाव आयोग

तो वहीँ अब चुनाव आयोग ने भी इस आर्क बिशप थॉमस मैकवान के नाम नोटिस जारी कर दिया है. नोटिस में उनसे देश के पादरियों को पत्र लिखने के मामले में जवाब मांगा गया है. निर्वाचन आयोग ने जिला कलेक्टर के जरिए आर्कबिशप को नोटिस जारी किया और उनसे पत्र लिखने का मकसद स्पष्ट करने के लिए कहा है. लीगल राइट्स ऑब्जर्वेटरी ने थॉमस के खिलाफ तुरंत एक्शन लिए जाने की मांग करी है. ऑर्गनाइजेशन ने कहा था, “ये वोटर्स में डर फैलाने की कोशिश है. साथ ही ये धर्म और जाति के नाम पर वोटर्स को बांटने की कोशिश है.’


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments