Home > ख़बरें > अभी-अभी : पीएम मोदी के एक फैसले से बर्बाद हुए कश्मीरी आतंकी, अलगाववादियों की भी आयी शामत !

अभी-अभी : पीएम मोदी के एक फैसले से बर्बाद हुए कश्मीरी आतंकी, अलगाववादियों की भी आयी शामत !

modi-nawaj-terrorism

श्रीनगर : पीएम मोदी ने कालेधन को ख़त्म करने के लिए नोटेबंदी जैसा कडा कदम उठाया था, दावा था कि इससे ना केवल कालाधन ख़त्म होगा बल्कि आतंक पर भी लगाम लगेगी. हालांकि हाल ही में कश्मीर में एक बार फिर शुरू हुई हिंसा को देख विपक्ष ने पीएम मोदी के नोटेबंदी के फैसले पर उंगलियां उठानी शुरू कर दीं थी लेकिन अभी-अभी कश्मीर से एक ऎसी खबर सामने आयी है, जिसने विरोधियों का मुँह एक बार फिर बंद कर दिया है.

खबर है कि पाकिस्तानी आईएसआई के पैसों से आतंकी व् पत्थरबाजों की गतिविधियां पिछले कुछ वक़्त से चल तो रही हैं, लेकिन जब पाकिस्तान खुद ही बेहद गरीब देश है तो आखिर कब तक वो पैसों से इनकी मदद करेगा. ऐसे में पैसों की तंगी एक बार फिर से अपना सर उठाने लगी है. इसी तंगी के चलते आज जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में एक बैंक में दो आतंकी लूट के इरादे से जा घुसे.

सीआरपीएफ के जवानों ने इन्हे रोकने की कोशिश की, और एक आतंकी को गिरफ्तार कर लिया गया. जबकि दूसरा आतंकी मौके से फरार हो गया. इन आतंकियों ने सीआरपीएफ जवान से उसके हथियार छीनने की कोशिश भी की लेकिन जवानों ने इन्हे धर-दबोचा. इस हमले में एक जवान घायल हो गया.


गुरुवार को कुपवाड़ा में हुआ था आतंकी हमला !

इससे पहले गुरुवार को कुपवाड़ा में सेना के आर्टीलरी बेस पर भी आतंकियों ने आत्मघाती हमला कर दिया था, जिसमे एक कैप्टन समेत तीन जवान शहीद हो गए थे और दो आतंकी मारे गए थे.

कश्मीर मुद्दे पर भारत के सख्त रुख से पाकिस्तान बुरी तरह से फड़फड़ा रहा है. वहीँ पीएम मोदी का पाकिस्तान को अलग-थलग करने का मिशन भी तेजी से अपना कमाल दिखा रहा है, इसी के चलते यूएन में भी पाकिस्तान की डाल नहीं गल रही है. अपनी इसी खिसियाहट में कश्मीर मुद्दे को फिर से उठाने के लिए पाकिस्तान घाटी में आतंकी गतिविधियों और पत्थरबाजों को हवा दे रहा है.

हालांकि केंद्र सरकार भी अपने रुख पर कायम है कि वो पत्थरबाजों या अलगाववादियों से कोई बात नहीं करेंगे. कोर्ट के निर्देशों के चलते मोदी सरकार को पत्थरबाजों के खिलाफ पेलेट गन की जगह प्लास्टिक की गोलियों को इस्तमाल करना पड़ रहा है, जिसके कारण भी पत्थरबाजों के होंसले बुलंद हैं. शायद उन्हें पता है कि वो चाहे कितने ही पत्थर क्यों ना फेंके लेकिन देश में बैठे कुछ गद्दार कोर्ट में याचिकाएं डाल-डाल कर सरकार पर दबाव बनाये रखेंगे और पत्थरबाजों व् अलगाववादियों के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई करने ही नहीं देंगे.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हमारे साथ सीखिए ब्लॉग लिखना और घर बैठे कमाइए पैसे. तीन दिन का कोर्स ज्वाइन करने के लिए 9990166776 पर Whatsapp करें.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments