Home > ख़बरें > ईडी नई किया मायावती के खजाने का भंडाफोड़, पकड़ा सैकड़ों करोड़ का रुपये कालाधन

ईडी नई किया मायावती के खजाने का भंडाफोड़, पकड़ा सैकड़ों करोड़ का रुपये कालाधन

mayawati-black-money

नई दिल्ली : नोटबंदी के फैसले से कई नेता बहुत ही बौखलाए हुए हैं ओर अब धीरे-धीरे कलई खुल रही है कि आखिर माजरा क्या है। अभी-अभी आयी बड़ी खबर के मुताबिक़ प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी के अधिकारियों ने दिल्ली के करोलबाग में यूनियन बैंक की ब्रांच में मायावती के खजाने का पता लगा लिया है। इस ब्रांच में ईडी को मायावती का लगभग 110 करोड़ रुपये का कालाधन मिला है।

अभी तो इसे मात्र एक शुरुआत माना जा रहा है। उम्मीद है कि रकम और भी ज्यादा हो सकती है। यूनियन बैंक की इस ब्रांच में बहुजन समाज पार्टी यानी बसपा के नाम से 105 करोड़ रुपये और मायावती के भाई आनंद कुमार के नाम से 1.43 करोड़ रुपये जमा कराए गए थे।

नोटबंदी के बाद जमा हुआ पैसा

प्रारम्भिक जांच में पता चला है कि ये सारा पैसा 8 नवंबर को पीएम मोदी के नोटबंदी के एलान करने के बाद बैंक में जमा कराया गया था। गाड़ियों में भर-भर कर पुराने नोटों की गड्डियां लाई गई थीं। छापे में मिला सारा पैसा और जांच की सारी जानकारी अब आयकर विभाग को सौंप दी जायेगी।

अब तक आयी जानकारियों के मुताबिक़ बसपा के खाते में 105 करोड़ रुपये से ज्यादा पैसा कुल सात बार में जमा कराया गया। इसी प्रकार मायावती के भाई आनंद कुमार के खाते में 18 लाख रुपये के पुराने नोट तीन बार में जमा कराये गए। इसके अलावा लगभग सवा करोड़ रुपये इंटरनेट ट्रांसफर के जरिए भी जमा किये गए।

ईडी के अधिकारी अब ये पता लगाने में जुटे हैं कि इतने सारे पैसे इन खातों में भेजे किसने थे। खबरों के मुताबिक़ ये सारा पैसा किसी फर्जी कंपनी के जरिए से खाते में भेजा गया है। बिना बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत के ऐसा होना नामुमकिन है ऐसे में ये भी तय है कि कई बैंक अधिकारी भी जेल जाएंगे।

बसपा और मायावती के भाई को नोटिस

सूत्रों की मानें तो अब आयकर विभाग की ओर से बसपा और मायावती के भाई को नोटिस भेजा जाएगा। उनसे इस बात का स्पष्टीकरण माँगा जाएगा कि उन्हें ये पैसा आखिर कहां से मिला और किस आधार पर उन्होंने इसे बैंक में जमा करवाया। आयकर विभाग जांच करने के बाद आगे की कार्रवाई करेगा।

ख़बरों के मुताबिक फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट अब बसपा, मायावती और उनके भाई के वित्तीय लेनदेन के अन्य सुराग पता लगा रही है। माना जा रहा है कि जो कालाधन पकड़ा गया है वो तो कुल पैसे का छोटा सा हिस्सा भर है। इस प्रकार से इन्होंने कई अन्य बैंकों में भी पैसे जमा कराए होंगे।

पहले से रडार में आनंद कुमार

बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार तो पिछले कुछ वक्त से आयकर विभाग के रडार पर हैं। आयकर विभाग की ओर से उसे बेनामी प्रॉपर्टी के कारोबार के सिलसिले में पूछताछ के लिए पहले ही एक नोटिस भेजा जा चुका है। इस मामले में कई बिल्डर भी जांच के दायरे में शामिल हैं। इन बिल्डरो के कारोबार में आनंद कुमार की बेनामी हिस्सेदारी है। बेनामी संपत्ति का ये मामला काफी गंभीर बताया जा रहा है, कहा जा रहा है कि आयकर विभाग के पास जो शिकायत दर्ज की गई है उसे X-कैटेगरी में रखा गया है यानी ‘बेहद गंभीर’ माना गया है।

अब आपकी बारी

कैसे राजनेता है ये जो गरीब ओर पिछड़े हुए दलितों के नाम पर राजनीतिक रोटियां सकते हैं, दलित तो वहीँ के वहीँ रह जाते हैं मगर इन राजनीतिक गिद्धों की तिजोरियां भर जातीं हैं? उत्तर प्रदेश के दलितों क्या आप ऐसे लोगों को दोबारा वोट देना चाहेंगे? अपनी राय कमेंट द्वारा शेयर जरूर करियेगा।

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments