Home > ख़बरें > मोदी सरकार ने बॉर्डर पर किया ऐसा बेमिसाल काम, सेना के जवानों की आँखों में आये ख़ुशी के आंसू !

मोदी सरकार ने बॉर्डर पर किया ऐसा बेमिसाल काम, सेना के जवानों की आँखों में आये ख़ुशी के आंसू !

india-pak-border-lighting

नई दिल्ली : प्रधान मंत्री बनने के बाद से पीएम नरेंद्र मोदी ने देशहित में कई बड़े व् अहम् फैसले लिए हैं. देश की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए सेना की मजबूती के लिए भी कई काम किये गए हैं लेकिन आज जो खबर हम आपको बताने जा रहे हैं, उसे सुनकर आपको बेहद ख़ुशी के साथ-साथ पीएम मोदी पर गर्व भी होगा.


पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ लगी सीमा से घुसपैठ करके आतंकी भारत में दाखिल हो जाते थे. आजादी के बाद से लगातार शासन कर रही सरकारों ने इसकी कोई सुध नहीं ली, ना ही इसे रोकने के लिए कोई ठोस कदम उठाये. लेकिन अब मोदी सरकार ने आतंकी घुसपैठ को रोकने व् अँधेरी रात में दुश्मन पर आसानी से नज़र बनाये रखने के किये पिछले एक साल में पाकिस्तान-बांग्लादेश सीमा के 647 किलोमीटर के कुल इलाके में तेज रौशनी की व्यवस्था की है.

सोती रहीं पिछली सरकारें

ये कदम देखने में भले छोटा सा लगे, लेकिन आपको ये जानकार हैरानी होगी कि इससे पहले की सरकारों ने तो सीमा पर उचित रौशनी तक की व्यवस्था नहीं की थी. सीमा सुरक्षा बलों को अँधेरी रातों में ही पहरा देना पड़ता था. बता दें कि अब तेज दूधिया रौशनी जो कि कुछ-कुछ दिन के सामान दिखाई देती है, उसकी मदद से ना केवल भारतीय सैनिकों को सीमा पार से होने वाली घुसपैठ को रोकने में मदद मिलेगी बल्कि सीमा पार से होने वाले ड्रग्स के कारोबार पर नज़र रखने में भी मदद मिलेगी.

अँधेरे और घने जंगलों में सेना के जवानों को भी दुश्मन से निपटने में भी आसानी होगी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा को मजबूत करने के उद्देश्य से कुल 5188 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की है, जिसमें से 2138 करोड़ रुपये जारी किये जा चुके हैं.

रौशनी की व्यवस्था के साथ-साथ पाकिस्तान व् बांग्लादेश के साथ लगी सीमा को पूरी तरह से सील करने का काम भी जोरों-शोरों से चल रहा है और जल्दी ही भारत की सीमाएँ पहले के मुकाबले काफ़ी ज़्यादा सुरक्षित हो जाएँगी. देखिये मोदी सरकार के फैसले की अद्भुत तस्वीर.


border-lighting
केवल इतना ही नहीं बल्कि खबर है कि पाकिस्तान के साथ लगी सीमा पर लेजर दीवारें खड़ी की जा चुकी हैं. ये इजराइल की तकनीक है, जिसमे लेज़र की मदद से दिखाई ना देने वाली दीवार खड़ी की जाती है, घुसपैठ के दौरान एक अलार्म बजने लगेगा और सेना को घुसपैठिये को ढेर करने में ज्यादा वक़्त नहीं लगेगा.

बीएसएफ के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि नदी पट्टी के संवेदनशील क्षेत्र में 8 इन्फ्रारेड और लेजर सिस्टम को लगा दिया गया है, जबकि चार अन्य जगहों पर भी जल्द ही इसे लगाया जाएगा.

वहीं जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात पर सीमा की सुरक्षा करने वाली बीएसएफ इस लेजर सिस्टम के जरिये घुसपैठियों की निगरानी रखेगी. लेजर वॉल को जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात में भारत-पाक बॉर्डर की सुरक्षा करने वाली बीएसएफ मॉनिटर करेगी. ज्यादातर घुसपैठ होने वाले इलाकों में बीएसएफ कुल 45 लेजरयुक्त दीवार लगाने की योजना बना रही है.

बता दें कि बीएसएफ ने इन ‘लेजर वॉल’ को लगाने का फैसला दो साल पहले लिया था और मोदी सरकार ने बिना देर किये इसे मंजूरी दे दी थी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments