Home > ख़बरें > बुरहान, सबजार को ठोकने के बाद सेना के सर पर सवार हुआ खून, कर दिया एक और हाहाकारी कांड

बुरहान, सबजार को ठोकने के बाद सेना के सर पर सवार हुआ खून, कर दिया एक और हाहाकारी कांड

श्रीनगर : सेना ने आतंकवाद और आतंकवादियों को जड़ से उखड फेकने की कसम ले ली है. इस सब के पीछे ऑपरेशन कासो जिसे मोदी सरकार ने चलाने की अनुमति दी है. 18 साल बाद किसी सरकार ने यह ऑपरेशन चलाने की अनुमति दी है. इसकी बदौलत ही घेर कर मारने की रणनीति के चलते बुरहान वानी, उसके बाद सबज़ार भट सेना के हाथों मारे गए. अब जो खबर आ रही है उसमे सेना ने फिर से बड़ा कमल करके दिखाया है, पूरे दक्षिण कश्मीर के लोगों में मातम जैसा माहौल बन गया है.

एनकाउंटर के बाद घाटी में छाया है सन्नाटा, पसरा है मातम

अभी अभी खबर आ रही है की दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले स्थित अरवनी गांव में सेना और पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन में जुनैद मट्टू को ढेर कर दिया गया है. जुनैद मट्टू लशकर अभी अभी कमांडर बना था . आपको बता दें कि इससे पहले सेना ने बुरहान वानी और सबजार जैसे बड़े खूंखार आतंकियों को ढेर कर चुकी है. शुक्रवार की सुबह ही आर्मी और पुलिस ने मट्टू को घेर लिया था, जिसके बाद अब उसे गोलियों से भून दिया गया. बताया जा रहा है कि सेना ने दो और आतंकियों को मौत के घाट उतारा है, दूसरे आतंकी का नाम मुज़मिल बताया जा रहा है.

पत्थरबाजों ने कोशिश तो बहुत करी लेकिन सेना ने दे दी आज़ादी

सेना के साथ पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने खुफिया जानकारी के आधार पर आज सुबह ही ऑपरेशन चलाया. इस दौरान सुरक्षा बलों ने गांव को चारों तरफ से घेर लिया था. आशंका है कि यहां एक घर में मट्टू सहित तीन आतंकी छिपे हुए थे. बताया जा रहा है कि पंपोर का ही रहने वाला एक आतंकी आदिल भी इस एनकाउंटर में फंसा हुआ है. इस कारण लोग सुरक्षाबलों का विरोध कर रहे .वहीं पंपोर में चल रहे एनकाउंर के बाद वहां कर्फ्यू जैसे हालात हो गए हैं. बता दें कि सभी दुकानें और सार्वजनिक परिवहन सड़कों से गायब हो गए हैं, और सभी बाजारों में शांति छा गई और मातम सा पसरा हुआ है.

इसे पहले कश्मीर में गुरुवार को पुलिस पर दो अलग-अलग आतंकी हमलों में दो पुलिसकर्मी शहीद हुए थे. श्रीनगर के हैदरपुरा इलाके में पुलिस टीम पर हुए आतंकी हमले में सज्जाद पुलिस कर्मी शहीद हो गए थे. हैदरपुरा में आतंकियों ने पुलिस दल पर गोलीबारी की जिससे दो पुलिसकर्मी घायल हो गए थे, इनमें से सज्जाद ने अस्पताल में दम तोड़ दिया.

यही नहीं कश्मीर के कुलगाम जिले में संदिग्ध आतंकियों ने एक पुलिसकर्मी पर गोली चलाई जिससे उनकी मौत हो गई. पुलिस के जवान शबीर अहमद डार छुट्टियों पर घर आए हुए थे और आतंकियों ने उन्हें बहुत करीब से गोली मारी गयी. सूत्रों के मुताबिक इस घटना के तत्काल बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें भी मृत घोषित कर दिया. प्राप्त जानकारी के अनुसार शबीर जम्मू-कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप से जुड़े हुए थे.

कौन है जुनैद मट्टू?

जुनैद खतरनाक आतंकवादी और लस्कर का टॉप कमांडर था, जिसकी सुरक्षाबलों को लंबे वक़्त से तलाश थी. उस पर 10 लाख रुपयों का इनाम भी था. वो पहले भी सुरक्षाबलों के हाथों से बचकर भागता रहा था. ऐसे में अगर इस आॅपरेशन में जुनैद पकड़ा जाता, इसीलिए सुरक्षाबलों के लिए ये एक बड़ी कामयाबी है. जुनैद ने 20 साल की उम्र से ही आतंक की दुनिया में अपने पैर रख लिए थे. यहाँ तक कि उसे कश्मीर का दूसरा बुरहान वानी भी कहा जाता था.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments