Home > ख़बरें > बीजेपी ने किया राष्ट्रपति पद के लिए नाम तय, योगी को सीएम बनाने के बाद मोदी का एक और बड़ा फैसला !

बीजेपी ने किया राष्ट्रपति पद के लिए नाम तय, योगी को सीएम बनाने के बाद मोदी का एक और बड़ा फैसला !

modi-presidential-election

नई दिल्ली : पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव ख़त्म होने के बाद आठ राज्यों के उप-चुनाव के नतीजे भी आ चुके हैं. लगातार हो रही जीत से जहाँ एक ओर बीजेपी काफी खुश दिखाई दे रही है, वहीँ राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अब बीजेपी तैयारियों में लग गयी है. यूपी विधानसभा नतीजे आने से पहले सोमनाथ में एक बैठक के दौरान पीएम मोदी ने संकेत दिया था कि यूपी चुनाव के अच्छे नतीजे आने पर वो आडवाणी जी को राष्ट्रपति के रूप में देखना चाहेंगे.


पीएम मोदी की पसंद का राष्ट्रपति बनना तय !

यूपी और उत्तराखंड चुनाव में बम्पर जीत के बाद इस बार पीएम मोदी के पसंद का राष्ट्रपति बनना लगभग तय हो चुका है. 25 जुलाई को भारत के नए राष्ट्रपति शपथ ले सकते हैं. बीजेपी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों में वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवानी, सुमित्रा महाजन, सुषमा स्वराज और मुरली मनोहर जोशी समेत अन्य कई बड़े नाम शामिल हैं.

राष्ट्रपति के चुनाव में लोक सभा और राज्य सभा के सभी 776 सांसद और सभी राज्यों के 4120 विधायक की अहम् भूमिका होती है. जिसके चलते एक-एक वोट बेहद महत्वपूर्ण होता है. पीएम मोदी के पसंद के राष्ट्रपति के लिए बीजेपी भी एक-एक वोट का ध्यान रख रही है और इसी के चलते योगी आदित्यनाथ और मनोहर पर्रिकर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बावजूद अब तक संसद सदस्यता से इस्तीफा नहीं दिया है.


आडवाणी हैं ममता बनर्जी की पहली पसंद !

पिछले सोमवार को बीजेपी ने अपने सहयोगियों के साथ अगले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बैठक भी की थी. पार्टी के विश्वसनीय सूत्रों के मुताबिक़ शिवसेना बीजेपी उमीदवार के लिए अपना समर्थन दे देगी. वहीँ हिंदुस्तान टाइम्स में छपी एक खबर के मुताबिक़ बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी अगले राष्ट्रपति के तौर पर लाल कृष्ण आडवाणी को अपनी पहली पसंद बताया है. ममता ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि बीजेपी आडवाणी की जगह अगर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज या लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को भी प्रत्याशी बनाता है तो वो उनका भी समर्थन कर सकती हैं.

बीजेपी की पाँचों उंगलियां घी में !

गौरतलब है कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए कुल 4852 वोट डाले जाते हैं, जिसमे जीतने के लिए 2427 वोटों की जरुरत होती है. यूपी और उत्तराखंड चुनाव में प्रचंड जीत के बाद बीजेपी और उसके संगठन दलों के पास कुल 2183 वोट हो चुके हैं. यानी अपनी पसंद का राष्ट्रपति चुनने के लिए बीजेपी को 244 वोटों की जरुरत है, जिसे हासिल करना बीजेपी के लिए कोई ख़ास मुश्किल नहीं होगा.

वहीँ राष्ट्रपति चुनाव के लिए कांग्रेस और उसके सहयोगी संगठन (यूपीए) के पास केवल 1304 वोट ही है. ऐसे में यूपीए का बहुमत के आंकड़े तक पहुंचना लगभग नामुमकिन है. क्षेत्रीय दलों और अन्य के पास कुल मिलाकर 1370 वोट हैं. जिनमें से ज्यादातर वोट बीजेपी को मिलने की उम्मीद है. ज्यादातर क्षेत्रीय दलों की पसंद भी लाल कृष्ण आडवाणी ही बताएं जा रहे हैं. ऐसे में ये तय माना जा रहा है कि आडवाणी ही होंगे भारत के अगले राष्ट्रपति.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments