Home > ख़बरें > ममता के बंगाल से आयी धमाकेदार खबर से तृणमूल कांग्रेस में मचा हड़कंप, मोदी-मोदी करने लगी ममता

ममता के बंगाल से आयी धमाकेदार खबर से तृणमूल कांग्रेस में मचा हड़कंप, मोदी-मोदी करने लगी ममता

modi-mamata-banarjee

नई दिल्ली : बंगाल में एक तानाशाह की तरह शासन चला रही ममता बनर्जी पर बड़ी मुसीबत आ खड़ी हुई है. अभी-अभी आयी बड़ी खबर के मुताबिक़ कोलकाता हाईकोर्ट ने बंगाल के बहुचर्चित नारद स्टिंग मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दी है. ये खबर आते ही तृणमूल कांग्रेस में जबरदस्त हड़कंप मच गया है और मोदी व् बीजेपी को इसके लिए जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया गया है.

हाई कोर्ट का ममता को झटका !

आपको बता दें कि नारदा स्टिंग ऑपरेशन के वीडियो में तृणमूल कांग्रेस के कई शीर्ष नेता लाखों की रिश्वत लेते हुए नजर आ रहे हैं. विडियो में ना केवल वो रिश्वत लेते दिख रहे हैं बल्कि कैमरे के सामने यह पूछते हुए भी नज़र आ रहे हैं कि रिश्वत की अगली किश्त उन्हें कब मिलेगी.

इस मामले पर अब कोलकाता हाईकोर्ट ने सीबीआई को प्रारंभिक जांच के आदेश दे दिए हैं. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश निशिता म्हात्रे और जस्टिस टी चक्रवर्ती की खंडपीठ ने सीबीआई को आदेश दिए हैं कि वो 24 घंटे के अंदर-अंदर इस स्टिंग ऑपरेशन से संबंधित सभी दस्तावेज और उपकरण अपने कब्जे में ले लें और 72 घंटे के अंदर-अंदर इस मामले की प्रारंभिक जांच पूरी करें.

सीबीआई की ताबड़तोड़ कार्यवाही शुरू !

प्रारंभिक जांच पूरी होने के बाद यदि जरुरत पड़ती है तो सीबीआई को एफआईआर दर्ज करके आगे की कार्यवाही करने के भी आदेश दिए गए हैं. यानी अदालत चाहती है कि अब इस मामले पर तेजी से कार्यवाही की जाए. गौरतलब है कि 2016 बंगाल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले ये स्टिंग आपरेशन सामने आया था, जिसके बाद ममता को बड़ी बदनामी का सामना करना पड़ा था.

हालांकि ममता ने इसे भी विरोधियों की साजिश करार दिया था. नारदा स्टिंग मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट के सामने चंडीगढ़ की सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी की रिपोर्ट पेश की गयी थी जिसमें साफ़-साफ़ कहा गया था कि स्टिंग आपरेशन के टेपों के साथ किसी भी तरह की कोई छेडछाड नहीं हुई है. जिसके बाद कोर्ट ने सीबीआई को इस मामले पर जांच और उपयुक्त कार्यवाही करने के आदेश दे दिए.


कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि जिन लोगों पर ये संगीन आरोप लगे हैं वो मंत्री, सांसद और बड़े रसूखदार नेता हैं, ऐसे में इस मामले की जांच राज्य की पुलिस को देने से जांच प्रभावित हो सकती है. इसलिए पूर्णरूप से निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई को इसे सौंपना ही ठीक रहेगा.

ममता के सांसदों पर गिरफ्तारी की तलवार !

हाई कोर्ट के आदेश के बाद से ममता बौखलाई हुई हैं, साथ ही तृणमूल कांग्रेस में भी हड़कंप मचा हुआ है. ममता ने कहा कि वो इस आदेश के खिलाफ अब सुप्रीम कोर्ट जाएंगी. वहीँ सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि ममता और उनके मंत्री ये बात अच्छी तरह से जानते हैं कि वो टेप असली हैं जिनमे उनके मंत्री व् सांसद घूस लेते नज़र आ रहे हैं. ऐसे में सीबीआई जांच में वो साफ़ पकडे जाएंगे और जेल की हवा भी खानी पड़ेगी, इसीलिए ममता ने शोर मचाना शुरू कर दिया है.

सूत्रों के मुताबिक़ इस मामले को लेकर ममता एक बार फिर दिल्ली की ओर कुछ कर सकती हैं. वहीँ ममता ने इस पूरे मामले को बीजेपी की साजिश करार दिया है. उनके मुताबिक़ इन टेपों को बीजेपी ऑफिस से सार्वजनिक किया गया है जबकि सीबीआई की जांच के आदेश मोदी सरकार ने नहीं बल्कि कोलकाता हाई कोर्ट की ओर से दिए गए हैं.

कहा ये भी जा रहा है कि सीबीआई जांच में सीधे तौर पर ममता का नाम भी सामने आ सकता है जिससे बंगाल में उनकी सियासत पर संकट आने की भी उम्मीद है. आपको बता दें कि बंगाल के रोजवैली चिटफंड घोटाले की जांच पहले से सीबीआई के हाथ में है जिसमे तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बांदोपाध्‍याय, कुणाल घोष और श्रींजॉय बोस समेत राज्‍य सरकार में मंत्री रहे मदन मित्रा को भी सीबीआई गिरफ्तार कर चुकी है. अब नारदा मामले में भी ममता के कई सांसदों की गिरफ्तारी की पूरी-पूरी उम्मीद जताई जा रही है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments