Home > ख़बरें > गुस्से में आये सेना के जवानों का माथा ठनका, कर दिया बड़ा कांड, कश्मीर में छा गयी हर ओर शान्ति

गुस्से में आये सेना के जवानों का माथा ठनका, कर दिया बड़ा कांड, कश्मीर में छा गयी हर ओर शान्ति

stone-pelting-kashmir

कश्मीर : पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले से कश्मीर में हिंसा और पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी तो आयी है लेकिन अभी भी कुछ जगहों में पत्थरबाजी की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है. कई महीनों से शांत कश्मीर में एक बार फिर से आतंकवादियों ने सर उठाना शुरू कर दिया है. हालांकि सेना आतंकियों को माकूल जवाब दे रही है लेकिन पत्थरबाज सेना का काम मुश्किल कर रहे हैं.


पत्थरबाजों के खिलाफ सुरक्षाबलों की कड़ी कार्यवाही !

अभी कुछ ही वक़्त पहले नए सेना चीफ बिपिन रावत ने कश्मीर के पत्थरबाजों को चेतावनी भी दी थी कि अब यदि उन्होंने सेना या सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी की तो उन्हें गोली मार दी जायेगी. लेकिन पत्थरबाजों ने सेना प्रमुख की चेतावनी को हलके में लेते हुए एक बार फिर से सेना पर पत्थरबाजी की और फ़ौरन सेना ने उन्हें उनके अंजाम तक पहुचा दिया.

दरअसल जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में सुरक्षाबलों को आतंकियों के छुपे होने की खबर मिली. जिसके बाद आनन्-फानन में सेना ने पूरे इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया. सर्च आपरेशन के दौरान आतंकियों की ओर से सेना पर गोलीबारी की जाने पर आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गयी.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सेना के बहादुर जवानों ने जान हथेली पर रखकर आतंकियों से लोहा लेना शुरू ही किया था कि तभी मुठभेड़ वाली जगह पत्थरबाज पहुंच गए और आतंकियों की रक्षा करने के लिए और सेना के जवानों का ध्यान बंटाने के लिए पत्थरबाजी शुरू कर दी.


1 पत्थरबाज की मौत, 8 घायल !

सेना की ओर से फ़ौरन पत्थरबाजों को जवाब दिया गया और सेना की इस जवाबी कार्यवाही में एक पत्थरबाज के गर्दन में गोली लग गयी और 8 अन्य घायल हो गए. गर्दन में गोली लगने के बाद अस्पताल ले जाते वक्त पत्थरबाज की रास्ते में ही मौत हो गई. रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए पत्थरबाज की उम्र लगभग 22 साल थी.

अधिकारी के मुताबिक़ पत्थरबाजों ने आतंकियों के समर्थन में नारेबाजी करते हुए सेना पर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए. जिसके बाद सुरक्षाबलों को जवाबी कार्यवाही करने के लिए मजबूर होना पड़ा. पत्थरबाजों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षाबलों को पेलेट गन और आंसू गैस के गोलों का भी सहारा लेना पड़ा.

गौरतलब है कि पिछले रविवार को पुलवामा जिले में में हिजबुल के दो आतंवादियों ने पुलिस के काफिले पर हमला करने की कोशिश की थी. हालांकि पुलिस ने दोनों आतंकियों को मार गिराया था. सूत्रों के मुताबिक़ लश्कर ने अपने आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए और सेना का ध्यान हटाने के लिए बड़गाम में गोलीबारी भी की.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments