Home > ख़बरें > ब्रेकिंग- घाटी में सरकार की सबसे बड़ी कार्यवाही, रौद्र रूप में आयी भारतीय सेना

ब्रेकिंग- घाटी में सरकार की सबसे बड़ी कार्यवाही, रौद्र रूप में आयी भारतीय सेना

shoot-stone-pelters

कश्मीर : कश्मीर में लगातार हो रही पत्थरबाजी से निपटने के लिए सरकार और सेना बेहद सख्त हो गयी है. बुधवार को सेना ने आतंकियों के एनकाउंटर कर दिया था और उसके बाद पत्थरबाजों पर भी बेहद सख्त कार्रवाई की थी जिसके चलते एक पत्थरबाज की मौत हो गयी थी. इसी के चलते घाटी में शुक्रवार की सामूहिक नमाज के बाद अलगावादी नेताओं द्वारा किये जाने वाले विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए अलगावादी नेताओं को उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया है और भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती भी कर दी गई है.


आतंकियों के एनकाउंटर से नाखुश अलगाववादी नेता !

दरअसल पुलवामा जिले के पडगमपोरा में बुधवार की रात सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों का एनकाउंटर कर दिया था. आतंकियों के मारे जाने के बाद इलाके के कई लोग बड़ी संख्या में बाहर आ कर हंगामा करने लगे थे. इनकी तरफ से सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी भी की गयी जिसके बाद बेकाबू भीड़ को काबू में करने के लिए हवाई फायरिंग के साथ-साथ लाठी चार्ज और आंसू गैस का भी इस्तमाल करना पड़ा था. जिसके कारण एक पत्थरबाज की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गयी थी और पांच अन्‍य घायल हो गए थे. जिसके बाद अलगाववादियों ने शुक्रवार को घाटी में बंद का आह्वान करने के साथ-साथ विरोध प्रदर्शन का आह्वान भी किया.

अलगाववादी नेता घर में नज़रबंद !

सैय्यद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक, जफर अकबर भट्ट, यासीन मलिक, शब्बीर शाह, अशरफ सहराई और अशरफ लावे सहित कई अन्य अलगाववादी नेताओं ने शुक्रवार को नमाज के बाद कश्मीर की आग को और भड़काने के उद्देश्य से घाटी में विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया था, जिसे रोकने के लिए सरकार ने इन नेताओं को घर में नजरबंद किया है.


पुराने कश्मीर और श्रीनगर के अति -संवेदनशील इलाकों में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के अर्धसैनिक बलों की तैनाती की है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक़ दक्षिण कश्मीर में भी कानून-व्यवस्था बनाए रखने के कड़े इंतजाम किए गए हैं लेकिन घाटी में किसी भी जगह पर कर्फ्यू नहीं लगाया गया है.

सख्त मूड में सेना

हालांकि अलगाववादियों के बंद के आह्वान के चलते आज घाटी में दुकानें, सार्वजनिक वाहन और तमाम तरह के कारोबार करीब-करीब बंद हैं. इसके अलावा ज्यादातर शैक्षिक संस्थान भी आज बंद हैं. वहीँ सार्वजनिक वाहनों की उपलब्धता न होने के चलते बैंकों, डाकघरों और सरकारी कार्यालयों में भी आज बहुत कम लोगों आये.

सूत्रों के मुताबिक़ कश्मीरी प्रशासन और सेना किसी भी तरह की ढिलाई बरतने के मूड में नज़र नहीं आ रही है. पांच राज्यों के नतीजे आने के बाद सरकार अलगावावडी नेताओं के खिलाफ कड़ी करवाई भी कर सकती है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments