Home > ख़बरें > कार्ति चिदंबरम ने कबूला सुप्रीम कोर्ट में चौंकाने वाला सच, खुल गया सोनिया-मनमोहन का कच्चा-चिट्ठा

कार्ति चिदंबरम ने कबूला सुप्रीम कोर्ट में चौंकाने वाला सच, खुल गया सोनिया-मनमोहन का कच्चा-चिट्ठा

karti-chidambaram-sonia-manmohan

नई दिल्ली : लालू यादव के बाद अब कांग्रेस के बड़े नेताओं के जेल जाने की बारी आ गयी है. मोदी सरकार भ्रष्टाचारियों को सख्त से सख्त सजा दिलवाने का अपना वादा बखूबी निभाती नज़र आ रही है. बताया जा रहा है कि जेल जाने वालों में सब पहला नाम पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम का आने जा रहा है. ताजा जानकारी के मुताबिक़ कार्ति चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट में अपने विदेशी खातों और सम्पत्तियों की बात कबूल ली है.


सुप्रीम कोर्ट में कार्ति ने कबूली विदेश में अकाउंट होने की बात

हालांकि अभी तक कार्ति ने अपने केवल दो ही खाते और एक ही विदेशी संपत्ति की बात कबूली है, लेकिन जानकारों के मुताबिक़ ये एक बड़ी कामयाबी है. जल्द ही कार्ति सारा सच उगल देगा. कार्ति ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि विदेश में उसका एक बैंक खाता और एक संपत्ति है.

बता दें कि कार्ति पर सीबीआई की जांच चल रही है और सीबीआई ने उनके विदेश जाने पर ये कहते हुए रोक लगाई हुई है कि कार्ति अपने काले कारनामे छिपाने के लिए विदेश जा कर अपने बैंक खाते बंद करवाने की कोशिशें कर रहे हैं.

बला के भ्रष्टाचारी हैं चिदंबरम और उसका बेटा कार्ति

वहीँ बीजेपी के फायरब्रांड नेता डॉक्टर सुब्रमण्यन स्वामी आयकर विभाग को कार्ति चिदंबरम और उनकी कंपनियों के कई विदेशी बैंकों में 21 बैंक खातों के सबूत पहले ही सौंप चुके हैं. जानकारी के मुताबिक़ कार्ति ने अपने पिता के पद का फायदा उठाकर बड़े पैमाने पर मनी लॉन्डरिंग को अंजाम दिया है. बताया जा रहा है कि कार्ति के मोनाको के बार्कलेज बैंक, यूके के मेट्रो और एचएसबीसी बैंक, सिंगापुर के स्टैंडर्ड चार्टर्ड और ओसीबीसी बैंक, स्विट्जरलैंड के यूबीएस बैंक में भी खाते हैं.

इसके अलावा कार्ति की कालेधन से खरीदी गयी विदेशों में कई सम्पत्तियाँ भी हैं. सीबीआई व् आयकर विभाग पहले से ही कार्ति के कई ठिकानों पर छापे मारकर अहम् दस्तावेज जब्त कर चुके हैं. कार्ति के खिलाफ जांच एजेंसियों के पास पुख्ता सबूत आ चुके हैं और कार्ति को जेल जाने में अब ज्यादा वक़्त नहीं लगेगा.

विदेश जाने के लिए गिड़गिड़ा रहा चिदंबरम का बेटा

वहीँ कार्ति अपने पाप छिपाने के लिए विदेश जाने के लिए बेताब हैं. सोमवार को कार्ति ने सुप्रीम कोर्ट के सामने अपनी बेटी के कैंब्रिज विश्वविद्यालय में दाखिला कराने का बहाना लगाते हुए ब्रिटेन जाने देने की मांग की. कार्ति की तरफ से उनके वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि वह यह हलफनामा देने को तैयार हैं कि वह वहां किसी बैंक में नहीं जाएंगे.


कार्ति ने कोर्ट से अपील की है कि उन्हें 19 अक्टूबर से 13 नवंबर तक ब्रिटेन जाने की अनुमति दी जाए, यदि उन्हें विदेश जाने की अनुमति मिलती है तो वह वहाँ अपने खाते बंद नहीं करेंगे. हालांकि अभी तक कार्ति को विदेश जाने की इजाजत नहीं दी गयी है.

हजारों करोड़ों के घपले में शामिल बाप-बेटा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कार्ति के खिलाफ आईएनएक्स मीडिया प्राइवेट लिमिटेड में एफडीआई के लिए भ्रष्टाचार करने और आपराधिक षड्यंत्र करने के आरोप हैं. मामला कोई छोटा-मोटा नहीं बल्कि 350 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार का है. आईएनएक्स मीडिया के फंड को FIPB के जरिये तब मंजूरी दी गई थी, जब पी. चिदंबरम विभाग के मंत्री थे.

गैर-कानूनी तरीके से मंजूरी दिए जाने और भ्रष्टाचार के लिए इस मामले में जांच शुरू तो हुई थी लेकिन कांग्रेस सरकार के दौरान इस मामले को दबाने की कोशिशें की गई थी, मगर मोदी सरकार आते ही मामले की दोबारा से जांच शुरू की गयी.

चिदंबरम, सोनिया, मनमोहन सिंह सभी की मिलीभगत?

मैक्सिस मलेशिया की एक कंपनी है, जिसका मालिकाना हक बिजनेसमैन टी आनंद कृण्णन के पास है. एयरसेल को सबसे पहले एक एनआरआई बिजनेसमैन सी सिवसंकरन (सिवा) ने प्रमोट किया था, जो तमिलनाडु के मूल निवासी थे. 2006 में मैक्सिस ने एयरसेल की 74 फीसदी शेयर खरीद लिए थे. बचे हुई 26 फीसदी शेयर का मालिकाना हक सुनीता रेड्डी के पास है जो अपोलो के ग्रुप फाउंडर डॉ सी प्रताप रेड्डी की बेटी हैं.

पी. चिदंबरम पर इस मामले में आरोप है कि उन्होंने 3500 करोड़ रुपये की एयरसेल मैक्सिस डील को कैबिनेट कमेटी की इजाज़त के बिना ही मंजूरी दे दी थी जबकि नियमों के मुताबिक कोई भी वित्तमंत्री 600 करोड़ रुपये तक की डील को ही मंजूरी दे सकता है. मगर कोंग्रेसी नेता तो देश को अपने बाप का समझते हैं और जनता को अपने पाँव की जूती. ऊपर से पीएम बना दिया मनमोहन सिंह को, जिनके सामने सारे घपले होते रहे और वो मैडम का हुक्म बजाते रहे.


यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments