Home > ख़बरें > लाखों के तौलिये खरीदने वाले इस कांग्रेसी सीएम ने अब जो किया है वो देख आपकी आंखें फटी रह जाएँगी

लाखों के तौलिये खरीदने वाले इस कांग्रेसी सीएम ने अब जो किया है वो देख आपकी आंखें फटी रह जाएँगी


बेंगलुरु : ये खबर आपकी आँखें खोलने को मज़बूर कर देगी. कांग्रेस पार्टी की नस नस में घोटाला करना लिखा हुआ है. अभी खबर अनुसार एक आरटीआई से बड़ा खुलासा हुआ है कि किस प्रकार कर्णाटक कांग्रेस के सीएम जनता के पैसों को बेतहाशा उड़ा रहे हैं.

कांग्रेस का एक और घिनौना चेहरा आया सामने

आपको ये खबर चौंकाने वाली लग सकती है, लेकिन ये 100 फीसदी सच है कि कर्नाटक कांग्रेस के सीएम सिद्धारमैया के घर ‘कावेरी’ और घरेलू कार्यालय ‘कृष्णा’ में सिर्फ कॉफी, चाय, बिस्किट और पीने के पानी में करीब 60 लाख रुपए खर्च किए गए हैं. सबसे बड़ी बात तो यह है कि सीएम आवास पर रोजाना मिलने आने वाले लोगों को दिए जाने वाले चाय-बिस्किट के खर्च को अभी शामिल नहीं किया गया है. बिल में अन्य लोगों को दिए जाने वाले रिफ्रेशमेंट और मेहमानों को दिए जाने वाले खाने के खर्च को भी शामिल नहीं किया गया.

जनता के पैसे को पानी की तरह बहाया जा रहा है

अन्य मेहमानों का खर्च नहीं शामिल किया गया है तब ये 60 लाख है कर देते तो कितना करोड़ रुपया जाता ये आप सोच सकते हैं. आरटीआई के जरिए इस बात का खुलासा हुआ कि 60 लाख रुपए सीएम और उनके परिवार के सदस्यों के चाय, बिस्किट पर उड़ाए गए.

एक आरटीआई के ज़रिये से इसकी जानकारी मांगी गई थी. जिसका जवाब आया था कि साल 2013-14 में करीब दस लाख रुपए कॉफी, चाय और पैकेज वाटर पर खर्च किए गए. अगर स्नैक्स को भी शामिल कर दें तो यह खर्च 13.65 लाख रुपए तक बढ़ जाता है.


यही नहीं 2015-16 में ये रकम बढ़कर 11 लाख तक पहुंच गई. इसमें 4.56 लाख रुपए बिस्किट और पेय पदार्थों पर 6.7 लाख रुपए खर्च किए गए. साल 2016-17 में 4.6 लाख रुपए बिस्किट पर खर्च किए गए. जबकि 7 लाख रुपए पेय पदार्थों पर खर्च किए गए. वहीं साल 2017-18 में अगस्त महीने तक 4.6 लाख रुपए बिस्किट जबकि 7.2 लाख रुपए पेय पदार्थों पर खर्च किए जा चुके हैं. रिपोर्ट के अनुसार बीते चार सालों की बात करें तो इस दौरान 22 लाख रुपए बिस्किट की खरीदारी में खर्च किए गए. जबकि 38 लाख रुपए पेय पदार्थों को खरीदने में खर्च किए गए.

अवैध रूप से चल रही हैं इंदिरा कैंटीन

यह है कर्णाटक की कांग्रेस सरकार का असली चेहरा. जो घोटाले करके जनता के पैसों को दीमक की तरह खा रही है. सीएम तो छोड़िये अभी 100 इंदिरा कैंटीन जो राहुल गाँधी ने खुलवाई वे सब अवैध तरीके से चल रही हैं. उसमें धड़ल्ले से गरीब जनता को 5 रूपए 10 रूपए में खाना दिया जा रहा है लेकिन ये कैंटीन के लिए कांग्रेस ने FSSAI संस्था से लाइसेंस तक नहीं लिया है. गरीब जनता की जान के साथ खिलवाड़ हो रहा है.सरकार कांग्रेस की अपनी हो तो लाइसेंस लेने की क्या ज़रूरत है ऐसा इंदिरा कैंटीन चलने वाले संयोजक का कहना है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments