Home > ख़बरें > आतंकी बम धमाके से हिल गया अमेरिका, पीएम मोदी के साथ मिलकर ट्रम्प करेंगे इनका काम-तमाम !

आतंकी बम धमाके से हिल गया अमेरिका, पीएम मोदी के साथ मिलकर ट्रम्प करेंगे इनका काम-तमाम !

donald-trump-modi

नई दिल्ली : आतंकवाद से केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया का लगभग हर देश त्रस्त हो चुका है. भारत के कश्मीर में तो आये दिन आतंकी हमले होते ही रहते हैं लेकिन दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका भी इससे अछूता नहीं है. इसी कड़ी में अभी-अभी एक और बड़ी खबर सामने आयी है.

खबर आयी है कि अफगानिस्तान के काबुल में अमेरिकी दूतावास और नाटो परिसर के पास जबरदस्त आत्मघाती हमला हुआ है. आतंकियों ने नाटो के काफिले को निशाना बनाकर हमला किया, जिसमे 8 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि 22 लोग बुरी तरह घायल हो गए.

अफगानी मीडिया के मुताबिक, आतंकियों ने नाटो के काफिले में शामिल सैनिकों के लिए सामान ले जाने वाली गाड़ियों को निशाना बनाकर हमला किया. हमला सुबह काबुल के एक व्यस्त इलाके PD9 मसूद स्क्वेयर में हुआ. पब्लिक हेल्थ अधिकारियों ने बताया कि आत्मघाती हमले में 8 लोग मारे गए और 22 लोग घायल हुए हैं. चश्मदीदों ने बताया कि जहां धमाका हुआ, वहां चारों तरफ खून ही खून बिखरा हुआ था.

अमेरिका गिरा चुका है “सबसे बड़ा गैर-परमाणु बम”

अभी हाल ही में अपने एक सैनिक के आईएसआईएस आतंकियों द्वारा मारे जाने पर अमेरिका ने अफगानिस्तान के नंगरहार में आईएस के खिलाफ सबसे बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए उसके ठिकानों पर मदर ऑफ ऑल बॉम्ब (MOAB) यानी ‘सबसे बड़ा गैर-परमाणु बम’ गिरा दिया था. लेकिन इसके बावजूद आतंकियों का मनोबल काम नहीं हुआ और आज उन्होंने इस हमले को अंजाम दे दिया. अब देखना है कि अमेरिका की ओर से इसके खिलाफ क्या कार्रवाई की जाती है.

गौरतलब है कि पिछले दिनों पाकिस्तानी आतंकियों ने कश्मीर में भी बम धमाके किये, जिसमे कई लोगों व् सेना के जवानों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. वहीँ पिछले दिनों पाकिस्तान की ओर से सीजफायर का उलंघन करके भारतीय जवानों की ह्त्या और उनके मृत शरीर के साथ बर्बरता को अंजाम दिया गया.

अमेरिकी सैनिकों पर होने वाले हमलों और भारतीय सैनिकों पर हो रहे हमलों को देखते हुए अमेरिका और भारत के आतंक के खिलाफ एक साथ मिलकर जंग लड़ने का अनुमान लगाया जा रहा है. पिछले दिनों अमेरिकी जानकारों ने बताया भी था कि पाकिस्तान तालिबान का इस्तमाल भारत के खिलाफ और अफगानिस्तान में अमेरिका के खिलाफ कर रहा है. ऐसे में दोनों देशों के साथ आने की संभावना काफी बढ़ गयी है. अमेरिका के भारत के साथ मिलकर आतंक के खिलाफ जंग छेड़ने से चीन के बीच में आने का अंदेशा भी ख़त्म हो जाएगा.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments