Home > ख़बरें > मोदी ने खोले सेना के हाथ तो सेना ने दिखाया अपना दम, एक ही दिन में बिछा दीं देश के दुश्मनों की लाशें !

मोदी ने खोले सेना के हाथ तो सेना ने दिखाया अपना दम, एक ही दिन में बिछा दीं देश के दुश्मनों की लाशें !

modi-indian-army

बड़गाम : जहाव एक ओर पीएम मोदी भारत को विकसित राष्ट्र बनाने की कोशिशों में जी-जान से लगे हुए हैं, वहीँ दूसरी ओर पाकिस्तान है कि उसे कश्मीर से ही फुर्सत नहीं. रात-दिन कश्मीर पर कब्जे का ख्वाब देखने वाले पाकिस्तान की ना’पाक साजिशों को रोकने के लिए मोदी सरकार ने भी सेना को खुली छूट दे दीं है, जिसके बाद अब कश्मीर से बड़ी खबर सामने आ रही है.


पाक आतंकियों का एनकाउंटर !

दरअसल खुफिया एजेंसियों को जानकारी मिली कि पाकिस्तान अपने आतंकियों की कश्मीर में घुसपैठ कराकर आतंकी हमलों से कश्मीर व् देश के कई अन्य राज्यों को दहलाने की साजिश कर रहा है. पीएम मोदी और सीएम योगी पर संभावित हमले की साजिश के अलर्ट भी जारी किये गए. जिसके बाद से सुरक्षाबलों ने चौकसी और भी ज्यादा बढ़ा दीं.

इसी बीच सुरक्षाबलों को खुफिया जानकारी मिली कि बड़गाम जिले के हयातपुरा इलाके में कुछ पाकिस्तानी आतंकी छुपे हुए हैं. सुरक्षाबलों ने फ़ौरन एक्शन लेते हुए इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू किया, जिस दौरान पकडे जाने के डर से आतंकियों ने जवानों पर अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दी. खबर है कि मोदी सरकार की ओर से सेना व् सुरक्षाबलों को सख्त निर्देश मिले हुए हैं कि आतंकियों को देखते ही उड़ा दिया जाए.

नहीं हुई पत्थरबाजी !

सुरक्षाकर्मियों ने फ़ौरन जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तानी आतंकी और उसके साथी को वहीँ ढेर कर दिया. कई घंटों तक चली मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की पहचान लश्कर के आतंकी के तौर पर हुई है. इनमे से एक आतंकी यूनुस बडगाम का स्थानीय नागरिक है जबकि दूसरे आतंकी की पहचान पाकिस्तान के सुहैल भट्ट पुत्र माजिद भट्ट के तौर पर हुई है. बताया जा रहा है कि एनकाउंटर अभी भी चल रहा है.

मारे गए आतंकियों के पास से सुरक्षाबलों ने दो AK-47 राइफल्स और एक पिस्तौल बरामद की है. सबसे बड़ी बात ये रही कि पिछली बार पत्थरबाजों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होने के चलते इस ऑपरेशन में पत्थरबाज आतंकियों को बचाने सामने नहीं आये.

गौरतलब है कि हाल ही में सेना प्रमुख ने पत्थरबाजों को चेतावनी भी दीं थी कि यदि उन्होंने आतंकियों की ढाल बनने की कोशिश की तो उन्हें आतंकी ही माना जाएगा और गोली मार दीं जायेगी. हालांकि सेना प्रमुख की चेतावनी को हलके में लेते हुए पिछले एनकाउंटर के दौरान पत्थरबाजों ने आतंकियों की ढाल बनने की कोशिश की थी.

जिसके बाद सुरक्षाबलों ने सख्त कार्रवाई करते हुए पत्थरबाजों पर फायरिंग कर दीं थी, जिसमे जाहिद रशीद गनई, आमिर वाजा उर्फ साकिब और इशफाक नाम के पत्थरबाजों की जान चली गयी थी व् लगभग 100 पत्थरबाज घायल भी हो गए थे. उस घटना के बाद इस बार हुए आतंकियों के एनकाउंटर के दौरान पत्थरबाजी की घटना देखने को नहीं मिली.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments