Home > ख़बरें > भारत ने हासिल की ज़बरदस्त कामयाबी,रच दिया ज़बरदस्त इतिहास, दुनियाभर में बजा डंका, जलभुन के राख हुआ पाक

भारत ने हासिल की ज़बरदस्त कामयाबी,रच दिया ज़बरदस्त इतिहास, दुनियाभर में बजा डंका, जलभुन के राख हुआ पाक

नई दिल्ली : एक ओर आतंकवादी देश पाकिस्तान भारत में घुसने की हर नापाक साज़िश करने में व्यस्त है और दूसरी ओर भारत अंतर्राष्ट्रीय मंच पर एक के बाद एक इतिहास रचता जा रहा है. अभी हाल ही में इसरो यानी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने “श्री हरिकोटा” उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से एक ही रॉकेट से 104 उपग्रहों को प्रक्षेपित करके इतिहास रच दिया था. तो वहीँ अब एक बार फिर इसरो ने वो कमाल कर दिखाया है जिसे देख आज पूरी दुनिया सलाम कर रही है.


भारत ने रचा इतिहास

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक अंतरिक्ष की दुनिया में भारत ने शानदार इतिहास रच दिया है. आज इसरो का सैटेलाइट भेजने का शतक पूरा हो गया है. इसरो ने शुक्रवार सुबह 9.28 पर पीएसएलवी के जरिए एक साथ 31 उपग्रह को लॉन्च किया. भेजे गए कुल 31 उपग्रहों में से तीन भारतीय हैं और 28 छह देशों से हैं: कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका.

इन सभी 31 सैटेलाइट का वजन 1323 किलोग्राम है। सभी सैटेलाइट को लांच करने की व्यवस्था इसरो और उसकी व्यवसायिक शाखा अंतरिक्ष कारपोरेशन लिमिटेड ने संभाली है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मौके पर इसरो की जमकर तारीफ की और बधाई दी. मोदी ने ट्विटर पर लिखा कि नए साल की शुरुआत में ही इसरो की इस उपलब्धि पर बहुत बधाई. हमें उम्मीद है कि ये देश के किसानों, मछुआरों और नागरिकों की मदद करेगा.


जल भुन के राख हुआ पाकिस्तान

तो वहीँ भारत की इस ज़बरदस्त उपलब्धि पर पाकिस्तानी को ज़ोरदार मिर्ची लग गयी है, पाक विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भारत जिन उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रहा है, उससे वह दोहरी नीति अपना रहा है. इन उपग्रहों का इस्तेमाल नागरिक और सैन्य उद्देश्य में किया जा सकता है. इसलिए यह जरूरी है कि इनका इस्तेमाल सैन्य क्षमताओं के लिए ना किया जाए, अगर ऐसा होता है कि इसका क्षेत्र पर गलत प्रभाव पड़ेगा.

इससे पहले आपको बता दें बुधवार को ही केंद्र सरकार ने मशहूर वैज्ञानिक के. शिवन को इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) का नया चेयरमैन नियुक्त किया है. उन्होंने किरन कुमार की जगह ली. हालांकि, शुक्रवार को लॉन्च के दौरान किरन कुमार भी मौजूद थे.

उच्च कोटि की तस्वीरें भेजेगा कार्टोसैट-2 कार्टोसैट का मुख्य मकसद उच्च गुणवत्ता की तस्वीरें भेजना है। इसका इस्तेमाल नक्शे बनाने में किया जाएगा। इसमें मल्टी स्पेक्ट्रल कैमरे लगे हुए हैं। इससे तटवर्ती इलाकों, शहरी-ग्रामीण क्षेत्र, सड़कों और जल वितरण आदि की निगरानी की जा सकेगी।


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments