Home > ख़बरें > चीन से आयी बेहद खौफनाक खबर से थर-थर काँपा ड्रैगन, जिनपिंग के छूटे पसीने

चीन से आयी बेहद खौफनाक खबर से थर-थर काँपा ड्रैगन, जिनपिंग के छूटे पसीने

china-ISIS-threat

नई दिल्ली : आतंकवाद से तकरीबन दुनिया का हर देश त्रस्त हो चुका है. भारत भी इनमे से ही एक देश है जो सदियों से पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का सामना करता आ रहा है. चीन के संरक्षण के चलते पाकिस्तान भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पीएम मोदी ने भी कहा था कि आतंक के खिलाफ दुनिया के सभी देशों को एकजुट होना ही होगा तभी इसे हराया जा सकता है लेकिन फिर भी उस वक़्त चीन को शायद वो बात समझ नहीं आयी. आतंकी मसूद अजहर को लेकर भारत की राह में रोड़े अटकाने वाले चीन को अब खुद इसका फल मिलता नज़र आ रहा है.

ऊपर वाले की लाठी में आवाज नहीं होती” ये कहावत फिलहाल चीन पर बेहद सटीक बैठ रही है. खबर आयी है कि ISIS के आतंकियों ने अब चीन को धमकी दे दी है. ISIS से जुड़े उइगर समुदाय के आतंकियों ने चीन सरकार को धमकी दी है कि जल्द ही चीन में खून की नदियां बहेंगी.

आपको बता दें कि उइगर अलगाववादियों पर पश्चिमी जिनजियांग इलाके में हमले करने के आरोपों के चलते चीन ने सालों पहले इन्हें चीन से निकाल दिया था. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ आतंकी संगठन ISIS ने अब बड़ी संख्या में शिनजियांग प्रांत के उइगर मुसलमानों से हाथ मिला लिया हैं और इन्हें बाकायदा हथियार चलाने की ट्रेनिंग देना शुरू भी कर दिया है.

इसके साथ ISIS ने एक वीडियो भी जारी किया है जिसमे ट्रेनिंग ले रहे उइगर आतंकियों ने जल्द ही चीन लौटने का ऐलान किया है और धमकी दी है कि वो चीन में खून की नदियां बहा देंगे. विडियो के सामने आते ही चीन ये डर सताने लग गया है कि ISIS से ट्रेनिंग ले रहे ये उइगर आतंकी यदि चीन में घुस गए तो भारी कत्लेआम मचा सकते हैं.

विडियो में उइगर के आतंकी कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि चीन के लोगों हम खलीफा के लड़ाके हैं. हम जल्द ही वहाँ आएंगे और हथियारों की भाषा से तुम्हे समझायेंगे. हम खून की नदियां बहाएंगे. जानकारों के मुताबिक़ चीन को पहली बार किसी आतंकी संगठन ने इस तरह से खुले तौर पर धमकी दी है. चीन को इस धमकी को पूरी गंभीरता से लेना होगा क्योंकि ईराक और सीरिया में ISIS हार रहा है. इसके बाद से खबर आ रही है कि ये आतंकी अब एक नए ठिकाने की खोज में लगे हुए हैं.

खैर अब जब कि चीन पर खुद भी आतंक के बादल मंडराने लगे हैं तो उम्मीद की जा रही है कि अब चीन मसूद अजहर जैसे आतंकियों के खिलाफ भारत के रुख का समर्थन करेगा. आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में चीन को भारत का साथ देना ही होगा क्योंकि यदि और कुछ वक़्त चीन इस खतरे को नज़रअंदाज करता है तो वो दिन दूर नहीं जब आतंकियों वो कत्लेआम चीन में भी शुरू कर देंगे.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments