Home > ख़बरें > कश्मीर में आतंकियों के मरते ही दिल्ली यूनिवर्सिटी में फिर मचा जबरदस्त बवाल, छात्र संगठनों में भड़का गुस्सा

कश्मीर में आतंकियों के मरते ही दिल्ली यूनिवर्सिटी में फिर मचा जबरदस्त बवाल, छात्र संगठनों में भड़का गुस्सा

du-umar-khalid

नई दिल्ली : अभी कुछ ही वक़्त पहले जेएनयू के छात्र उमर खालिद को दिल्ली यूनिवर्सिटी में बुलाए जाने और कथित रूप से देश विरोधी नारों के चलते दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में दो छात्र गुटों बीच जबरदस्त मारपीट हुई थी, जिसके बाद वामपंथी व् सेकुलरिज्म के ठेकेदारों ने मोदी सरकार पर ही ऊँगली उठा दी थी. खबर आयी है कि मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने के अवसर पर पीएम मोदी के ऊपर कीचड उछालने के लिए एक और साजिश को अंजाम दिया जा रहा है.

डीयू की दीवारों पर ISIS के समर्थन में लिखे नारे

इस बार भी दिल्ली यूनिवर्सिटी का ही सहारा लिया जा रहा है. दिल्ली यूनिवर्सिटी की दीवारों पर शनिवार को खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस के समर्थन में नारे लिखे होने से एक बार फिर हड़कंप मच गया. देर शाम छात्रों के बीच भी माहौल काफी गरमा गया. जिसके बाद आईएसआईएस के समर्थन में नारे लिखे होने के संबंध में डूसू के सेक्रेटरी और एबीवीपी के सदस्य अंकित सिंह सांगवान ने मौरिस नगर थाने में इस मामले की शिकायत दर्ज कराई है. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने तुरंत जांच शुरू कर दी है.

बता दें कि अभी कुछ ही वक़्त पहले जेएनयू की कुछ दीवारों पर भी कश्मीर की आजादी के समर्थन में और भारत विरोधी पोस्टर लगाने को लेकर कन्हैया कुमार और उमर खालिद को लेकर काफी बवाल हुआ था. जानकारों के मुताबिक़ विपक्ष को कोई मुद्दा ना मिलने पर समय-समय पर इस तरह की देश विरोधी गतिविधियों के जरिये मोदी सरकार को घेरने की कोशिशें की जाती हैं.

नक्सलियों के समर्थन में भी नारे

वहीँ इस मुद्दे पर डूसू के सेक्रेटरी और एबीवीपी के सदस्य अंकित सिंह सांगवान का कहना है कि यूनिवर्सिटी की दीवारों पर ISYM ISIS लिखा हुआ देखा गया, जिसका मतलब है कि हम आईएसआईएस संगठन का समर्थन करते हैं. इसके अलावा यूनिवर्सिटी की सोशल वर्क डिपार्टमेंट की बिल्डिंग में “जस्टिस फॉर नक्सल्स“, “अफस्पा से आजादी” व् कुछ अन्य भाषा में भी देश विरोधी बातें लिखी देखी गयी हैं.

वहीँ इस मामले पर पुलिस का कहना है कि डूसू के सचिव अंकित सांगवान ने मौरिस नगर थाने को जानकारी दी कि उन्हें हॉस्टल के कुछ छात्रों ने फोन करके बताया है कि कॉलेज ऑफ कॉमर्स की दीवारों पर आईएसआईएस के समर्थन में नारे लिखे हुए हैं और आजादी जैसे शब्द व् नक्सलियों के समर्थन में भी बातें लिखी हुई हैं.

छात्रों में भड़का गुस्सा

यूनिवर्सिटी की सोशल वर्क डिपार्टमेंट की दीवारों पर भी देश विरोधी नारे लिखे हुए पाए गए, जिसके बाद छात्रों में गुस्सा भड़क उठा. एबीवीपी का आरोप है कि यूनिवर्सिटी के माहौल को बिगाड़ने की साजिश की जा रही है. पूरे मामले पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है लेकिन अभी तक इस मामले में किसी संगठन या व्यक्ति का नाम सामने नहीं आया है.

दरअसल मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर बीजेपी मोदी फेस्ट का आयोजन करके देश की जनता तक सरकार द्वारा किये गए कामों की जानकारी पहुंचाने की तैयारी में है. बताया जा रहा है कि विपक्ष को ये बात नागवार गुजर रही है और मोदी सरकार के फेस्ट में अड़ंगा डालने के लिए कई तरह की साजिशें की जा रही हैं. इस तरह की देशविरोधी गतिविधियां चलाई जा रहे हैं ताकि लोगों का ध्यान मोदी सरकार की ओर से हटाया जा सके.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments