Home > ख़बरें > अमेरिका में आया सदी का सबसे भयंकर तूफ़ान, मुसीबत में भी भारतीयों ने किया भारत का नाम रौशन

अमेरिका में आया सदी का सबसे भयंकर तूफ़ान, मुसीबत में भी भारतीयों ने किया भारत का नाम रौशन

नई दिल्ली : अमेरिका में इतिहास का सबसे भयंकर तूफ़ान इरमा आया हुआ है. जिसने दक्षिणी अमेरिका में बहुत बड़ी तबाही मचानी शुरू कर दी है. पूरा का पूरा शहर खाली करा दिया गया है. बेहद खौफनाक मंजर है. इनमें बड़ी संख्या में भारतीय भी शामिल हैं. जो इसमें फंस गए हैं लेकिन ऐसे बुरे हालात में भी भारतियों ने पूरे विश्व में हिन्दुओं का सर ऊँचा करवाया है.


अमेरिका में सदी के सबसे भयंकर तूफ़ान में भी हिन्दुओं ने जीत लिया दिल

यही तो है वसुधैव कुटुंबकम् की सनातनी परंपरा, वहां रह रहे भारतियों ने ऐसी ज़बरदस्त मुसीबत की घडी में भी इंसानियत की जो मिसाल पेश करी है उसे देख आपका सीना भी गर्व से फूल उठेगा. इस वक़्त अमेरिका के फ्लोरिडा में ऐसा तूफ़ान आया हुआ है जिसे देख अच्छे अच्छों को रूह काँप उठे. चरों तरफ तबाही खौफनाक मंजर छाया हुआ है. शहर के 60 लाख लोग पलायन कर चुके हैं. पूरे शहर की बिजली ठप्प हो गयी है. इस तूफान के कारण 177 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रहे हैं. पेड़ के पेड़ उखड के उड़ रहे हैं. इमरजेंसी लागू कर दी गयी है.

भारतीय दे रहे हैं मंदिरों में पनाह

ऐसे में भारतीय लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. साथ ही वहां के भारतीय सामाजिक संगठन भी इस आपदा की घड़ी में मदद के लिए आगे आए हैं. गुजरात समाज अटलांटा और हिंदू टेंपल ऑफ अटलांटा ने मिलकर 3 राहत शिविर स्थापित किए हैं. इसमें ठहरने और खाने पीने का पूरा बंदोबस्त किया गया है. सभी पीड़ितों को वहां मौजूद मंदिरों में भी पनाह दी जा रही है. मंदिर बहुत मज़बूत तकनीक से बनाये हुए हैं और वो तूफ़ान से काफी दूर भी हैं इसलिए सबस सुरक्षित हैं. यही नहीं अन्य शहरों से भी भारतीय मदद को आ रहे हैं.

30 लाख से ज्यादा घरों बिजली गुल

आपको बता दें अब तक इस तूफ़ान से 28 लोगों की मौत हो चुकी है साथ ही 60 लाख से ज़्यादा लोग शहर छोड़ चुके हैं. तूफान से हजारों घर और कई बिजनेस बिल्डिंग तहस-नहस हो गई है, कंपनियों ने छुट्टी घोषित कर दी है, दूर दूर तक किसी भी होटेल में जगह नहीं है. फ्लोरिडा की कंपनियों में बड़ी संख्या में भारतीय कंप्यूटर इंजीनियर हैं. फ्लोरिडा में रहने वाले लोग अन्य शहरों के होटल ढूंढ रहे हैं, लेकिन कमरे खाली नहीं मिल रहे हैं. ऐसे में बहरतियों का मदद के लिए आगे आना बहुत बड़ी बात है.


मीडिया में बताया जा रहा है करीब तीन माह तक हालात सामान्य होने वाले नहीं है. सरकार ने अपनी पूरी ताकत लगा रखी है, लोगों की मदद की जा रही है, लेकिन हालात सुधरने में काफी समय लगेगा. ये तूफ़ान इतना खतरनाक है कि इरमा तूफान की धमक हजारों मील तक सुनाई दे रही है.

मियामी यूनिवर्सिटी में हरिकेन रिसर्चर ब्रायन मैकनोल्डी ने कहा, “ये अमेरिका के इतिहास में सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला तूफान होगा।”

फ्लोरिडा की संतरे और कॉटन की फसल नष्ट हो गयी है. ब्राजील के बाद संतरे का सबसे ज्यादा प्रोडक्शन यहीं होता है. क्रूज बिजनेस और इंश्योरेंस कंपनी के शेयर गिर गए हैं. फ्लोरिडा में इंश्योरेंस कंपनियों को 7 लाख करोड़ का क्लेम देना पड़ेगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments