Home > ख़बरें > पाकिस्तान को छोड़िये, अब चीन ने कर दी नापाक हरकत,सुरक्षा एजेंसियां हुई अलर्ट,छिड़ सकता है बड़ा युद्ध

पाकिस्तान को छोड़िये, अब चीन ने कर दी नापाक हरकत,सुरक्षा एजेंसियां हुई अलर्ट,छिड़ सकता है बड़ा युद्ध

china-against-bhupen-hazarika-bridge

नई दिल्ली : 1962 में भारत की पीठ में छुरा भोंक कर भारत की हज़ारों वर्ग किलोमीटर जमीन पर कब्जा कर लेने वाले चीन की नीयत आज भी कुछ ठीक नहीं है. अपनी विस्तारवादी नीति के चलते चीन ने कई पडोसी देशों के साथ अपने संबंधों को खराब कर लिया है. चीन के साथ युद्ध होने की स्थिति में भारत की स्थित मजबूत रहे इसके लिए असम और अरुणाचल प्रदेश को जोड़ने वाले 9.15 किलोमीटर के देश के सबसे लम्बे पुल भूपेन हजारिका का निर्माण किया गया है.

भारत के सबसे लंबे पुल पर चीन की गंदी नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 मई को इस पुल का उद्घाटन किया था. इस पुल के जरिये से अरुणाचल से लगी चीन सीमा पर भारतीय सेना का तेज मूवमेंट मुमकिन है. युद्ध की स्थित में इस पुल के जरिए भारी सैन्य वाहनों को भी कम से कम समय में चीन के साथ लगी सीमा पर ले जाया जा सकता है. खबर है कि चीन की नीयत भारत के इस सबसे लम्बे पुल पर खराब हो गयी है और इसीलिए चीन इस पुल को उड़ाना चाहता है.

सुरक्षा एजेंसियों ने इस बारे में एक खुफिया अलर्ट जारी किया है, जिसके मुताबिक़ इस पुल को उड़ाने की साजिश की जा रही हैं. खुफिया रिपोर्ट्स मिलने के बाद असम पुलिस ने पुल की सुरक्षा बढ़ा दी है. असम के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी, स्पेशल ब्रांच) पल्लब भट्टाचार्य ने शुक्रवार को बताया कि हाल ही में उन्हें कुछ खुफिया अलर्ट प्राप्त हुए हैं, जिनके मुताबिक़ इस पुल पर खतरा मंडरा रहा है.

सुरक्षा एजेंसियां हुई अलर्ट

सूत्रों के मुताबिक़ पुल की सुरक्षा को सीआईएसएफ के हवाले करने के लिए केंद्र सरकार के साथ बातचीत चल रही है. बता दें कि पीएम मोदी द्वारा 26 मई को इस पुल का उद्घाटन करने के केवल दो ही दिन बाद चीन ने भारत को अरुणाचल प्रदेश में इंफ्ररास्ट्राकचर बनाने पर संयम रखने के लिए भी कहा था.

गौरतलब है कि चीन तो पहले से ही अरुणाचल प्रदेश को अपना हिस्सा बताता आया है. पुल के उद्घाटन के महज 2 दिनों बाद ही आये चीन के बयान ने सवाल तो खड़ा कर ही दिया था. भूपेन हजारिका पुल के सिज्मिक जोन-5 में स्थित भूकंप संभावित इलाके में होने के कारण इसका डिजाइन ऐसा है कि यह तेज भूकंप के झटकों को भी सह सकता है. भूकंपरोधी डिजाइन से बना ये पुल भारी सैन्य वाहनों, तोपों और टैंकों के तेज मूवमेंट को भी सुनिश्चित करता है. ऐसे में छोटे-मोटे धमाके से तो इस पुल को कुछ ख़ास नुकसान नहीं पहुंच सकता लेकिन फिर भी सुरक्षा एजेंसिया सतर्क हो गयी हैं.

दरअसल भूपेन हजारिका पुल के द्वारा भारतीय सेना के जवान आसानी से चीन से लगी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल तक पहुंच सकते है, यही बजह है कि चीन बुरी तरह से बौखलाया हुआ है. वैसे यदि चीन इस पुल पर सीधा हमला करता है तो ये चीन के साथ एक बड़े युद्ध का कारण बन सकता है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments