Home > ख़बरें > खुशखबरी – ट्रम्प ने हिन्दुस्तान को दिया ऐसा तोहफा, जिसे देख जल भुन के राख हुआ पूरा पाकिस्तान

खुशखबरी – ट्रम्प ने हिन्दुस्तान को दिया ऐसा तोहफा, जिसे देख जल भुन के राख हुआ पूरा पाकिस्तान


नई दिल्ली : पीएम नरेंद्र मोदी हाल ही में अमेरिका दौरे पर गए थे, वहां उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की. दोनों नेताओं ने भारत और अमेरिका की मजबूत दोस्ती का वादा किया था. यही नहीं पीएम मोदी पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्हे वाइट हाउस में आमंत्रित किया गया. साथ ही ट्रम्प के साथ डिनर करने वाले पीएम मोदी ही पहले थे. अब इतनी गहरी दोस्ती का असर भी दिखना शुरू हो गया है तभी डोनाल्ड ट्रम्प ने पूरे हिंदुस्तान को बेहद शानदार तोहफा दिया है जिससे पाकिस्तान पूरी तरह जल भून गया है.

डोनाल्ड ट्रम्प का हिन्दुस्तानियों को सबसे बेहद शानदार तोहफा

अभी अभी बेहद बड़ी खुशखबरी अमेरिका की तरफ से आ रही है. इसे पीएम मोदी को डोनाल्ड ट्रम्प की दोस्ती का तोहफा बताया जा रहा है. आपको जानकार बड़ी ख़ुशी होगी कि भारत अब दुनिया के उन 11 चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है, जिनके नागरिकों को अमेरिकी हवाईअड्डों पर इमिग्रेशन की लंबी लाइन में नहीं खड़ा होना पड़ेगा. जिससे बड़ी और लम्बी सुरक्षा जांच जैसी सुवधाओं से आज़ादी मिलेगी.यह बहुत गर्व की बात है क्यूंकि कुछ आतंकवाद समर्थक देश पाकिस्तान जैसों की तलाशी तो आज भी कपडे उतरवा कर भी ली जाती है.

मोदी-ट्रंप की दोस्ती का असर

यकीनन इस खबर से पाकिस्तान को बहुत बड़ा झटका लगा होगा. अमेरिका ने ‘ग्लोबल एंट्री प्रोग्राम’ नाम की अपनी बेहद खास सेवा में अब भारतीय नागरिकों को भी शामिल कर लिया है. इस प्रोग्राम में पहले से अपना नामांकन करवा चुके भारतीय यात्रियों को US के हवाईअड्डों पर विशेष जांच की लंबी लाइन में नहीं खड़ा होना पड़ेगा. अमेरिका में भारत के राजदूत नवतेज सरना इस प्रोग्राम में अपना नामांकन करवाने वाले पहले भारतीय हैं.


अमेरिका ने भारत को बताया सबसे भरोसेमंद और विश्वसनीय दोस्त

CBP के कमिश्नर केविन मैकअलिनन ने इस खास प्रोग्राम के बारे में जानकारी देते हुए कहा, ‘अपने विश्वसनीय और भरोसेमंद भारतीय नागरिकों को इस ग्लोबल एंट्री प्रोग्राम में शामिल करते हुए हमें बहुत खुशी हो रही है.

इसके तहत इस प्रोग्राम में नामांकन करवा चुके सदस्य चुनिंदा हवाईअड्डों पर उतरने के बाद स्वजचालित व्यवस्था की मदद से जल्द बाहर निकल सकेंगे. उन्हें बाकी यात्रियों की तरह इमिग्रेशन की लंबी लाइन में विशेष जाँच से नहीं गुज़ारना पड़ेगा और ना ही लम्बा इंतजार भी नहीं करना पड़ेगा.

अमेरिकी हवाईअड्डों पर नामांकित सदस्य ग्लोबल एंट्री बूथ की ओर बढ़ेंगे. वहां उन्हें मशीन द्वारा पढ़ा जा सकने वाला पासपोर्टव या फिर US का स्थायी आवास कार्ड सामने रखकर फिंगरप्रिंट स्कैनर पर अपने हाथ की अंगुलियों के निशान की जांच करवानी होगी. साथ ही,उन्हें कस्टम्स विभाग को अपने सामान का ब्योरा भी देना होगा. इसके बाद वह बूथ यात्री को एक रसीद देगा और उसे उसके सामान की ओर भेजकर बाहर आसानी से निकल जाने की इजाज़त दे देगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments