Home > ख़बरें > अभी-अभी : बॉर्डर पर भारत से उलझ रहे चीन का हुआ बेड़ागर्क, चीन सरकार ने फैलाये भारत के सामने हाथ

अभी-अभी : बॉर्डर पर भारत से उलझ रहे चीन का हुआ बेड़ागर्क, चीन सरकार ने फैलाये भारत के सामने हाथ

india-vs-china

नई दिल्ली : सिक्किम में भारत-चीन तनाव के बीच दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने डटी हुई हैं. मोदी सरकार ने अपना रुख साफ़ कर दिया है कि वो चीन के सामने नहीं झुकने वाली और भारतीय सेना डोकलाम से नहीं हटेगी. मोदी सरकार के समर्थन में पूरा देश उठ खड़ा हुआ है और अब जो खबर सामने आ रही है, उसने चीन को हिला कर रख दिया है.

भारतियों ने निकाला चीन का तेल

भारत की देशभक्त जनता का गुस्सा चीन पर कहर बनकर टूट पड़ा है. चीन की अकड़ निकालने के लिए भारतीयों ने चीन की आर्थिक व्यवस्था को हिलाकर रख दिया है. बताया जा रहा है कि भारतीय जनता ने चीनी सामान का बड़े पैमाने पर बहिष्कार करके चीन का तेल निकाल दिया है. पिछले एक महीने में भारत में चीनी सामान खरीदने वालों की संख्या आधी से भी कम हो गई है, जिसके कारण चीन को करोड़ों का नुक्सान हो रहा है.

चीन की अर्थव्यवस्था तो पहले से ही सुस्त चल रही है, जिसके चलते चीन को दो बार अपनी मुद्रा की कीमत घटानी भी पड़ी है. अब भारतीय जनता से मिला इतना बड़ा झटका उससे झेला नहीं जा रहा है. सोशल मीडिया में चीनी सामान के बहिष्कार करने की मुहीम चल रही है.

मदद के लिए गिड़गिड़ाया चीन

चीन की पीपल्स पार्टी के नेता शी ग्यांझू ने भारत से अपील की है कि भारत चीन को आर्थिक संकट से उबारने में सहायता करे. शी ग्यांझू ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्वस्था बनने जा रहा है. भारत सरकार ने दुनिया के सभी दिग्गज देशों में लोकप्रियता हासिल कर ली है. ऐसे में हमारे डूबते हुए देश को भारत ही बचा सकता है.


उन्होंने कहा यदि भारत आर्थिक संकट से उबरने में उनकी मदद करता है तो वो चीनी सरकार से अपील करेंगे कि सीमा विवाद को ख़त्म कर दिया जाए. चीनी सामान का बहिष्कार होते और चीन को करोड़ों का नुक्सान होते देख चीनी सरकार के माथे पर चिंता की लकीरें बन गयी हैं. डोकलाम विवाद को बढ़ा कर चीन भारत का तो कुछ बिगाड़ नहीं पाया, उलटा चीन को ही प्रतिदिन करोड़ों का नुक्सान उठाना पड़ रहा है.

गुस्से से भरे हैं लोग

वहीँ कई भारतीय लोगों से बात करने पर उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा कि चीन हमेशा से विश्वासघात करता आया है. 1962 में भी हिंदी-चीनी भाई-भाई के बीच चीन ने धोखे से भारत पर हमला कर दिया और भारत की हजारों वर्ग किलोमीटर की जमीन पर कब्जा कर लिया. इतने सालों बाद आज भी चीन के स्वभाव व् उसकी नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया है.

इसलिए अब वो चीन पर कभी विश्वास नहीं करेंगे और सस्ते के चक्कर में आकर अब कभी भी चीनी सामान नहीं खरीदेंगे. कुछ लोगों ने तो यहाँ तक कहा कि अब यदि चीन डोकलाम से अपनी सेना को पीछे हटा भी लेता है, तब भी वो चीनी सामान नहीं खरीदेंगे.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments