Home > ख़बरें > सेना का बड़ा धमाका – आतंकियों के खून से बुझाई बदले की आग, खौफनाक मंजर से पत्थरबाजों की रूह काँपी

सेना का बड़ा धमाका – आतंकियों के खून से बुझाई बदले की आग, खौफनाक मंजर से पत्थरबाजों की रूह काँपी

कश्मीर : अमरनाथ आतंकवादी हमले ने हमारे देश को अंदर से झकझोर दिया था. इस हमले में सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी. अमरनाथ यात्रियों की बस पर आतंकी हमले के मास्टरमाइंड अबु इस्माइल को तो भारतीय सेना ने सितम्बर महीने में मार गिराया था. लेकिन बदला अधूरा था क्यूंकि कुछ और आतंकवादी अभी ज़िंदा घूम रहे थे. तो अब सेना ने उन बचे हुए आतंकवादियों के खून से देश का बदला पूरा किया जिसे देख पत्थरबाजों की भी रूह काँप उठेगी.


सेना ने आतंकियों के खून से बुझाई बदले की आग

अभी-अभी एएनआई न्यूज़ एजेंसी से बड़ी खबर आ रही है कि जम्मू-कश्मीर में सेना ने एसओजी और सीआरपीएफ के साथ मिलकर ज़बरदस्त ऑपरेशन चलाया. जिसमें तीन आतंकवादियों को मौत के घाट उतार दिया गया. ये जानकारी खुद डीजीपी एसपी वैद ने ट्वीट करके दी इन आतंकियों की पहचान फुरकान, यावर बसीर और अबु माविया के रूप में हुई है.

आपको बता दें फुरकान लश्कर का डिविजनल कमांडर था. वहीं यावर बसीर स्थानीय आतंकी और अबु माविया को पाकिस्तानी आतंकी बताया जा रहा है. ये तीनों आतंकवादियों ने कायरता पूर्वक अमरनाथ हमले को अंजाम दिया था. फुरकान को पूर्व कमांडर अबु इस्माइल के मारे जाने के बाद लश्कर की कमान सौंपी गई थी. मारे गए आतंकियों के पास से एके-47 राइफल समेत गोला बारूद और अन्य सामान भी बरामद हुआ है.


दरअसल इन आतंकियों ने सोमवार को सैन्य काफिले पर हमला किया और भाग गए थे. सैन्य वाहनों का एक काफिला दोपहर को श्रीनगर की तरफ जा रहा था. हमला होते ही सैन्य वाहन रुक गए और उनमें सवार जवानों ने भी पोजीशन लेकर जवाबी फायर किया. इस पर आतंकी भाग निकले, लेकिन जवानों ने उनका पीछा किया और नुस्सु के निकट उन्हें घेर लिया. आतंकी अपनी जान बचाते हुए वहां स्थित एक निजी स्कूल के साथ सटी एक इमारत में घुस गए.

पत्थरबाजों की तोड़ी कमर

इस बीच बड़ी संख्या में आतंकी समर्थक और पत्थरबाज भी भड़काऊ नारेबाजी करते हुए मुठभेड़स्थल व उसके साथ सटे इलाकों में हिसा पर उतर आए. लेकिन इस बार सेना पूरी तरह से पत्थरबाजों से भी निपटने के लिए तैयार थी. जैसे ही आतंकियों को मार गिराने में जुटे जवानों पर पथराव शुरू किया तुरंत सेना ने पत्थरबाजों पर हमला बोल दिया. एक दर्जन से ज़्यादा आतंकी समर्थक और पत्थरबाजों को बुरी तरह घायल कर दिया. एक पत्थरबाज सुहेल अहमद को गोली लगी है.

अधिकारियों ने बताया कि शाम सात बजे आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार पूरी तरह बंद हो गई. इस दौरान एक जोरदार धमाके में वह इमारत भी नष्ट हो गई, जिसमें आतंकियों ने शरण ली थी. इमारत में एक दर्जन से ज्यादा दुकानें थी. लगभग आधे घंटे बाद सुरक्षाबलों ने तलाशी लेनी शुरू की तो उन्हें वहां गोलियों से छलनी दो आतंकियों के शव मिले. इसके बाद तीसरे आतंकी का शव देर रात बरामद हुआ.

इस साल अबतक करीब 202 आतंकी ढेर

सीएएसओ के तहत सेना इस साल अब तक घाटी में 202 आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुंचा चुकी है, जिससे लश्कर और हिज्बुल जैसे आतंकी संगठनों की कमर टूटी है और मुमकिन है कि साल के अंत तक आतंक के अंत का ये आंकडा अभी और बढ़े.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments