Home > ख़बरें > भारतीय सेना ने दिखाया अपना विकराल रूप, ठोक डाले 138 पाक सैनिक, पसरा मौत का गहरा सन्नाटा

भारतीय सेना ने दिखाया अपना विकराल रूप, ठोक डाले 138 पाक सैनिक, पसरा मौत का गहरा सन्नाटा

नई दिल्ली : भारत के साथ सीधे युद्ध की हिम्मत तो पाकिस्तान में है नहीं, लिहाजा कायरों की तरह चोरी-छिपे भारतीय सेना के जवानों पर सीमापार से गोलीबारी करता रहता है. कहने को तो दोनों देश युद्ध की स्थिति में नहीं हैं, मगर हकीकत तो ये है कि पाकिस्तान हमेशा ही भारत के साथ आतंकवाद का सहारा लेकर छद्म युद्ध छेड़ता ही रहता है. हालांकि मोदी सरकार ने जबसे भारतीय सेना को खुली छूट दी हुई है, तबसे पाकिस्तान को हर बार मुँह के खानी पड़ी है.


भारतीय सेना ने ठोके 138 पाक सैनिक

पाकिस्तान फ़ौज के चोरी छिपे हमलों में भारतीय सेना के 28 सैनिकों ने वीरगति पायी है, जबकि पाक फ़ौज को कडा जवाब देते हुए भारतीय सेना ने पाकिस्तान के सैकड़ों सैनिक ठोक दिए हैं. हालांकि सरकारी आंकड़ा देखें तो उसके मुताबिक़ भारतीय सेना ने पाक फ़ौज के 138 सैनिकों को मौत के घाट उतारा है, जबकि सूत्रों के मुताबिक़ पाक के शहीद हुए सैनिकों की असली संख्या इससे कहीं ज्यादा है.

साल 2017 के ये आंकड़े जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर गोलीबारी में हुई मौतों के हैं और भारत सरकार के खुफिया सूत्रों ने जारी किए हैं. सूत्रों का कहना है कि अक्सर यह देखने को मिलता है कि पाकिस्तानी सरकार अपने सैनिकों की मौत को स्वीकार ही नहीं करती.

शहीद सैनिकों को सम्मान तक नहीं देता ना’पाक

खुफिया सूत्रों के मुताबिक़ पाक फ़ौज के अधिकारी व् सरकार इतने गिरे हुए हैं कि सीमा पर शहीद होने वाले अपने सैनिकों को आम नागरिक बताते हैं और मरणोपरांत उनका उचित सम्मान तक नहीं देते. भारतीय सेना ने पिछले साल घुसपैठ और आतंकी गतिविधियों पर काफी सख्त रुख अपनाया था.

जानकारी के मुताबिक़ साल 2017 में सीमा पर हुई गोलीबारी में पाकिस्तान के कम से कम 138 सैनिकों का परलोक का टिकट काट दिया गया और 158 से ज्यादा सैनिकों को अस्पताल भेज दिया गया. हालांकि भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों की मौत पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार किया है.


आगे भी ऐसे ही बारूद बरसाएगी भारतीय सेना

सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने केवल इतना ही कहा है कि भारतीय सेना सीमा पर होने वाली गोलीबारी का कड़ा जवाब देती है और आने वाले दिनों में भी ऐसा करना जारी रखेगी.

एक आंकड़े के मुताबिक 2017 में पाकिस्तान की ओर से सीजफायर का उलंघन करने की 860 घटनाएं हुईं, जबकि 2016 में पाकिस्तान ने 221 बार सीज फायर तोड़ा था. भारतीय सेना का कहना है कि पाकिस्तान अपने सैनिकों की मौतों को कभी स्वीकार नहीं करता है. करगिल युद्ध में भारत ने सबूत तक दिए थे, इसके बावजूद अपनी झूठी शान की खातिर पाकिस्तान ने अपने सैनिकों की मौत से इनकार किया था.

भारत सरकार के खुफिया सूत्रों ने 25 दिसंबर को हुई घटना का भी हवाला दिया, जब पांच पाक सैन्य कमांडो ने सीमा पार कर ली थी और भारतीय सेना ने उनमे से तीन कमांडो को गोलियों से भून डाला था. जिसके बाद पहले तो पाकिस्तानी सेना ने एक ट्वीट करके अपने सैनिकों की मौतों की जानकारी दी थी, लेकिन बाद में ट्वीट डिलीट कर दिया.

दो दिन बाद पाकिस्तानी सेना का प्रवक्ता इस बात से साफ़ मुकर गया कि भारतीय सेना ने उसके तीन सैनिकों को मारा है. जानकारी के मुताबिक़ भारतीय सेना ने एलओसी पर स्नाइपर फाइरिंग में 27 पाक सैनिकों को काल के गाल में पहुंचाया है.

भारतीय सेना लगातार कोशिश में है कि पाकिस्तानी सेना और आतंकियों के गठजोड़ का मजबूती से सामना किया जाए. पिछले साल मई में भारतीय सेना ने कहा था कि वह एलओसी पर पाकिस्तानी सेना के बंकरों को निशाना बना रही है.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments