Home > ख़बरें > भारतीय सेना ने ब्रह्मोस और अमेरिका ने दागी मिनटेमन-3 मिसाइल, थर-थर काँप उठे दुश्मन !

भारतीय सेना ने ब्रह्मोस और अमेरिका ने दागी मिनटेमन-3 मिसाइल, थर-थर काँप उठे दुश्मन !

brahmos-minuteman-missile-launch

नई दिल्ली : इस वक़्त उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच तनाव चरम पर हैं, वहीँ पाकिस्तान द्वारा भारतीय सैनिकों की ह्त्या व् उनके शवों के साथ बर्बरता के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच भी तनाव चरम पर आ चुका है. ख़बरों के मुताबिक़ भारतीय सेना बड़ा ऑपरेशन करने की योजना पर काम कर रही है, वहीँ अमेरिका भी अपने हथियारों पर जमी धूल हटाने में लग गया है. अभी-अभी आयी एक बड़ी खबर ने भारत और अमेरिका दोनों के दुश्मनों को दहला दिया है.


एलओसी पर तनाव के बीच भारतीय सेना ने मंगलवार को जमीन से जमीन पर मार करने वाली अपनी सबसे आधुनिक और खतरनाक ब्राह्मोस क्रूज मिसाइल के नए आधुनिक वर्जन ब्राह्मोस ब्लॉक – 3 को अंडमान-निकोबार से सफलतापूर्वक दाग दिया. वहीँ अमेरिकी वायुसेना ने भी परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम अपनी लंबी दूरी की इंटरकांटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल को कैलिफोर्निया के वांडेनबर्ग वायुसेना अड्डे से सफलतापूर्वक दाग दिया.

मोबाइल ऑटोनॉमस लांचर से भारतीय सेना ने ब्रह्मोस का परीक्षण किया. जानकारी के मुताबिक़ ये क्रूज मिसाइल परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है और साथ ही किसी भी प्रकार के खतरनाक हथियारों पर लगाए गए निशाने के अनुसार घातक वार भी कर सकती है. सबसे ख़ास बात तो ये है कि ये ब्रह्मोस मिसाइल किसी भी गतिशील लक्ष्य को बेहद आसानी से निशाना बना कर तबाह कर सकती है.

जमीन से जमीन पर मार करने वाली ये मिसाइल सतह पर मौजूद टॉरगेट को पल भर में तबाह कर सकती है. इसके साथ ही इसकी सबसे अहम् खासियत ये है कि ये किसी भी शक्तिशाली रडार को धोखा देने में भी सक्षम है. बताया जाता है कि ब्राह्मोस मिसाइल की स्पीड अमेरिका की टॉम-हॉक मिसाइल से भी दो गुना तेज है.


इसकी एक खासियत ये भी है कि ये काफी कम ऊंचाई से भी घातक हमला कर सकती है. साथ ही ये दुनिया की एक ऐसी मिसाइल है जो झुकी हुई और वर्टिकल दोनों ही अवस्था में दागी जा सकती है. इसे सुखोई-30 लड़ाकू विमान और युद्धपोत से भी दागा जा सकता है.

वहीँ अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने अपनी मिसाइल दागने को अपनी अचूकता और विश्वसनीयात की जांच के लिए नियमित तौर पर अंतरमहाद्वीपीय हथियारों के परीक्षण के तौर पर बताया. अमेरिकी वायुसेना ने इसी तरह का मिसाइल परीक्षण 7 फरवरी को भी किया था.

गौरतलब है कि इन दिनों अमेरिका-उत्तर कोरिया और भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव का माहौल काफी बढ़ चुका है. ऐसे में अमेरिका द्वारा मिनटेमन-3 का और भारत द्वारा ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का परीक्षण युद्ध की संभावनाओं को और भी बढ़ा सकता है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments