Home > ख़बरें > अभी-अभी : आतंकियों के खिलाफ मोदी सरकार ने उठाया सबसे बड़ा कदम, देशभर में जोरदार हड़कंप !

अभी-अभी : आतंकियों के खिलाफ मोदी सरकार ने उठाया सबसे बड़ा कदम, देशभर में जोरदार हड़कंप !

afspa-in-assam

नई दिल्‍ली : आतंकवाद से देश बुरी तरह त्रस्त हो चुका है. ऐसा लग रहा है कि आतंकी नहीं चाहते कि भारत विकास करे, इसलिए आतंकी गतिविधियों के जरिये सरकार का ध्यान भटकाने की साजिशें की जा रही हैं. देश में और खासतौर पर सीमावर्ती राज्यों में बढ़ रही आतंकी घटनाओं को देखते हुए अब केंद्र की मोदी सरकार ने बेहद सनसनीखेज कदम उठाया है.


समूचे असम को घोषित किया ‘अशांत क्षेत्र’ !

खबर आयी है कि मोदी सरकार ने असम राज्य को अगले तीन महीनो के लिए ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित कर दिया है और वहां पर आर्म्ड फोर्सेज स्पेशल पावर्स एक्ट यानी अफस्‍पा लगा दिया है. दरअसल असम में पिछले काफी वक़्त से यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) और नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (एनडीएफबी) जैसे विद्रोही समूह हिंसा फैला रहे हैं.

असम के मेघालय के कुछ इलाक़ों को अशांत घोषित करते हुए 3 मई से अगले तीन महीनों के लिए अफस्‍पा लगा दिया गया है. गृह मंत्रालय के मुताबिक़ असम के लोग असुरक्षित महसूस कर रहे है, क्योकि असम मे बहुत आंतक फैल गया है, इसलिए असम को असुरक्षित क्षेत्र बताते हुए विद्रोहियों को ठिकाने लगाने के लिए अफस्‍पा लगाया गया है.


बर्दाश्त करने की सीमा हुई पार !

मंत्रालय के मुताबिक़, पिछले साल असम में हिंसा की 75 वारदातें हुई हैं, जिसमें 33 लोग मारे गए हैं. इनमें 4 सुरक्षाकर्मी है और 14 अन्य लोगों को अगवा करके मार डाला गया था. इस साल भी विद्रोहियों ने रक्तपात का अपना खेल जारी रखा हुआ है और अब तक हिंसा की 9 वारदातों को अंजाम दे चुके हैं, जिसमें 2 सुरक्षाकर्मियों समेत चार लोग मारे जा चुके हैं. मैं स्ट्रीम मीडिया असम की ज्यादा ख़बरें नहीं दिखाता इसलिए देश की जनता को नहीं पता कि असम में भी स्थिति कश्मीर जैसी ही हो चुकी है.

हिंसा की सभी वारदातों के पीछे विद्रोही गुटों यानी उल्‍फा और एनडीएफबी का हाथ बताया जा रहा है. केवल असम ही नहीं बल्कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अरुणाचल प्रदेश के तिराप चांगलंग और लोंगडिंग को भी अगले तीन महीनों के लिए अशांत क्षेत्र घोषित कर दिया है. गृह मंत्रालय के मुताबिक़ इन इलाक़ों में NSCN(IM), NSCN(K), ULFA, NDFB जैसे गुट खुनी खेल रहे हैं. अब वक़्त आ गया है कि सदा के लिए इन विद्रोहियों का खेल ख़त्म किया जाए.

नक्सलियों, आतंकियों और विद्रोहियों के खिलाफ अब मोदी सरकार का रुख बेहद सख्त हो चुका है. कश्मीर में 4000 जवान मिलकर आतंकियों के सफाये के मिशन को अंजाम दे रहे हैं. वहीँ हजारों की तादात में सीआरपीएफ के जवान नक्सलियों के खात्मे के लिए ऑपरेशन चला रहे हैं और अब असम व् अरुणाचल प्रदेश के कुछ इलाकों को अशांत क्षेत्र घोषित करते हुए अफ्स्पा लगा दिया गया है. इसे देख साफ़ है कि मोदी सरकार अब देश में हिंसा बर्दाश्त करने के मूड में बिलकुल नहीं है और सख्त कार्रवाई शुरू की जा चुकी है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments