Home > ख़बरें > सख्ती बरतने में मोदी को भी पीछे छोड़ते हुए योगी ने कर दी बड़ी कार्यवाही, इस बार बचना है मुश्किल

सख्ती बरतने में मोदी को भी पीछे छोड़ते हुए योगी ने कर दी बड़ी कार्यवाही, इस बार बचना है मुश्किल

लखनऊ : पूर्व की अखिलेश सरकार के ऊपर अब एक बहुत बड़ी मुसीबत खड़ी होने जा रही है. अभी अभी एक ऐसे बड़े घोटाले की खबर आयी है जिसमें अखिलेश सरकार के बड़े नेता बुरी तरह फसने वाले हैं और इसलिए अब सीएम योगी पूरे एक्शन मोड में दिखाई दे रहे हैं साथ ही पूर्व की सरकार पर अब सीएम योगी का कड़ा शिकंजा कसना शुरू कर दिया है.


 अखिलेश सरकार ने गोमती रिवर फ्रंट में बेतहाशा पैसा लुटाया है

एएनआई न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट की अब पोल खुलती नज़र आ रही है. लखनऊ के गोमती रिवर फ्रंट में बहुत बड़ी पैसों की हेराफेरी और बेतहाशा पैसा लुटाया गया है. दरअसल रिवर फ्रंट में घोटाले को उजागर करने के लिए बनायीं गयी खन्ना समिति ने अपनी रिपोर्ट सीएम योगी को सौंप दी है. जिसमें उन्होंने अब इस मामले की जांच सीबीआई से करने का सुझाव दिया है जिसे सीएम योगी ने मंजूर कर लिया है और साथ ही इस प्रोजेक्ट से जुड़े आठ अफसरों पर FIR दर्ज़ कर ली गयी है.

आठ अफसरों पर FIR दर्ज़ कर ली गयी है, अब बड़े नेताओं का नंबर लगेगा, एक एक पैसे का हिसाब लेंगे सीएम योगी

गोमती रिवर फ्रंट डेवलप्मेंट के घोटाले की जांच हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज अलोक कुमार सिंह की अध्यक्षता में गठित समिति ने 8 घोटालेबाज़ अधिकारियों को दोषी पाकर FIR दर्ज़ की गयी है. इन सभी आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 जालसाज़ी, 409 लोक सेवा द्वारा वित्तीय अनियमत और 7/13 भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज हुआ है. आपको बता दें कि 27 मार्च को ही सीएम योगी खुद गोमती रिवर फ्रंट का निरिक्षण करने गए थे. सीएम योगी ने सभी अधिकारियों को बुलाकर इस पर चर्चा करी और एक एक पैसे का हिसाब देने को कहा. अब जब इसकी जाँच सीबीआई करेगी तो जल्द ही सिर्फ अधिकारी या इंजिनियर ही नहीं बड़े नेता भी इस शिकंजे में फसेंगे.


1513 करोड़ रूपए के अखिलेश के ड्रीम प्रोजेक्ट में पैसा का ज़बरदस्त दुरूपयोग हुआ

सीएम योगी के दौरे के बाद ही रिवर फ्रंट में बड़ी हेरफेर के लिए नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने कमेटी बनाई थी.खन्ना की रिपोर्ट में इस प्रोजेक्ट के बजट जो 1513 करोड़ रूपए है ज़रूरत से ज़्यादा दिखाया गया है. अखिलेश के इस प्रोजेक्ट में बड़ी खामियां पायी गयी हैं, रिपोर्ट अनुसार इस प्रोजेक्ट में अधिकारी और इंजीनियरों पर पैसा पानी की तरह बहाया गया है. काम अभी तक सिर्फ 65 फीसदी ही पूरा हुआ है और 90 फीसदी यानी 1437 करोड़ रूपए भुगतान भी कर दिया गया है.

अखिलेश के मंत्री जापान घूमने भी गए थे, पिछले साल पूरा होना था प्रोजेक्ट ,अभी भी लटका हुआ है

गोमती रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट को वैसे तो दिसंबर 2016 में ही पूरा हो जाना चाहिए था, लेकिन उसके बाद इसे मार्च में चुनाव से पहले पूरा करने को कहा गया लेकिन अभी भी सिर्फ आधा ही काम हुआ है. साथ ही समिति ने मनमाने ढंग से ठेके बाँटने का भी आरोप लगाया गया है और बेहद सांठगांठ से पैसे का दुरूपयोग हुआ है. इस प्रोजेक्ट को लंदन की थेम्स नदी के तर्ज़ पर बनाने के खोखले वादे किये गए थे. यही नहीं इसके लिए अखिलेश के मंत्री जापान के टोक्यो और ओसाका के रिवरफ्रंट भी देखने गए थे.

इस रेवेर फ्रंट के तहत लखनऊ शहर के अंदर गोमती नदी के दोनों तटों का सौंदर्यीकरण, किनारे में जॉगिंग ट्रैक, किड्स प्ले एरिया, स्टेडियम, फव्वारा और लाइटिंग की व्यवस्था का वादा किया था.गोमती नदी के किनारे जॉगिंग पार्क, वाल्किंग पार्क, चिल्ड्रन पार्क, म्यूजिकल फाउंटेन, सायकिल ट्रैक, फ़ूड प्लाजा, फुटबॉल कोर्ट, फ्लावर शो, ओपन एयर थियेटर, एम्पीथियेटर भी बनना था. यहां देश का सबसे ऊंचा फाऊंटेन लगाने की भी तैयारी की गयी थी. नदी में बोटिंग और रिवर राफ्टिंग भी हो सके ऐसा कहा गया था.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments