Home > ख़बरें > वीडियो : सड़क पर फेंका जा रहा है लाखों लीटर दूध, वहीं इस युवक ने पेश की इंसानियत की बेहतरीन मिसाल

वीडियो : सड़क पर फेंका जा रहा है लाखों लीटर दूध, वहीं इस युवक ने पेश की इंसानियत की बेहतरीन मिसाल

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र के ही अहमदनगर में शुरू हुए एक छोटे से किसान आंदोलन को अब  महाआंदोलन का रूप देने की कोशिश पूरी तरह हो रही है. दरअसल पूरा मामला किसानो के कर्ज माफ़ी से जुड़ा हुआ है. किसानों ने इस संबंध में महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस से पूरा का पूरा कर्ज माफी की मांग करी है, जिस पर मुख्यमंत्री ने एक महीने का वक्त मांगा है.


लाखों लीटर दूध सड़कों और हाईवे पर बहाया जा रहा है, दूध से खेल रहे हैं होली

महाराष्ट्र के किसानो का ये क़र्ज़ माफ़ी का आंदोलन अब एक अलग तरह का रंग लेता जा रहा है. दरअसल इन किसानो में कुछ विरोधी तत्त्व भी शामिल हो गए हैं. आज किसानों ने सड़कों से लेकर हाईवे तक लाखों लीटर दूध बहा रहे हैं. यही नहीं जानबूझ कर सड़कों पर दूध से होली खेली जा रही है. खाने के उत्पादों का मज़ाक उड़ाया जा रहा है. जिससे भरी संख्या में लोगों को दूध और सब्जी की कमी पड़ रही है. ख़बरों के मुताबिक अब किसानों ने राज्य सरकार को मुंबई जैसे बड़े शहरों के लिए दूध और सब्जी की सप्लाई भी बंद करने की धमकी दे दी है.

आधा भी नहीं, पूरा का पूरा क़र्ज़ माफ़ करवाने की मांग रक्खी है

किसान आंदोलन के नेता जयाजी शिंदे का कहना है कि किसान की समस्याओं का हल है पूरा क़र्ज़ माफ़ करना. जब तक महाराष्ट्र सरकार पूरा क़र्ज़ माफ़ नहीं करती, तब तक ये आंदोलन जारी रहेगा. किसानों को मनाने के लिए महाराष्ट्र सरकार की तरफ से कृषिमंत्री से लेकर सीएम तक सभी ने कोशिश करी, लेकिन किसान फिलहाल मानते नहीं दिख रहे हैं. किसान आंदोलन में हिंसा को देखते हुए प्रशासन ने अलग-अलग इलाकों में धारा 144 लागू कर दी है. किसान बड़ी मात्रा में हज़ारों किलो सब्जियों को सड़कों पर फेक रहे हैं और टैंकर भर भर के दूध सड़कों पर उड़ेल रहे हैं.बुलडाणा में तो किसानों ने दूध से होली खेली. यह दूध डेयरी को जाना था.

वीडियो देखिये

वही दूसरी तरफ इस युवक ने पेश करी है इंसानियत की बेहतरीन मिसाल

महाराष्ट्र में जहाँ किसान सड़कों पर लाखों लीटर दूध बहा रहे हैं वही दूसरी ओर एक वीडियो शिरडी से आया है जहाँ एक युवक ऐसा भी है जो अपनी मोटरसाइकिल पर दूध के गैलनों से गरीब बच्चों को मुफ्त में दूध बाँट रहा है. ये युवक कौन है अभी पता नहीं चल सका है लेकिन दूध जैसे अत्यंत ज़रूरी उपभोक्ता वास्तु को व्यर्थ होने से बचाने के लिए इस युवक का कदम बड़ा सराहनीय है. हड़ताल और प्रदर्शन कर रहे महाराष्ट्र के किसानों की मांगे चाहे कितनी भी जायज क्यों न हो, लेकिन विरोध प्रदर्शन का उनका ये तरीका किसी भी तरीके से स्वीकार्य नहीं किया जा सकता है. आपको बता दें आज भी हमारे देश की आर्थिक हालत इतनी भी नहीं सुधर गयी है कि हम सड़कों पर दूध ओर सब्जियों का इस तरह बर्बादी करना शुरू कर दें. हमारे देश में सवा सौ करोड़ की जनसँख्या में बहुत सारे लोग, बच्चे ऐसे भी हैं जिन्हे दो वक़्त की रोटी भी नसीब नहीं होती है दूध तो बहुत दूर की बात है. महाराष्ट्र के गरीब बच्चे कुपोषण के शिकार हो रहे हैं , ऐसे में दूध ओर अन्न की इस तरह बर्बादी करना कहाँ तक सही है?

अब ये वीडियो देखिये

 


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments