Home > ख़बरें > भारत ने दिखाया अपना विकराल रूप, दाग दी अस्त्र मिसाइल,तबाही का खौफनाक मंजर देख कांपा पाक

भारत ने दिखाया अपना विकराल रूप, दाग दी अस्त्र मिसाइल,तबाही का खौफनाक मंजर देख कांपा पाक

नई दिल्ली : आज भारत विश्व में सबसे तेज़ गति से प्रगति कर रहा है. लेकिन भारत के दो ऐसे पड़ोसी देश है जो आये दिन खतरा पैदा करते रहते हैं एक आतंकी पाकिस्तान तो दसरा अड़ियल चीन. जिसने अभी डोकलाम विवाद में अपना असली चेहरा दिखा दिया था.


चीन ने तो 1962 जैसा युद्ध करके बुरे परिणाम भुगतने तक की धमकी दे दी थी. तो वहीँ पाकिस्तान हर वक़्त आतंकवादी को भारतीय सीमा में घुसाने के मौके की तलाश में रहता है. ऐसे में अब भारत वो खतरनाक हथियार निकाल लिया है जिसकी हमारी सेना को सबसे ज़्यादा ज़रूरत है ताकि दुश्मन को नेस्तोनाबूद किया जा सके.

60 किलोमीटर दूर से बैठे ही कर दिया तबाह

अभी-अभी बहुत बड़ी खबर आ रही है ओडिशा के बालासोर में पीएम मोदी की मेक इन इंडिया योजना की मदद से पहली बार स्वदेशी तौर पर विकसित बियॉन्ड विजुअल रेंज एयर टु एयर (BVRAAM) मिसाइल “अस्त्र “.को दागा गया. जिसके बाद इसने हवा में ही अपने लक्ष्य को पल भर में तबाह कर दिया. भारत का यह मिसाइल कार्यक्रम सबसे चुनौतीपूर्ण कार्यक्रमों में से एक माना जा रहा है.

ऐसी ही घातक हथियार की मांग भारतीय वायुसेना कब से कर रही थी. ये मिसाइल ‘अस्त्र‘ हवा से हवा में ही अपने दुश्मन का 40 से 60 किलोमीटर की दूरी पर से ही नामोनिशान मिटा सकती है. इस मिसाइल प्रणाली को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने भारतीय वायु सेना के सहयोग से विकसित किया है.


रक्षामंत्री ने दी बधाई

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने मिसाइल के सफल परीक्षण के तुरंत बाद डीआरडीओ, आईएएफ, डीपीएसयू और इससे संबंधित उद्योगों को बधाई दी. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि सफल परीक्षणों के साथ हथियार प्रणाली का विकास चरण ‘‘सफलतापूर्वक’’ पूरा हो गया. इस अस्त्र मिसाइल के एक नहीं सात परिक्षण किये गए और सातों बार ये परिक्षण सफल रहा.

कांग्रेस के दस साल में अटका रहा प्रोजेक्ट

लेकिन बड़े दुःख की बात है कि इस अस्त्र मिसाइल के प्रोजेक्ट की भी शुरुआत साल 2004 में कांग्रेस सरकार के शासन में करी गयी थी. लेकिन 13 साल बाद अब जाकर मोदी सरकार में यह घातक मिसाइल सेना को मिली है. कांग्रेस सरकार के दस साल के कार्यकाल में शुरू तो हुए प्रोजेक्ट लेकिन ख़त्म न हो सके. उस वक़्त के रक्षामंत्री ऐ के अंटोनी के राज में सेना के तोपों, हेलीकॉप्टर और लड़ाकू विमान में करोड़ों के घोटाले हुए.

इस अस्त्र मिसाइल के अलावा सेना को बारूदी सुरंग से बचाने के लिए भी एक ज़बरदस्त सिस्टम तैयार किया गया है. यह सिस्टम बारूदी सुरंगों को भेदकर सेना के वाहनों के लिए सुरक्षित लेन तैयार करता है. इसका सिस्टम का भी परिक्षण बारूद लगाकर किया गया जिसमें सिस्टम ने अपने आपको सुरक्षित रख लिया.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments