Home > ख़बरें > ट्रम्प ने लिया भारत के पक्ष में बड़ा फैसला, देखते रह गए पुतिन, जिनपिंग, पाकिस्तान को नानी आयी याद

ट्रम्प ने लिया भारत के पक्ष में बड़ा फैसला, देखते रह गए पुतिन, जिनपिंग, पाकिस्तान को नानी आयी याद

trump-called-modi-before-putin-jinping

नई दिल्ली : अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के चार दिन के अंदर ही डोनाल्ड ट्रम्प ने जिनपिंग और पुतिन से पहले पीएम मोदी को फ़ोन करने का फैसला लिया. ऐसा इतिहास में पहली बार हुआ जब किसी अमेरिकी राष्ट्रपति ने रूस और चीन से पहले भारत के प्रधानमन्त्री को फ़ोन किया है, जिसकी वजह से पाकिस्तान में हड़कंप मच गया है. पाकिस्तानी मीडिया में चर्चा हो रही है कि आने वाला वक़्त उनके लिए घातक हो सकता है क्योंकि भारत ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन की फॉरेन पॉलिसी में टॉप-10 में शामिल हो गया है.

सबसे पहले मिटायेंगे रेडिकल इस्लामिक आतंकवाद

फ़ोन कॉल के दौरान ट्रम्प ने पीएम मोदी से रेडिकल इस्लामिक आतंवाद के मुद्दे पर भी बात की. आतंक को ख़त्म करने के लिए दोनों ने कंधे से कंधा मिलाकर चलने की बात की. ट्रम्प पाकिस्तान को भी चेतावनी दे चुके हैं कि यदि अब उसने अपने देश से आतंक का सफाया नहीं किया तो वो उसे बर्बाद करके रख देंगे. इतना ही नहीं ट्रम्प ने भारत को अपना सच्चा दोस्त बताते हुए पीएम मोदी को अमेरिका आने का न्योता भी दिया. पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर बताया कि फ़ोन पर उन्होंने भी ट्रम्प को भारत आने का न्योता दिया है.

इसके अलावा दोनों के बीच डिफेंस, सिक्युरिटी और इकोनॉमी समेत 5 अहम मुद्दों पर बातचीत हुई. ट्रम्प ने इकोनॉमी और डिफेंस जैसे मुद्दों पर भारत-अमेरिका पार्टनरशिप को मजबूत करने की बात भी की.


मोदी को क्यों फोन किया ट्रम्प ने?

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से पहले डोनाल्ड ट्रम्प ने पीएम मोदी को फोन इसलिए किया क्योंकि चुनाव जीतने के बाद पीएम मोदी ने उन्हें फोन करके बधाई दी थी. ट्रम्प पीएम मोदी से खासे प्रभावित रहे हैं, उन्होंने चुनाव में मोदी के कई नारों का सहारा भी लिया था.

अमेरिका चुनाव से पहले भी ट्रम्प ने कई बार कहा था कि भारत के साथ उनके सम्बन्ध बेहद अच्छे रहेंगे. उन्होंने हिंदुओं की तारीफ़ करते हुए कहा था कि हिंदुओं का वाइट हाउस से करीबी नाता होगा. ट्रम्प ने मोदी और उनकी नीतियों की तारीफ़ भी की थी. मोदी के अलावा ट्रम्प ने इजरायली पीएम बेंजामिन नेतान्याहू से भी बात की थी, जिसके बाद से कट्टरपंथी देशों की हवाइयां उडी हुई हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments