Home > ख़बरें > ब्रेकिंग – एयरफ़ोर्स अफसरों से मिली रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, जवानों को दिए खतरनाक आदेश !

ब्रेकिंग – एयरफ़ोर्स अफसरों से मिली रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, जवानों को दिए खतरनाक आदेश !

nirmala-sitaraman-air-force-station

नई दिल्ली : निर्मला सीतारमण ने गुरुवार 7 सितम्बर को रक्षामंत्री के तौर पर पदभार संभाला लिया. पदभार संभालते ही रक्षामंत्री एक्शन में आ गई हैं. रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने वो काम कर दिखाया, जो काम कांग्रेस पिछले 16 सालों में भी ना कर पायी. रविवार को छुट्टी मनाने की जगह रक्षामंत्री बाड़मेर के उतरलाई एयरफोर्स स्टेशन पहुंच गयी.


हथियार दे रहे हैं, ठोक डालो दुश्मनो को !

बता दें कि 1965, 1971 में पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध में उत्तरलाई एयरफोर्स स्टेशन की अहम भूमिका रही थी, इसके बावजूद पिछले 16 सालों में कोई भी कोंग्रेसी रक्षामंत्री यहाँ झाँकने तक नहीं आया. उत्तरलाई पहुंचते ही जवानों ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जवानो से कहा कि हथियार खरीदे जा रहे हैं, पुराने हथियारों को रिफिल किया जा रहा है तथा अन्य सभी जरूरतें भी पूरी की जा रही हैं, बस आप दुश्मन से मुकाबले के लिए तैयार रहिये. देश की ओर आँख उठाने वाले दुश्मनों को तबाह कर दीजिये.

रक्षा मंत्री ने यहां एयर ट्रैफिक कंट्रोल का जायजा लिया और जवानों के साथ नाश्ता कर उनकी समस्याएं भी सुनी. रक्षामंत्री ने फैसला लिया है कि वो प्रतिदिन सुबह 10 बजे 15-20 मिनट तक तीन सेनाओं के चीफ के साथ मीटिंग करेंगी और देश की सुरक्षा हालातों का जायजा लेंगी. उन्होंने एयरफोर्स अफसरों के साथ करीब आधे घंटे तक बात की और उत्तरलाई स्टेशन से जुडी तमाम जानकारियां लीं. यहाँ तक कि इस दौरान वो मिग 21 बाइसन लड़ाकू विमान के कॉकपिट में बैठ गयीं और इसकी ताकत की जानकारी ली.


पद संभालने के तुरंत बाद ही रक्षामंत्री ने अपने पहले फैसले के तौर पर रक्षा मंत्री एक्स-सर्विसमेन फंड (आरएमईडब्ल्यूएफ) से वित्तीय सहायता को मंजूरी दी. उन्होंने 8685 पूर्व सैनिकों, विधवाओं और आश्रित सैनिकों के लिए आर्म्ड फोर्सेज फ्लैग डे फंड से 13 करोड़ रुपये से अधिक का अनुदान जारी किया.

उन्होंने 8685 पूर्व सैनिकों, विधवाओं और आश्रित सैनिकों के लिए आर्म्ड फोर्सेज फ्लैग डे फंड से 13 करोड़ रुपये से अधिक का अनुदान जारी किया. पणजी में उन्होंने ‘नविका सागर परिक्रमा’ अभियान को भी हरी झंडी दिखाई. पोत के जरिए विश्व की परिक्रमा करने वाले इस महत्वपूर्ण अभियान का प्रबंधन भारतीय नौसेना के जिन क्रू-सदस्यों के हाथ में है, चालक दल में सभी महिलाएं हैं.

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने महिला क्रू-सदस्यों को सैल्यूट भी किया. इस दौरान उनके साथ पूर्व रक्षा मंत्री अरुण जेटली और मनोहर पर्रिकर भी मौजूद थे.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments