Home > ख़बरें > मोदी ने दीं 75 दिनों की खुली छूट तो एक ही दिन में यमदूत बन गए सीआरपीएफ के जवान, बिछा दीं लाशें

मोदी ने दीं 75 दिनों की खुली छूट तो एक ही दिन में यमदूत बन गए सीआरपीएफ के जवान, बिछा दीं लाशें

modi-crpf-naxal-attack

नई दिल्ली : सोमवार को नक्सलियों ने छत्‍तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ जवानों पर घात लगाकर हमला किया था, जिसमे 25 जवानों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था. जवानों के ऐसे भयानक नर-संहार को देख देशभर की जनता का गुस्सा फूट पड़ा. जिसके बाद खबर आयी थी कि पीएम मोदी ने सीआरपीएफ को 75 दिनों के लिए खुली छूट देते हुए नक्सलियों को ढेर करने के निर्देश दिए थे. इसी कड़ी में पहले ही दिन सीआरपीएफ की बड़ी कामयाबी की खबर सामने आयी है.

बिछा दीं नक्सलियों की लाशें !

दरअसल खबर आयी है कि कल बुद्धवार देर शाम सीआरपीएफ जवानों ने कम से कम 10 नक्सलियों को ठोक दिया है. कई नक्सलियों के बुरी तरह से घायल होने की भी खबर सामने आयी है. मारे गए नक्सलियों की संख्या में इजाफा होने की उम्मीद भी है. देश की सबसे बड़ी मीडिया एजेंसी एएनआई ने भी ट्वीट करके इसकी पुष्टि की है.


सूत्रों के मुताबिक़ सीआरपीएफ का ऑपरेशन अभी भी जारी है और बड़े पैमाने पर नक्सलियों की खोज की जा रही है. सीआरपीएफ की कोबरा टीम भी पूरी ताकत के साथ कॉम्बिंग ऑपरेशन में जुटी हुई है. खबर है कि सीआरपीएफ को नक्सलियों को देखते ही गोली मारने के आदेश मिले हुए हैं.

75 दिनों के लिए खुली छूट !

दरअसल कल ही खबर आयी थी कि पीएम मोदी ने गृह मंत्रालय को आदेश दिया है कि किसी भी कीमत में नक्सली बचने नहीं चाहिएं. सीआरपीएफ को तत्काल प्रभाव से अपनी सारी ताकत झोंक कर, किसी भी हाल में नक्सलियों को ढेर करने के निर्देश दिए गए थे. पीएम मोदी ने कड़ा रुख अपनाते हुए कहा था कि चाहे जहां कहीं भी छुप कर बैठे हों, घसीट कर बाहर निकालो और सीधे ठोक दो.

सीआरपीएफ को 75 दिनों के लिए खुली छूट देते हुए, निर्देश दिए गए थे कि जैसे चाहे वैसे एक्शन वो ले सकते हैं. जितनी फाॅर्स चाहिए, उतनी वो मांग सकते हैं. जैसे हथियार चाहिए, वैसे हथियार उन्हें मुहैय्या कराये जाएंगे लेकिन नक्सलियों को उनके अंजाम तक पहुंचाया जाए ताकि जवानों पर दोबारा कभी कोई हमला करने के बारे में सोचकर भी काँप जाए.

गौरतलब है कि सोमवार को नक्सलियों ने सुकमा के चिंतागुफा में सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा में लगी हुई सीआरपीएफ की टीम पर तब जबरदस्त हमला कर दिया था, जब वो गश्त के लिए निकली थी. टीम के बुरकापाल पहुंचते ही नक्सलियों ने चारों तरफ से घेरकर बमों और राकेट लांचर का इस्तेमाल किया जिससे 25 जवान शहीद हो गए थे. इसी हमले का जवाब देने के लिए सीआरपीएफ को 75 दिनों के लिए खुली छूट दीं गयी और पहले ही दिन उन्होंने 10 नक्सलियों को ठोक दिया.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments