Home > ख़बरें > आप चुनाव नतीजों में बिजी थे और वहां राहुल बाबा ने हारने का रिकॉर्ड बना दिया, हैरान रह गयी सोनिया भी !

आप चुनाव नतीजों में बिजी थे और वहां राहुल बाबा ने हारने का रिकॉर्ड बना दिया, हैरान रह गयी सोनिया भी !

congress-lost-under-rahul-gandhi-leadership

नई दिल्ली : जहां एक ओर पूरा देश पांच राज्यों के चुनावों के नतीजों की खुशियां मनाने में व्यस्त है, वहीँ कांग्रेस पार्टी से जुडी एक बड़ी खबर सामने आ रही है. कांग्रेस को तो अपने उपाध्यक्ष राहुल गांधी से काफी उम्मीद हैं और अब खबर आ रही है कि राहुल गांधी ने पिछले 5 सालों में चुनावों में एक तरह का रिकॉर्ड बना लिया है.


5 सालों में 24 चुनाव हारे !

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पिछले 5 सालों में 24 चुनाव हार कर राहुल गांधी ने एक तरह का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है. दरअसल 2013 में जब राहुल गांधी को कांग्रेस का उपाध्यक्ष बनाया गया था, तब देश में सत्ता यूपीए सरकार के हाथ में थी.

2009 में राहुल के उपाध्यक्ष बनने से पहले कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव जीत कर देश में यूपीए-2 सरकार बनायी थी. देश के कई अन्य राज्यों में भी कांग्रेस की सरकार थी लेकिन आज हालात ये हो चुकी है कि पार्टी के पास लोकसभा में मुख्य विपक्षी दल बनने लायक सांसद भी नहीं हैं. ज्यादातर राज्यों में भी पार्टी को करारी हार का मुह देखना पड़ा है.

भले ही सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष हों लेकिन बिमारी के चलते वो पिछले काफी वक़्त से राजनीति में पूरी तरह से सक्रीय नहीं है. ऐसे में पार्टी के सभी फैसले सीधे-सीधे राहुल द्वारा ही लिए जा रहे हैं और यही कारण है कि लगातार हो रही हार के लिए कई पार्टी कार्यकर्ता अब राहुल को ही जिम्मेदार ठहराने में लगे हैं.


धीर-धीर कांग्रेस मुक्त हो रहा है भारत !

2012 में पहला झटका कांग्रेस को तब लगा जब यूपी में 21 सांसद वाली कांग्रेस विधानसभा में केवल 28 सीटों पर सिमट के रह गयी. 2012 में कांग्रेस को चार राज्यों के चुनाव में हार का मुह देखना पड़ा था. पंजाब में अकाली-बीजेपी गठबंधन ने सरकार बना ली थी, उत्तराखंड में बड़ी मुश्किल से निर्दलियों के समर्थन से सरकार बन पायी जबकि गोवा और गुजरात में बीजेपी ने कांग्रेस को करारी शिकस्त दे दी थी.

2013 में तो खुद पीएम मनमोहन सिंह ने ये कहकर सबको चौंका दिया था कि वो राहुल के नेतृत्व में काम करने को तैयार हैं. लेकिन उसके बाद त्रिपुरा, दिल्ली, नगालैंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में करारी शिकस्त के बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में भी जबरदस्त हार ने राहुल के इस सपने पर पानी फेर दिया.

इसके बाद हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड और जम्मू कश्मीर में भी कांग्रेस का लगभग सफाया हो गया. इसके बाद असम, केरल और बंगाल में भी कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया. यानी कुल मिलाकर राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस 5 सालों में 24 चुनाव हार कर अर्श से फर्श पर आ गयी. हालांकि किसी भी हार के लिए उन्हें जिम्मेदार नहीं ठहराया गया लेकिन अब लग रहा है कि कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और नेताओं का धैर्य भी जवाब दे गया है और दबी आवाजों में राहुल का विरोध शुरू हो चुका है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments