Home > ख़बरें > सामने आया कांग्रेस का एक और घोटाला, अरबों रुपयों के इस घोटाले को देखकर सर चकरा जाएगा आपका

सामने आया कांग्रेस का एक और घोटाला, अरबों रुपयों के इस घोटाले को देखकर सर चकरा जाएगा आपका

upa-embraer-aircraft-scam

नई दिल्ली : कांग्रेस का नाम बदल कर घोटाला पार्टी रख देना चाहिए. हर रोज इनका कोई ना कोई नया घोटाला सामने आ जाता है. ऐसा लगने लगा है कि ऐसी तो कोई सरकारी परियोजना है ही नहीं जिसमे इन्होंने घोटाले ना किये हों. रक्षा सौदे के तहत अगस्ता हेलीकॉप्टर घोटाले के बाद अब एम्ब्रायर विमान घोटाला सामने आया है.

जेट विमान सौदे में कमीशन का आरोप

साल 2008 में यूपीए सरकार के दौरान किये गए “एम्ब्रायर विमान” सौदे में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की है। ये सौदा भी बिचौलिए के जरिये से किया गया जिसमे बड़ी घूस दी गयी. ये डील ब्राजीली एयरक्राफ्ट निर्माता कंपनी एम्ब्रायर के साथ की गयी थी, 208 मिलियन डॉलर की तीन EMB-145 जेट लड़ाकू विमानों के लिए हुई इस डील के लिए कंपनी की तरफ से ब्रिटेन स्थित बिचौलिये “विपिन खन्ना” को लगभग 60 लाख डॉलर का कमिशन दिए जाने का आरोप है.

loading...

सीबीआई ने दर्ज कराई एफआईआर

सीबीआई ने फिलहाल विपिन खन्ना को इस मामले का मुख्य अभियुक्त बनाया है। बिना नेताओं की मिलीभगत के तो इतना बड़ा घोटाला हो नहीं सकता इसलिए अब जांच की जायेगी कि इस घोटाले के तार किस-किस नेता से जुड़े हैं.

हाल ही में केंद्र सरकार ने ब्राज़ीली कंपनी एम्ब्रायर से कहा था कि वो इस सौदे की जांच करें। आपको बता दें कि एम्ब्रायर कंपनी दुनिया के तीसरे सबसे बड़े विमान निर्माता हैं. कंपनी से रक्षा मंत्रालय ने उन मीडिया रिपोर्टों के बारे में स्पष्टीकरण की मांग की थी, जिसमें ब्रिटेन में बसे भारतीय बिचौलिये विपिन खन्ना ने यह सौदा करवाया था.

मोदी सरकार सतर्क

अरबों रुपयों के इस सौदे के तहत तीन विमानों में स्वदेशी-निर्मित एयरबोर्न अर्ली वार्निंग तथा कंट्रोल सिस्टम रडार लगने थे। सौदे के तहत पहला विमान साल 2011 में भारत आया था, जबकि अन्य दो विमान साल 2013 में आए थे.

दरअसल सबसे पहले अमेरिकी न्याय विभाग ने एम्ब्रायर के खिलाफ रक्षा सौदों के दौरान रिश्वत लेने की जांच शुरू की थी, जिसके बाद मोदी सरकार में रक्षा मंत्रालय को भी इन सौदों पर शक होना शुरू हुआ. धीरे-धीरे पता चला कि कई अन्य देशों के साथ भी इसी तरह की डील की गयी थी और तब इस जांच में आठ देशों के साथ हुए व्यापारिक सौदे पकड़ में आए.

अब आपकी बारी

घोटाले के सौदागरों को क्या आप दुबारा कभी वोट देंगे? अपनी राय आप कमेंट द्वारा शेयर कर सकते हैं.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments