Home > ख़बरें > 2019 चुनाव से पहले कांग्रेस ने राम मंदिर को लेकर किया बड़ा एलान,बीजेपी समेत हिन्दू संगठनों की छूटी हंसी

2019 चुनाव से पहले कांग्रेस ने राम मंदिर को लेकर किया बड़ा एलान,बीजेपी समेत हिन्दू संगठनों की छूटी हंसी

नई दिल्ली : गुजरात और हिमाचल चुनाव हारने के बाद कांग्रेस अब 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी में अभी से लग गयी है, लेकिन ज़रा अलग अंदाज़ में. सभी राजनैतिक पार्टियां जो कल तक तुष्टिकरण की राजनीति करती थी वो अब हिन्दू कार्ड खेलने लगी हैं, गुजरात चुनाव में राहुल जनेऊधारी हिन्दू बन 27 मंदिर के दर्शन किये, तो अखिलेश ने भी चुनाव हारने के बाद अब हिंदुत्व की राह पकड़ ली है और कृष्णमूर्ति बनाने का आर्डर दिया है. ममता बनर्जी ने भी अभी ब्राह्मण सम्मलेन का आयोजन किया.


लेकिन कांग्रेस तो सब से दो कदम और आगे चलने जा रही है. जी हाँ 2019 चुनाव को लेकर कांग्रेस ने राम मंदिर को लेकर बड़ा एलान कर दिया है. जिसने सभी हिन्दू संगठनों के होश उड़ा दिए हैं.

कांग्रेस ने 2019 चुनाव से पहले राम मंदिर को लेकर किया बड़ा एलान

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक भाजपा जहां अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की कोशिशें तेज कर रही है, वहीं कांग्रेस ने गुजरात में 150 राम मंदिरों का पुनर्निर्माण कराने का एलान कर दिया है. गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जहां-जहां प्रचार करने गए और मंदिरों में दर्शन किए, उन इलाकों में मौजूद राम मंदिरों का पार्टी पुनर्निर्माण कराएगी.

ये नारा तो खूब सुना था कि “मंदिर वही बनाएंगे” लेकिन 2019 से पहले ही कांग्रेस बोल पड़ेगी और दस कदम आगे निकलते हुए कहेगी “एक नहीं 150 राम मंदिर बनाएंगे“. ये नारा इतनी जल्दी सुनने को मिलेगा,ये किसी ने नहीं सोचा होगा. वाकई आम आदमी के वोट में बड़ी ताक़त होती है.

तो वहीँ अब इस मुद्दे पर बीजेपी ने कांग्रेस पर कड़ा प्रहार किया है. गुजरात बीजेपी के प्रवक्ता भरत पंड्या ने कहा कि कांग्रेस को धर्म आधारित राजनीति छोड़ देनी चाहिए. उन्होंने कांग्रेस पर दोहरे मापदंड का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी के लिए हिंदुत्व दर्शन संस्कृति, परंपरा और सभ्यता है जबकि कांग्रेस के लिए यह राजनीतिक दंभ हो सकता है. कांग्रेस प्रवक्ता मनीष दोशी मानते हैं कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान जिन-जिन इलाकों में मंदिरों में गये पार्टी को वहां अच्छे नतीजे मिले.


आपको बता दें राहुल गांधी गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान सोमनाथ मंदिर, पाटनदेवी मंदिर, चामुंडा मंदिर समेत कई मंदिर पहुंचे थे. कांग्रेस अब इस एजेंडे को ध्यान में रखकर चुनाव अभियान चलाने कि रणनीति बना रही है. गुजरात विधानसभा में नेता विपक्ष परेश धानाणी ने कहा कि राम मंदिर कांग्रेस के लिए धर्म, आस्था का विषय है, जबकि बीजेपी के लिए नोट और वोट का जरिया.

इसीलिए कपिल सिब्बल राम मंदिर की सुनवाई टालना चाहते थे

अब इससे ये बात तो बहुत साफ़ हो गयी है कि सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस के कपिल सिब्बल ने ये दलील क्यों दी थी कि राम मंदिर की सुनवाई 2019 के चुनावों के बाद हो, क्यूंकि कांग्रेस राम मंदिर को लेकर अब राजनीति में नए सिरे से कूदने की तैयारी में है.

अमेठी के लोग आज भी आस लगाए हुए हैं

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस मे सौराष्ट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था. पार्टी वहां पर अपना जनाधार नहीं खोना चाहती है. कांग्रेस सौराष्ट्र के 148 गांवों में राम मंदिरों के काया-कल्प के लिए ‘श्रीराम सूर्योदय संध्या आरती कमेटी’ का गठन करने जा रही है. वहीं इन मंदिरों को कांग्रेस पूजा किट उपलब्ध करवाएगी। कार्यकर्ता सप्ताह में 14 बार नियम से उन मंदिरों में आरती और पूजा करेंगे. हालाँकि जीत तो कांग्रेस पिछले कई सालों से अमेठी में भी रही है, लेकिन आज तक अमेठी के लोगों का उद्धार कांग्रेस नहीं कर पायी.

अब देखना होगा कि कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों का मिशन 2019 के लिए हिंदुत्व को लेकर चुनावी दांव खेल दिया है, अब ये दांव कितना सफल होता है ये तो आने वाला समय ही बताएगा.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments