Home > ख़बरें > करोड़ों लोगों का दुःख दूर करते हुए सीएम योगी ने लिया सबसे बड़ा फैसला, पूरे यूपी में मची खलबली !

करोड़ों लोगों का दुःख दूर करते हुए सीएम योगी ने लिया सबसे बड़ा फैसला, पूरे यूपी में मची खलबली !

yogi-adityanath-rain-water-harvesting

लखनऊ : पद संभालने के बाद से यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ एक्शन मोड में नज़र आ रहे हैं. वो प्रदेश की हालत सुधारने के लिए तेजी के साथ ना केवल नए-नए फैसले ले रहे हैं बल्कि ये भी सुनिश्चित कर रहे हैं कि पहले से बने नियमों का भी सही तरीके से पालन किया जाए. अभी-अभी आयी एक खबर के मुताबिक़ उन्होंने एक और बेहद अहम् फैसला लेते हुए सभी को चौंका दिया है.


रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम !

एक अरसे से प्रदेश के लोग पानी की कमी से जूझते आ रहे हैं, कई इलाकों में तो पीने तक का साफ़ पानी उपलब्ध नहीं है. गर्मी के मौसम में तो हालात बद से बदतर हो जाते हैं. प्रदेश में लगातार तेजी से घट रहे भू-जल स्तर पर चिंता जाहिर करते हुए सीएम योगी ने जल-संरक्षण की दिशा में बेहद अहम् फैसला लिया है. रविवार को उन्होंने इस सिलसिले में एक्शन लेते हुए निर्देश दिए कि अबसे किसी भी मकान का नक्शा तभी पास किया जाए यदि उसमे अनिवार्य रूप से वर्षाजल संचयन प्रणाली यानि रेनवॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया गया हो.

शनिवार देर रात तक चली बैठक के दौरान नगर विकास विभाग के कामकाज की प्रेजेंटेशन देखने के बाद योगी ने प्रदेश के तेजी से घटते भू-जल पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि रेनवाटर हार्वेस्टिंग के द्वारा जल की कमी को पूरा किया जा सकता है.

पहले से बना है नियम !

इसके फ़ौरन बाद उन्होंने फरमान सुनाया कि अबसे सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी मकान का नक्शा तभी पास किया जाए, यदि उसमे रेनवाटर हार्वेस्टिंग का इंतजाम हो. सरकारी सूत्रों के मुताबिक़ योगी ने ये नया नियम नहीं बनाया है बल्कि लखनऊ समेत विभिन्न विकास प्राधिकरणों में नक्शे पास कराने के लिये ऐसा नियम तो पहले से ही बना हुआ है लेकिन पिछली सरकारों के वक़्त इसका सख्ती से पालन नहीं किया जाता था.

लेकिन अब सीएम योगी के कड़े निर्देश हैं कि इस नियम का हर हाल में पालन जरूर किया जाए. सीएम योगी ने कहा कि उनकी सरकार चाहती है कि ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्र की जनता को किसी भी मौसम में पानी से सम्बंधित कोई तकलीफ ना हो.


जल निगम को फटकार !

उन्होंने जल निगम को निर्देश दिए कि वो अपने कार्यकलापों को सुधारें और सभी सरकारी योजनाओं को उचित तरीके से पूरा करें. इसके साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि गर्मी की स्थिति को देखते हुए सभी जगहों पर पीने के शुद्ध पानी को उपलब्ब्ध कराया जाए. अगर जरुरत पड़े तो हैण्डपम्पों, नलकूपों को ‘रिबोर’ भी कराया जाए.

इसके बाद योगी ने निर्देश दिए कि आगरा में स्थापित की जा रही आगरा जल सम्पूर्ति (गंगा जल) परियोजना में मथुरा-वृन्दावन को भी जोड़ा जाए. उन्होंने सख्त निर्देश दिए कि इस परियोजना में देरी वो किसी भी हाल में वो बर्दाश्त नहीं करेंगे, उन्होंने कहा कि इस परियोजना को मार्च 2018 तक तय वक़्त के अंदर-अंदर पूरा किया जाये.

वहीँ सीएम योगी को जल निगम के कार्यों और काम करने के ढुलमुल रवैय्ये बिलकुल पसंद नहीं आये और उन्होंने जल निगम की कार्य पद्धति और संस्कृति में काफी सुधार की आवश्यकता भी जतायी. उन्होंने निर्देश दिए कि नगर विकास विभाग के तहत कराये जाने वाले विभिन्न प्रकार के कार्यां को ई-निविदा के जरिये से कराया जाए.

साफ़-सुथरे शहर और गड्ढा मुक्त सड़कें !

इसके बाद उन्होंने नगरों की साफ़-सफाई को लेकर निर्देश जारी किये कि नगरों में गन्दगी का नामो-निशान तक दिखाई नहीं देना चाहिए. साथ ही उन्होंने निर्देश दिया कि सड़कों पर एक भी गड्ढा ना दिखाई दे. सीएम ने कहा कि अगले 100 दिनों के अंदर-अंदर ये दोनों काम हो जाने चाहिए.

इसके साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि कानपुर, मेरठ, अलीगढ़, बरेली, गोरखपुर, झांसी, मुरादाबाद के साथ-साथ राज्य के विभिन्न जनपदों में चलायी जा रही जलापूर्ति योजनाओं को जल्द से जल्द पूरा किया जाए, ताकि राज्य के लोगों को पेयजल से जुडी कोई भी समस्या ना आने पाए.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments