Home > ख़बरें > अयोध्या पहुंचे सीएम योगी ने राम मंदिर की नींव पर जड़ा पहला पत्थर, ले लिया ऐतिहासिक फैसला

अयोध्या पहुंचे सीएम योगी ने राम मंदिर की नींव पर जड़ा पहला पत्थर, ले लिया ऐतिहासिक फैसला

अयोध्या : उत्तरप्रदेश में योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार अपने एक दिन के दौरे पर अयोध्या नगरी पहुंचे. सीएम बनने के बाद योगी अपने अयोध्या दौरे में सबसे पहले हनुमानगढ़ी के दर्शन किये. साथ ही उन्होंने रामजन्म भूमि पहुंचकर रामलला के दर्शन किये. इससे पहले सिर्फ राजनाथ सिंह ने 2002 में राम मंदिर पहुंचे थे, उसके बाद पिछले 15 सालों में किसी भी सीएम ने राम मंदिर में दर्शन नहीं किये. जैसे ही सीएम योगी हनुमानगढ़ी पहुंचे उसके बाद वहां का नज़ारा देखने लायक था.


सीएम योगी के हनुमानगढ़ी पहुंचते ही उनका जोर शोर से स्वागत होने लगा. भीड़ ने पुरे जोशीले अंदाज़ में “मंदिर वहीं बनाएंगे” के नारे लगाने शुरू कर दिए. हनुमानगढ़ी में दर्शन करने के बाद सीएम योगी रामजन्म भूमि पहुंचे जहाँ का सारा वातावरण “जय श्री राम” के नारों से गूंजने लगा. उसके बाद उन्होंने सरयू तट पर पूजा, अर्चना भी करी. यहाँ पर सीएम योगी ने सरयू नदी के घाटों के साफ़ सफाई एवम सौन्दर्यकरण के आदेश जारी किये.

सीएम योगी ने सरयू तट पर विशाल सरयू महोत्सव और वाराणसी में होने वाली गंगा आरती की तर्ज पर ही सरयू आरती कराने का भी जोर शोर से ऐलान किया.


पहले भी जा चुके हैं रामभक्त योगी आदित्यनाथ

यूपी के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी का अयोध्या से बहुत पुराना रिश्ता रहा है. अयोध्या का ये दौरा सिर्फ एक सीएम दौरा नहीं बल्कि रामभक्त सीएम योगी का दौरा कहा जा रहा है. मंगलवार से ही सीएम योगी के अयोध्या आने की आहट भर से ही लोगों ने पुरे उत्साह से राम मंदिर आंदोलन के ऑडियो टेप बजने से पूरी अयोध्या नगरी “एक ही नारा एक ही नाम , जय श्री राम जय श्री राम” ऐसे नारों से गूँज उठी. सीएम के स्वागत के लिए जगह-जगह द्वार बनाए गए हैं. जहाँ से भी वो गुज़र रहे हैं वह फूलों की बारिश करी जा रही है.

अपने गुरु की इच्छाओं को पूरा करेंगे सीएम योगी

महंत अवैद्यनाथ के दिगंबर अखाड़े के महंत रामचंद्र परमहंस के साथ काफी अच्छे संबंध थे. रामचंद्र परमहंस राम जन्मभूमि न्यास के पहले भी अध्यक्ष रह चुके थे. ये न्यास विशाल राम मन्दिर के निर्माण के लिए बनाया गया था. यही नहीं महंत अवैद्यनाथ खुद इसके सदस्य भी रहे हैं. महंत अवैद्यनाथ ने अपने जीवित रहते अपनी सारी विरासत अपने सबसे प्रिय और कर्तव्यनिष्ट शिष्य योगी आदित्यनाथ को सौंपी और उनको गोरखनाथ पीठ का उत्तराधिकारी भी बनाया. अब अपने गुरु की अधूरी इच्छाओं को शायद सीएम योगी पूरा कर सकेंगे. साथ ही मुख्यमंत्री योगी राम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के जन्मोत्सव कार्यक्रम में शामिल होंगे.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments