Home > ख़बरें > योगी राज में सिटी मजिस्ट्रेट ने छात्रा को दी गन्दी गाली, फिर जो हुआ उसे देख हिल गया शासन-पशासन !

योगी राज में सिटी मजिस्ट्रेट ने छात्रा को दी गन्दी गाली, फिर जो हुआ उसे देख हिल गया शासन-पशासन !

yogi-rajit-ram-prajapati

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पद संभालते ही प्रशासन को निर्देश दिए थे कि वो राज्य में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बेहद गंभीर हैं. इसी कड़ी में उन्होंने एंटी-रोमिओ स्क्वाड का गठन भी किया था. अब जहाँ एक ओर सीएम योगी पूरी शिद्दत से महिलाओं की सुरक्षा के लिए काम कर रहे हैं, वहीँ एक ऐसी खबर सामने आयी है जिसने यूपी ही नहीं बल्कि देशभर को हिला के रख दिया है.

छात्रा को सिटी मजिस्ट्रेट ने दी गाली !

खबर आयी है कि योगी राज में एक सिटी मजिस्ट्रेट के सर पर अपने ओहदे का नशा कुछ इस कदर चढ़ गया कि उन्होंने एक छात्रा को गाली बक डाली. छात्रा का कसूर केवल इतना सा था कि उसने अपने पड़ोस में किये जा रहे अवैध निर्माण की जानकारी सिटी मजिस्ट्रेट को दी.

ख़बरों के मुताबिक़ अवैध निर्माण की जानकारी मिलने के बावजूद सिटी मजिस्ट्रेट ने वहां पुलिस नहीं भेजी और जब छात्रा ने इस बारे में उन्हें दोबारा फोन किया तो उन्होंने छात्रा को गन्दी गाली दे डाली. छात्रा ने अब इसे लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिकायत कर दी है.

गाली देते हुए काट दिया फोन !

गौरतलब है कि सीएम ने प्रदेश के सभी अधिकारियों से अपील की थी कि वो राज्य की जनता से भद्र तरीके से बात करें, उनकी समस्याओं को सुने और ईमानदारी से सुलझाएं. लेकिन इस “नवाब” पर तो उनकी बातों का ज़रा भी असर नहीं दिखाई पड़ रहा. अपने पद के घमंड में आम जनता को अपने पाँव की जूती समझने वाले मजिस्ट्रेट साहब को गुस्सा आ गया कि एक छात्रा की हिम्मत कैसे हुई उन्हें फ़ोन करने की और तुरंत उन्होंने अपनी असभ्य व् गाली-गलोच भरी भाषा का इस्तमाल करके अपने संस्कारों का परिचय दे डाला.

दरअसल, 12 अप्रैल को सुनगढ़ी की एक छात्रा ने करीब आठ बजे सिटी मजिस्ट्रेट रजित राम प्रजापति को फोन किया और एक जागरूक नागरिक होने के नाते उन्हें जानकारी दी कि उसके पड़ोस में अवैध तरीके से निर्माण किया जा रहा है. इससे पहले छात्रा ने मजिस्ट्रेट साहब को दिन में भी इस बारे में फोन किया था. लेकिन दिन में फ़ोन करने के बावजूद जब मौके पर पुलिस नहीं पहुंची, तो छात्रा ने फिर से फ़ोन करके मजिस्ट्रेट साहब के सामने अपनी शिकायत दोहराई. कुछ देर तो प्रजापति छात्रा की बात सुनते रहे और उसके बाद उन्होंने छात्रा को गाली देते हुए फोन काट दिया.

रिकार्ड हो गई मजिस्ट्रेट साहब की गाली !

छात्रा के फोन में कॉल रिकार्डिंग हो रही थी, जिसके चलते मजिस्ट्रेट साहब की कॉल रिकार्ड हो गई. कुछ ही देर में ये रिकार्डिंग सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी. इसके साथ ही छात्रा ने इस अभद्रता की शिकायत मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से ईमेल के जरिये से की है. वहीँ अपनी कॉल रिकॉर्डिंग सुनकर और अब उनके खिलाफ क्या कार्यवाही होगी, ये सोचकर मजिस्ट्रेट साहब के पैर आसमान से कुछ जमीन पर टिके और उन्होंने इस बारे में सफाई देते हुए सारी गलती पुलिस के मत्थे मढ़ दी. उन्होंने कहा कि उन्होंने सुनगढ़ी पुलिस को मौके पर भेजा तो था, लेकिन पुलिस किसी अन्य जगह जाकर काम रुकवा आई.

छात्रा के साथ उन्होंने अभद्र भाषा का प्रयोग क्यों किया इस सवाल पर उनके मुँह में दही जम गया और उन्होंने सवाल का जवाब देना उचित नहीं समझा. सिटी मजिस्ट्रेट साहब हैं, उनकी मर्जी होगी तो जवाब देंगे वरना नहीं देंगे.

बहरहाल इस बारे में छात्रा का कहना है कि मौके पर पुलिस आयी ही नहीं, जिस दिन उसने फोन किया था रात भर वहां लेंटर डालने का काम चलता रहा. अब वहां काम रुक गया है लेकिन पुलिस या मजिस्ट्रेट साहब की वजह से नहीं बल्कि लेंटर डलने के बाद कुछ दिन के लिए काम रोकना ही पड़ता है, इसलिए काम रुका है. छात्रा ने आशंका जताई है कि यह काम फिर शुरू हो जाएगा.

वहीँ खबर है कि सीएम योगी आदित्यनाथ इस बारे में सख्त एक्शन लेने के मूड में हैं. कॉल रिकॉर्डिंग की जांच कराई जायेगी और मजिस्ट्रेट साहब के दोषी सिद्ध होने पर उनके सिर से पद के घमंड को उतारा जाएगा.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments