Home > ख़बरें > पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय सेना के एक्शन से पहले चीन आया बीच में, भारत को दी खुली चेतावनी !

पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय सेना के एक्शन से पहले चीन आया बीच में, भारत को दी खुली चेतावनी !

jinping-modi-nawaj

नई दिल्ली : पिछले काफी वक़्त से पाकिस्तान ने भारत को आँखें दिखानी शुरू कर दी हैं. आये दिन सीजफायर का उलंघन करना, आतंकी घुसपैठ करवाना और कश्मीरी अलगाववादियों को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान ने भारत की नाम में दम करके रख दिया है. दरअसल चीन की शह पर पाकिस्तान में इतना साहस आ गया है कि वो खुद से कई गुना ज्यादा बड़े और ताकतवर देश भारत पर खुलकर दादागिरी करने का दुःसाहस कर पा रहा है.

चीन की भारत को खुली चेतावनी !

हाल ही में भारतीय सैनिकों की पाकिस्तानी सेना द्वारा ह्त्या व् उनके शवों के साथ बर्बरता से भारत-पाक के बीच बढे तनाव के बीच चीन से भारत को परेशान करने वाली खबर आयी है. वन बेल्ट वन रोड (OBOR) पर भारत की आपत्ति और दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा से बौखलाए चीन ने भारत को खुली धमकी दे दी है.

चीन ने कहा है कि अब वो कश्मीर मुद्दे में सीधे दखल देगा. पाकिस्तान के पक्ष में अब तक बंद जुबान से बोल रहा चीन, अब खुल कर दुनिया के सामने भारत के खिलाफ खड़ा हो गया है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपी एक खबर के मुताबिक़ चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरिडोर यानी CPEC के जरिए चीन कश्मीर मुद्दे पर हस्तक्षेप करेगा.

खबर के मुताबिक वैसे तो चीन दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करता लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं है कि वो अपने निवेश की रक्षा को नजरअंदाज करे. दरअसल पाकिस्तान ने एक साजिश के तहत चीन को गिलगिट-बल्तिस्तान में चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरिडोर बनाने की इजाजत दे दी.

कश्मीर का हिस्सा है गिलगिट-बल्तिस्तान

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गिलगिट-बल्तिस्तान कश्मीर का वो हिस्सा है जिस पर पाकिस्तान ने अवैध रूप से कब्जा जमाया हुआ है. पाकिस्तान सरकार ने इस इलाके को ऑटोनॉमस रीजन घोषित कर रखा हैे लेकिन अवैध रूप से इसमें दखल भी देता आया है.

इस इलाके के लोग भी पाकिस्तान सरकार के विरोध में रहते हैं. पाकिस्तान को अच्छी तरह मालूम था कि भारत एक ना एक दिन अपने इस इलाके को पाकिस्तान से छीन लेगा, इसलिए उसने चीन के साथ मिलकर इस कॉरिडोर को बनाने की इजाजत दे दी ताकि पाकिस्तान को चीन का समर्थन प्राप्त हो जाए. वहीँ चीन को भी इससे काफी आर्थिक फायदा होगा, यानी दोनों के स्वार्थ सिद्ध हो गए.

चीन ने गिलगित-बल्तिस्तान से होकर जाने वाले वन बेल्ट, वन रोड में काफी पैसा निवेश किया है. अब वो इस इलाके में आने वाले मुद्दों में अपनी टांग अड़ाएगा, जिसमें कश्मीर मुद्दा भी शामिल है. वन बेल्ट-वन रोड प्रोजेक्ट के जरिए चीन सड़क मार्ग द्वारा सीधे एशिया, अफ्रीका और यूरोप से जुड़ जाएगा. वहीँ भारत इस कॉरिडोर पर अपनी आपत्ति जता चुका है, CPEC पर भारत के ऐतराज पर रूस भी भारत के समर्थन में खड़ा रहा है. लेकिन चीन ने इसे नज़रअंदाज करते हुए काम जारी रखा.

चीन को दिख रहा है आर्थिक फायदा !

CPEC के जरिये पाकिस्तान का कराची और ग्वादर पोर्ट चीन के शिनजियांग से जुड़ जाएगा. इस परियोजना के लिए चीन पाकिस्तान में 3 लाख करोड़ रुपए का भारी निवेश भी कर चुका है और 2015 से अब तक 3000 किलोमीटर का रेल और सड़क नेटवर्क भी बना चुका है. पिछले साल दिसंबर में चीन ने इस रेल नेटवर्क के जरिये पाकिस्तान अपनी पहली रेलगाड़ी भी भेज दी थी, जिसने चीन के कुन्मिंग से कराची तक 3500 किमी की दूरी तय की थी.

अभी तक चीन साइबेरियन रेल लाइन के जरिए अपना माल 12000 किमी दूर लंदन भेजता आया है, लेकिन सर्दियों में साइबेरियन रेल लाइन बर्फ़बारी के कारण बंद हो जाती है. ऐसे में चीन को माल समुद्री मार्ग के जरिए भेजना पड़ता है. मगर CPEC पर वन बेल्ट वन रोड परिजोयना शुरू हो जाने के बाद चीन सड़क और रेल मार्ग से 12 महीने माल भेज सकेगा.

क्या कर सकता है भारत ?

इसके साथ ही अभी 12000 किमी का सफर तब घटकर 8000 किमी रह जाएगा. यानी चीन को इससे व्यापारिक व् आर्थिक फायदा ही फायदा होगा. वहीँ पाकिस्तान को भारत के खिलाफ चीन का साथ मिलने से उसका भी फायदा. वहीँ जानकारों के मुताबिक़ चीन भारत को हलके में इसलिए लेता है क्योंकि लाख विरोध के बावजूद भारत की जनता सस्ते के लालच में फसकर चीनी सामान का बहिष्कार नहीं करती.

अंतर्राष्ट्रीय दबाव व् समझौतों के चलते भारत सरकार चीन के साथ व्यापारिक सम्बन्ध तो ख़त्म नहीं कर सकती लेकिन भारत की जनता चीन के सामान का बहिष्कार करके चीन को घुटनों पर ला सकते हैं लेकिन ऐसा कभी ना होने के कारण ही चीन चीन भारत को लगातार आँखें दिखाता रहता है और भारत पाकिस्तानी आतंकवाद के खिलाफ खुलकर बोल ही नहीं पाता.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments