Home > ख़बरें > अभी-अभी : भारत का चीन के खिलाफ बेहद जबरदस्त कदम, दहाड़े मार-मारकर रो रहा है चीन

अभी-अभी : भारत का चीन के खिलाफ बेहद जबरदस्त कदम, दहाड़े मार-मारकर रो रहा है चीन

china-economy-loss

नई दिल्ली : डोकलाम विवाद में चीन ने जोश-जोश में भारत को कई बार युद्ध की धमकियाँ तो दे दीं लेकिन उसका खामियाजा अब उसे भुगतना पड़ रहा है. ताजा खबर ये है कि चीन को इस बार दिवाली के मौके पर अरबों का नुक्सान उठाना पड़ रहा है. आमतौरपर दिवाली के मौके पर दिल्ली के बाजार चीनी उत्पादों से भरे रहते थे, लेकिन इस साल बाजार से चीनी सामान नदारद है.


चीन के साथ रिश्तों में कड़वाहट का असर दिल्ली के बाजारों पर साफ़ नजर आ रहा है. पिछले कुछ सालों से देखने में आ रहा है कि दिवाली के मौके पर दिल्ली के बाजार चीनी उत्पादों से भरे रहते थे, लेकिन इस बार यहां पर चीन के उत्पादों का वर्चस्व कम दिख रहा है. दिल्ली के प्रमुख बाजारों के व्यापारियों के मुताबिक़ इस बार दिवाली पर बिकने वाले चीनी सामान का ऑर्डर पिछले सालों के मुकाबले काफी कम दिया गया है.

आयात में आई बड़ी कमी

चीन से आने वाली रोशनी की लड़ियां, गिफ्ट आइटम, देवी-देवताओं की मूर्तियां, पटाखे, दीये जैसे आइटम की बाजारों में दिवाली से पहले बाढ़ आ जाती थी, लेकिन इस बार लोग चीनी सामान से कन्नी काट रहे हैं, इसी के चलते इनका आयात काफी कम हुआ है.

आप ट्रेड विंग के कन्वीनर बृजेश गोयल का कहना है कि डोकलाम विवाद के चलते चीन से होने वाले सामान के आयात में भारी कमी आयी है और दिवाली से पहले चीन से होने वाला आयात भी काफी कम हुआ है. उनके मुताबिक़ भारत और चीन के बीच अभी लगभग 71.5 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार होता है और पिछले 15 सालों में दोनों देशों के बीच व्यापार लगभग 24 गुना बढ़ गया है.


चीन को अरबों का नुक्सान

मगर चीन के कुकर्मों की सजा उसे इस साल मिली है और इस बार दिवाली पर चीन के सामान की बिक्री पिछले सालों की तुलना में आधी से भी कम हो गयी है. चीनी उत्पादों के लिए मशहूर भागीरथ प्लेस मार्केट के प्रधान भारत आहूजा ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इस साल चीनी उत्पादों को लेकर कारोबारी भी डरे हुए हैं. लोग चीनी सामान नकार रहे हैं, इसलिए व्यापारियों ने भी इस बार कम ऑर्डर दिए हैं.

इतना ही नहीं, पुराना स्टॉक भी कारोबारी कम मुनाफे पर बेच रहे हैं. बात दें कि पिछले साल भी दिवाली पर चीनी सामान के बहिष्कार की मुहिम चली थी और इस वजह से व्यापारियों को काफी नुकसान हुआ था. इस साल तो विवाद कुछ ज्यादा ही बढ़ गया था, जिसका खामियाजा चीन को अब उठाना पड़ रहा है.

ग्राहक नहीं ले रहे दिलचस्पी

फर्नीचर कारोबारी सुभाष खंडेलवाल का कहना है कि ग्राहक चीनी सामान की तुलना में भारतीय उत्पादों की ज्यादा मांग कर रहे हैं और इसी वजह से बाजारों में इस बार त्योहारों के सीजन में चीनी सामान की बिक्री में काफी कमी देखि जा रही है.

ग्राहक चीनी सामान का बहिष्कार कर रहे हैं, इसी के चलते व्यापारियों ने भी दिवाली पर बिकने वाले चीनी सामान का ऑर्डर कम कर दिया है. पिछले साल भी चीनी माल के बहिष्कार होने के कारण, वो माल भी अभी तक पड़ा ही है. इस साल उसी पिछले साल वाले स्टॉक को कम मुनाफे पर बेचा जा रहा है. व्यापारियों के अनुसार इस बार त्योहारों के दौरान चीनी सामान की बिक्री पिछले सालों की तुलना में 50 प्रतिशत से भी कम रहने का अनुमान है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments