Home > ख़बरें > मोदी का जलवा- चीन हुआ हिंदुत्व का मुरीद, कह दी बड़ी बात, मुस्लिम संगठनों के छूटे पसीने !

मोदी का जलवा- चीन हुआ हिंदुत्व का मुरीद, कह दी बड़ी बात, मुस्लिम संगठनों के छूटे पसीने !

china-hinduism

नई दिल्ली : पीएम मोदी यकीनन दुनिया के सबसे ताकतवर नेताओं में से एक हैं और उनकी सरकार में भारत की शक्ति भी कई गुना तक बढ़ गयी है. ऐसा हम नहीं बल्कि आप खुद कहेंगे, इस बेहद हैरतअंगेज खबर को पढ़कर. डोकलाम विवाद के दौरान चीन ने इस विवाद के लिए हिंदू राष्ट्रवाद को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया था, लेकिन अब वही चीन हिंदुत्व की तारीफें कर रहा है.

हिंदुत्व के कारण भारत में नहीं पनपा इस्लामिक चरमपंथ !

चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने एक आर्टिकल में भारत और हिंदुत्व की जमकर तारीफ़ की है. सबसे हैरानी की बात तो ये है कि ये आर्टिकल प्रधानमंत्री मोदी की चीन यात्रा पर जाने से ठीक पहले लिखा गया था. ग्लोबल टाइम्स के इस लेख में कहा गया है कि भारत में हिंदुत्व के कारण, इस्लामिक चरमपंथ यहां नहीं पनप सका. हिंदुत्व की तारीफ़ करते हुए लिखा गया कि कैसे यह धर्म की पहचान से भी आगे बढ़ते हुए जीवनशैली और सामाजिक व्यवस्था में तबदील हो गया.

इस लेख में 1995 में आई फिल्म ‘बॉम्बे’ का जिक्र किया गया है, जो 1992 में हुए दंगे पर आधारित है. जिसमे एक मुस्लिम महिला और एक हिंदू युवक को आपस में प्रेम हो जाता है और दोनों अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर शादी करते हैं. जिसके बाद दोनों सांप्रदायिक दंगे की आग में फंस जाते हैं. ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है ये फिल्म इस सवाल का जवाब है कि क्यों भारत में अन्य देशों से इतर कट्टर इस्लाम अपनी जगह नहीं बना पाया.

लेख में ये भी कहा गया कि एशिया के अन्य देशों में मौजूद कट्टर इस्लामिक संगठनों से इतर भारत में ऐसे कट्टर संगठन ना के बराबर हैं. लेख में फिलिपींस का हवाला देते हुए कहा गया कि कैसे इस्लामी कट्टरपंथियों ने पूरे इलाके को बर्बाद कर दिया.


दुनिया मानती है भारत का लोहा !

ग्लोबल टाइम्स ने भारत की तारीफ़ करते हुए लिखा, ‘पूरी दुनिया ने इस पर गौर किया है. इस्लामी कट्टरवाद की भारत में ना के बराबर मौजूदगी ने ही उसे एशिया में अहम देश बनाया है. जब एशिया से जुड़ी नीति की बात होती है तो अमेरिका, जापान, रूस और यूरोपीय देश भी इसे लेकर भारत का महत्व समझते हैं.’

बात दें कि डोकलाम विवाद के दौरान इसी ग्लोबल टाइम्स ने विवाद के लिए हिन्दू राष्ट्रवाद को जिम्मेदार ठहराया था. उस वक़्त ग्लोबल टाइम्स में कॉलमिस्ट यू यिंग ने अपने आर्टिकल में लिखा था कि भारत में बढ़ रहा हिंदू राष्ट्रवाद चीन के साथ युद्ध का कारण बन रहा है. भारत को अपने देश में बढ़ रहे इस हिंदू राष्ट्रवाद के प्रति सजग रहना चाहिए और इसे भारत-चीन के बीच में विवाद का कारण नहीं बनने देना चाहिए.

लेकिन भारत के सख्त रुख के चलते चीन की भाषा बदल गयी और अब उसे हिंदुत्व अच्छा लगने लगा है. हिंदुत्व की तारीफों के लिए उसके पास शब्द नहीं हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments