Home > ख़बरें > ब्रेकिंग- पाकिस्तान ने घोंपा चीन की पीठ में छुरा, गुस्से से उबल पड़े जिनपिंग, चीनी सेना आयी हरकत में

ब्रेकिंग- पाकिस्तान ने घोंपा चीन की पीठ में छुरा, गुस्से से उबल पड़े जिनपिंग, चीनी सेना आयी हरकत में

jinping-nawaj

नई दिल्ली : पाकिस्तान और चीन दोनों को यदि एक ही थाली के चट्टे-बट्टे कहा जाए तो कुछ गलत नहीं होगा. एक ओर तो चीन भारत के साथ दोस्ती दिखाता है, दूसरी ओर भारत के हितों के खिलाफ पाकिस्तान के साथ सांठ-गाँठ भी करता है. लेकिन चीन को भी अब उसकी करतूतों का फल मिलना शुरू हो चुका है.


पाक में चीनी नागरिकों की ह्त्या से आगबबूला चीन

खबर है कि जो चीन पाक आतंकियों का पक्ष लेता आया है, उसी के 2 चीनी नागरिकों को ना केवल पाकिस्तान में अगवा कर लिया गया बल्कि मार भी डाला गया. चीन टूडे ने अपनी एक रिपोर्ट में 2 चीनी नागरिकों के अगवा करने के बाद मारे जाने पर गंभीर चिंता जताई है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुइंग ने कहा कि चीन इस मामले को गंभीरता से ले रहा है.

वरना चीन की सेना घुस जायेगी पाकिस्तान में !

अपने नागरिकों को मरता हुआ देखकर चीन सकपकाया हुआ है. चीन ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि या तो पाकिस्तान आतंकियों को ख़त्म करे वरना चीन की सेना पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों का सफाया करेगी. चीन अपने किसी नागरिक की हत्या बर्दाश्त नहीं करेगा. हालात को देखते हुए पाकिस्तानी फ़ौज में हड़कंप मचा हुआ है और वो तेजी से आतंकियों को ढूंढने की कोशिशों में लग गए हैं.

क्योंकि यदि चीनी सेना पाकिस्तान में घुसी तो बड़े पैमाने पर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करेगी. एक बार यदि चीनी सेना पाक में प्रवेश करती है तो एक उदाहरण स्थापित हो जाएगा कि पाकिस्तान में दुसरे देशों की सेना घुस कर आतंकियों को मार सकती है. ऐसे में चीन भविष्य में बार-बार ऐसा कर सकता है और साथ ही भारत भी चीनी सेना का उदाहरण देते हुए अपनी सेना को पाकिस्तान में आसानी से घुसा कर आतंकियों पर कार्रवाई कर पायेगा.


ISIS ने ली है हमले की जिम्मेदारी

आईएसआईएस से जुडी अमाक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट में पाक आईएसआई ने दोनों चीनी नागरिकों को अगवा करके मारने की बात कबूली है. आतंकियों ने एक युवा चीनी जोड़े को पिछले महीने ही अगवा कर लिया गया था. ये दोनों ही पाकिस्तान में चीनी भाषा पढ़ाते थें. बाद में इनकी ह्त्या भी कर दी गयी.

सीपेक प्रोजेक्ट से जुड़ा है मामला

दरअसल चीन पाकिस्तान में भारी निवेश कर के करीब 3 लाख करोड़ की लागत से चीन-पाकिस्तान इकॉनामिक कौरिडोर बनवा रहा है. इसी के चलते पाकिस्तान में कई चीनी नागरिक रह रहे हैं. प्रोजेक्ट की योजना के तहत हजारों चीनी कर्मी इस प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए पाकिस्तान आने वाले हैं. बलूचिस्तान में ग्वादर बंदरगाह को एक बड़ा व्यापार स्थल के रुप में विकसित करने के लिए भी चीनी कर्मी वहां आ रहे हैं.

वहीँ बलोच लोगों को भी पाकिस्तान के इस प्रोजेक्ट से ऐतराज है और वो इसका विरोध कर रहे हैं. अबतक सीपेक से जुड़े करीब 44 पाक नागरिक भी मारे जा चुके हैं. पिछले महीने भी ग्वादर बंदरगाह के पास 10 मजदूरों को गोली मार दी गई थी.

चीन ने पाकिस्तान को अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए और कारगर कदम उठाने को कहा है. यदि चीनी नागरिकों पर हमले नहीं रुकते हैं तो सीपेक प्रोजेक्ट पर भी खतरा हो सकता है. जिसकी होने की आशंका ज्यादा है क्योंकि पाकिस्तान में आतंकी हमले रोक पाना वैसे भी असंभव है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments