Home > ख़बरें > मोदीराज में भारत की ताकत देख बुरी तरह बौखलाए चीन ने उठाया बड़ा कदम, दुनियाभर के देश हैरान

मोदीराज में भारत की ताकत देख बुरी तरह बौखलाए चीन ने उठाया बड़ा कदम, दुनियाभर के देश हैरान

china-india

बीजिंग : अभी हाल ही में पीएम मोदी के रूस दौरे के दौरान भारत और रूस के बीच एस-400 डिफेंस सिस्टम को लेकर डील हुई है. एस-400 डिफेंस सिस्टम युद्ध के दौरान एक साथ 36 मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम है. वहीँ फ्रांस के साथ राफेल जेट को लेकर डील भी हो चुकी है. राफेल का तोड़ चीन तक के पास नहीं है. ऐसे में भारत की लगातार बढ़ती जा रही ताकत से चीन के माथे पर चिंता की लकीरें आ गयी हैं और उसने एक बड़ा फैसला लिया है.

चीन अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाने के लिए ऐसे आर्मर्ड एमफिबियन वीइकल बनाने में जुटा है, जो पानी और जमीन पर सबसे तेज गति से चल सके. बताया जा रहा है कि चीन ऐसा आर्मर्ड वीइकल बना रहा है तो जमीन और पानी में कम से कम 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सके.

सबसे पहले अमेरिका ने ऐसा एमफिबियस वीइकल तैयार किया था, जो सबसे तेज चलता था, लेकिन पानी में इसकी गति लगभग 9 किलोमीटर प्रतिघंटे तक ही रहती थी. बताया जा रहा है कि कॉम्पैक्ट पंपजेट की मदद से ये सबसे तेज चलने वाला एमफिबियस वीइकल है, जो अपने आकार की वजह से पानी में तेज लहरों को काटते हुए आगे बढ़ता है. लेकिन अब चीन अमेरिका के एमफिबियस वीइकल को पीछे छोड़ते हुए ऐसे आर्मर्ड एमफिबियन वीइकल बनाने में जुट गया है, जिसके पुर्जे काफी हलके होंगे, जिसकी मदद से ये पानी में भी करीब 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से चल सकेगा.

चीन की महत्वाकांक्षा और उसकी विस्‍तारवादी नीति अब पूरी दुनिया के सामने खुलकर आ चुकी है. चीन की इस नीति से छोटे देश ही नहीं बल्कि दुनिया के बड़े देश भी परेशानी में आ गए हैं. अपनी इसी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए चीन लगातार अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाने में जुटा है. वहीँ भारत की बढ़ती हुई ताकत को देखते हुए भी चीन अपनी सैन्य शक्ति को बढ़ाता जा रहा है.

रूस के साथ भारत की S-400 एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम’ और 200 ‘कामोव केए-226 टी’ हेलिकॉप्टर खरीदने की डील भी हो गयी है. S-400 Triumf एक ऐसी विमान भेदी मिसाइल है, जिसका इस्तमाल खुद रूसी सेना भी करती है. इस डिफेंस सिस्टम से दुश्मनों के विमानों, क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलों के साथ ज़मीनी ठिकानों को भी तबाह किया जा सकता है. इन मिसाइलों की मारक क्षमता 400 किलोमीटर तक की हैं. सबसे ख़ास बात तो ये है कि इस सिस्टम के द्वारा अमेरिका के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट एफ-35 को भी तबाह किया जा सकता है.

इसके बाद से चीन और भी ज्यादा बौखला गया है और तेजी से अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाने के बारे में सोच रहा है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments