Home > ख़बरें > कंगाल पाकिस्तान का साथ देने वाले चीन पर टूट पड़ा मुसीबतों का पहाड़, दुखों के सागर में डूबे जिनपिंग !

कंगाल पाकिस्तान का साथ देने वाले चीन पर टूट पड़ा मुसीबतों का पहाड़, दुखों के सागर में डूबे जिनपिंग !

Xi-Jinping-modi-nawaj

नई दिल्ली : जहाँ एक ओर भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ती ही जा रही है, वहीँ पाकिस्तान को मोहरा बनाकर शकुनि की तरह चाले चलने वाले चीन को उसके पापों का फल मिल रहा है. जिस वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट के लिए उसने भारत के आपत्ति जताने के बावजूद पाकिस्तान के साथ करार किया था, अब उसी के अस्तित्व को लेकर संकट खड़े हो गए हैं.

कंगाल होने की कगार पर चीन, बंद होगा OBOR प्रोजेक्ट !

दरअसल चीन पर कर्ज बढ़ने, बैंकिंग सिस्टम में कमियों, पोंजी स्कीमों और चीन में घाटे वाली कंपनियों की संख्या बढ़ने के बाद चीन का वन बेल्ट वन रोड (OBOR) प्रोजेक्ट बंद होने के कागार पर आ गया है. चीन में एक के बाद एक कई समस्याएँ खड़ी होने के कारण इस प्रोजेक्ट की फंडिंग में दिक्कत हो सकती है.

चीन को लेकर आयी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि रेटिंग एजेंसी मूडीज के चीन की सॉवरेन डेट रेटिंग डाउनग्रेड करने के फैसले के बाद वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट को रोका जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक़ वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट का भविष्य अधर में लटक गया है और ये पूरा हो पायेगा या नहीं, ये इस बात पर निर्भर करेगा कि मूडीज की ओर से जताई गई आशंका से निपटने के लिए चीन क्या कदम उठाता है.

तो मटियामेट हो जाएगा पाकिस्तान !

यदि चीन ने तेजी से कुछ कड़े फैसले नहीं लिए तो विश्व बैंक व् अन्य संस्थाओं से मिलने वाला कर्ज उसे दिया जाना बंद हो सकता है. बिना पैसे के प्रोजेक्ट बीच में ही रुक जाएगा और चीन का बेतहाशा नुक्सान होगा. सबसे ज्यादा नुक्सान तो पाकिस्तान का होगा, जिसने चीन के आसरे भारत से पंगा लिया हुआ है.


इसके साथ ही चीन को उन कमजोर देशों के साथ समझौते के बारे में भी विचार करना होगा जिनमें वन बेल्ट वन रोड के तहत इंफ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट बनाए जाने हैं. रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि चीन बड़े पैमाने पर दुनिया की आँखों में धूल झोंक रहा है. चीन में बेरोजगारी दर तेजी से बढ़ती जा रही है लेकिन दुनिया की नजरों में अपनी इज्जत व् साख बचाये रखने के लिए वो अपने बैंकिंग सेक्टर से जुड़े बहुत से आंकड़ों में गड़बड़ी कर रहा है.

चीन में बढ़ रही है धांधलीबाजी !

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि चीन में शैडो बैंकिंग और पोंजी स्कीम काफी आम हैं और इससे उसकी इकॉनमी को नुकसान हो सकता है. शैडो बैंकिंग का मतलब नियमित बैंकिंग सिस्टम से बाहर दिए जाने वाले कर्ज से होता है. आसानी से कर्ज लेने के लिए चीन में कारोबारियों सहित काफी लोग शैडो बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं.

इसके अलावा चीन में पोंजी स्कीमें भी धड़ल्ले से चल रही हैं. पिछले साल एक ऑनलाइन फाइनेंस कंपनी ने एक बड़ी पोंजी स्कीम चलाई और उसके जरिये से हजारों छोटे निवेशकों के 6.7 अरब डॉलर से अधिक रकम लूट ली थी. इसके अलावा चीन में बिना बीमा वाले वेल्थ मैनेजमेंट इंस्ट्रूमेंट्स और घाटे में चल रही कंपनियों की भी बड़ी संख्या है. इन समस्याओं के कारण चीन का वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट पटरी से उतर सकता है.

यानी देखा जाए तो चीन बाहर से जैसा दिखाता है, वैसा अंदर से नहीं है बल्कि अंदर से चीन की हालत खस्ता होती जा रही है. पाकिस्तान चीन के आसरे बैठा हुआ है और भारत से दुश्मनी मोल ले रहा है. यदि चीन का दिवाला पिट गया तो सबसे ज्यादा मुश्किल पाकिस्तान को ही होने वाली है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

हमारे साथ सीखिए ब्लॉग लिखना और घर बैठे कमाइए पैसे. तीन दिन का कोर्स ज्वाइन करने के लिए 9990166776 पर Whatsapp करें.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments