Home > ख़बरें > पाकिस्तान के खिलाफ गुस्से में आये मोदी ने सुनाया ऐतिहासिक सरकारी फरमान, दिया सबसे बड़ा दर्द

पाकिस्तान के खिलाफ गुस्से में आये मोदी ने सुनाया ऐतिहासिक सरकारी फरमान, दिया सबसे बड़ा दर्द

nawaz-sharif-modi

नई दिल्ली : पाकिस्तान के साथ जितनी बार भी भारत ने अच्छे संबंध बनाने की कोशिश की है, बदले में पाकिस्तान ने सिर्फ धोखा ही दिया है. भारत की दोस्ती के जवाब में पाकिस्तान की ओर से हमारे सैनिकों के सर काटे गए हैं. साम और दाम के बाद अब पाकिस्तान को दंड देना जरूरी हो चुका है. पीएम मोदी ने अब पाकिस्तान को दंड देना शुरू कर दिया है.

पाकिस्तान के खिलाफ पहला बड़ा एक्शन

जहां एक ओर बॉर्डर पर प्रतिदिन भारतीय सेना पाक फ़ौज की अक्ल ठिकाने लगा रही है, वहीँ मोदी सरकार ने पाकिस्तान के खिलाफ कई अन्य बड़े फैसले ले लिए हैं. आपको बता दें कि अभी कुछ वक़्त पहले ही पाकिस्तान में बिजली की मांग काफी बढ़ गई थी. आतंकवाद में व्यस्त पाकिस्तान में इतनी बिजली नहीं बनती, ऐसे में उसके पास कोई रास्ता नहीं बचा था कि वो बिजली कहाँ से लें. मजबूरन उसने भारत से बिजली खरीदने की पेशकश रखी.

पाकिस्तान में रिकॉर्ड तोड़ गर्मी पड़ रही थी, जिसके चलते सिंधु और दक्षिण पंजाब में तापमान 48 डिग्री तक पहुँच गया था. पाकिस्तान में पड़ रही भयानक गर्मी के चलते वहां के लोगों को बिना बिजली के घंटों रहना पड़ रहा था. भारत से बिजली मिलने की उम्मीद में बैठे पाकिस्तान की नींद एक खबर ने उड़ा दी. बताया जा रहा है कि भारत की ओर से पाकिस्तान को बिजली देने से साफ़ इनकार कर दिया.

पाकिस्तान के खिलाफ दूसरा बड़ा एक्शन

केवल इतना ही नहीं बल्कि मोदी सरकार ने एक और ऐसा बड़ा कदम उठाया है जिसके बाद पाकिस्तान अपने घुटनों पर आने के लिए मजबूर हो जायेगा. व्यापार के जरिये भारत से काफी पैसे कमाए पाकिस्तान ने, लेकिन अब सरकार ने पीओके से व्यापार बंद करने का फैसला लिया है.

कश्मीर में हिंसा और आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तान से आ रहे पैसे के प्रवाह को रोकने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय इस मुद्दे पर गंभीर हो गया है. अलगाववादियों पर चल रही एनआईए की जांच में पाकिस्तान से हवाला के जरिये अलगाववादियों को मिल रहे कालेधन में पीओके व्यापार से जुड़े कुछ व्यापारियों के नामों का खुलासा हुआ है.

यही वजह है कि केंद्र सरकार ने पीओके से व्यापार के विस्तार के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. महबूबा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पीओके से व्यापार के चार नए रास्ते खोलने और पीओके जाने के लिए जारी परमिट व्यवस्था को खत्म करने की मांग की थी.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से फोन पर बातचीत कर पीओके से होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी ली है. एनआईए की जांच व् अलगाववादियों से पूछताछ के बाद की गयी छापेमारी में जम्मू और पांपोर के दो बड़े ड्राई फ्रूट व्यापारियों के नाम सामने आए हैं जो पाकिस्तान से पैसे अलगाववादियों तक पहुंचाते थे. एनआईए के मुताबिक अलगाववादियों को अराजकता फैलाने के लिए पाकिस्तान से आने वाले पैसे में कुछ और व्यापारियों के नामों की खुलासा हो सकता है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments